Home /News /uttar-pradesh /

the most noise pollution in silent zone of noida report of uppcb police dlnh

नोएडा के साइलेंट जोन में ही हो रहा सबसे ज्यादा ध्वनि प्रदूषण, जानें वजह

रिपोर्ट में सामने आया है कि साइलेंट जोन में तय मानक से 20 डेसिबल तक ज्यादा शोरगुल हो रहा है.  Demo pic

रिपोर्ट में सामने आया है कि साइलेंट जोन में तय मानक से 20 डेसिबल तक ज्यादा शोरगुल हो रहा है. Demo pic

उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (UPPCB) के मुताबिक नोएडा (Noida) के हर क्षेत्र को जोन के अुनसार बांटा गया है. महीने में दो बार हर जोन में ध्वनि प्रदूषण (Noise Pollution) की जांच की जाती है. जांच रिपोर्ट सभी विभागों को भेजी जाती है. इसके बाद सभी संबंधित विभाग अपने अधिकार क्षेत्र में कार्रवाई करते हैं. रिपोर्ट में सामने आया कि सबसे अधिक ध्वनि प्रदूषण व्यावसायिक, रिहायशी और साइलेंट जोन (Silent Zone) में हो रहा है.

अधिक पढ़ें ...

    नोएडा. उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (UPPCB) की नोएडा के मामले में एक खासी चौंकाने वाली रिपोर्ट सामने आई है. रिपोर्ट के मुताबिक नोएडा में जहां सबसे कम ध्वनि प्रदूषण (Noise Pollution) होना चाहिए वहीं पर सबसे ज्यादा प्रदूषण हो रहा है. यह वो इलाके हैं जो साइलेंट जोन घोषित हैं. यह वो इलाके हैं जहां स्कूल-कॉलेज (School-College) और अस्पताल हैं. रिपोर्ट में सामने आया है कि साइलेंट जोन (Silent Zone) में तय मानक से 20 डेसिबल तक ज्यादा शोरगुल हो रहा है. और यह तब है जब नोएडा में ध्वनि प्रदूषण रोकने के लिए अभियान चलाया जा रहा है. ध्वनि प्रदूषण की सबसे बड़ी वजह बाइक-कार (Bike-Car) और बड़े वाहन बताए जा रहे हैं.

     इंडस्ट्रियल इलाका सामान्य और साइलेंट जोन में प्रदूषण

    यूपीपीसीबी की फरवरी की रिपोर्ट के मुताबिक जिले के साइलेंट जोन (स्कूल-कॉलेज और अस्पताल के आसपास 66.8 डेसिबल ध्वनि प्रदूषण दिन में और रात में 58.5 डेसिबल तक रहता है. जबकि बोर्ड के मानकों के मुताबिक ध्वनि का लेवल दिन में 50 तो रात में 40 डेसिबल तक होना चाहिए. मतलब यह कि दिन में 16.8 डेसिबल तो रात में 18.5 डेसिबल तक ध्वनि का लेवल ज्यादा रहता है.

    जबकि हैरान करने वाली बात यह है कि इंडस्ट्रियल इलाके में यह सामान्य बना हुआ है. हैरान करने वाली बात है कि जिन स्कूल-कॉलेजों और अस्पताल के आसपास ध्वनि का स्तर तय मानक से अधिक नहीं होना चाहिए वहीं सबसे ज्यादा बना हुआ है.

    फोकट में ताजमहल देखने वालों से परेशान हैं अफसर, सोशल मीडिया पर मांगी मदद

    10 हजार का चालान, फिर भी टूट रहा कानून

    गौतम बुद्ध नगर के नोएडा और ग्रेटर नोएडा में हर कहीं हॉर्न बजाने की मनाही है. नोएडा-ग्रेटर नोएडा ट्रैफिक पुलिस ने इस संबंध में एक अभियान शुरू किया था. अभियान के तहत जिले के साइलेंट जोन में ट्रैफिक पुलिस कर्मियों की तैनाती की गई थी. पुलिसकर्मी साइलेंट जोन में हॉर्न बजाने वालों के खिलाफ कार्रवाई कर रहे हैं.

    10 हजार रुपये तक का चालान भी काटा जा रहा है. हालांकि साइलेंट जोन में एक तय मानक पर ही हॉर्न बजाने की अनुमति दी गई है. शुरूआती हफ्ते में जागरुकता अभियान भी चलाया गया था. इसके साथ ही शहरभर में प्रेशर हॉर्न बजाने वाले वाहनों के खिलाफ भी कड़ी कार्रवाई की जा रही है.

    Tags: Air pollution, Greater noida news, Noida Police, School

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर