Home /News /uttar-pradesh /

three chinese citizens arrest from noida by up stf indo nepal border noida police bihar dlnh

नोएडा में बिना वीजा के रह रहे थे 3 चीनी नागरिक, एसटीएफ ने पकड़कर भेजा जेल

3 और चीनी नागरिक स्पेशल टॉस्क फोर्स, यूपी के हत्थे चढ़े हैं. यह बिना वीजा के नोएडा में रह रहे थे.

3 और चीनी नागरिक स्पेशल टॉस्क फोर्स, यूपी के हत्थे चढ़े हैं. यह बिना वीजा के नोएडा में रह रहे थे.

स्पेशल टॉस्क फोर्स ने नेपाल बॉर्डर से गिरफ्तार दो चीनी नागरिकों को रिमांड पर लेकर पूछताछ की थी. पूछताछ में पता चला कि तीन और चीनी नागरिक अवैध रूप से नोएडा में रह रहे हैं. तीनों चाइनीज नोएडा सेक्टर-63 की जिस फैक्ट्री में काम कर रहे थे वो रवि नटवरलाल और जू फाई की बताई जा रही है. एसटीएफ समेत केन्द्र की भी कई जांच एजेंसियां जांच में लगी हैं.

अधिक पढ़ें ...

नोएडा. तीन और चीनी नागरिक बिना वीजा के नोएडा में रहते मिले हैं. एसटीएफ ने तीनों को अदालत में पेशकर जेल भेज दिया है. जिस फैक्ट्री से तीनों चीनी नागरिकों की गिरफ्तारी हुई है वहां से एसटीएफ को ढाई किलो वजन की चिप भी मिली हैं. ऐसी संभावना है कि इसी तरह की चिप में भारतीयों का डेटा चीन भेजा जा रहा था. इससे पहले दो चीनी नागरिकों को नेपाल बॉर्डर से पकड़ा गया था. इसी के बाद से नोएडा में चीनी नागरिकों के नेटवर्क का पता चला है. नोएडा में एक चाइनीज क्लब से नॉर्थ की रहने वाली कुछ लड़कियों की गिरफ्तारी भी हुई है.

नेपाल बार्डर के रास्ते भारत से चीन भागते वक्त 11 जून को जासूसी के शक में चीनी नागरिक लू लैंग और यू हेलंग को गिरफ्तार किया गया था. इस घटना के बाद ही नोएडा में चाइनीज क्लब की मैनेजर असम निवासी एलन समेत पांच आरोपियों को और एसटीएफ गिरफ्तार किया था. बाद में रिमांड पर लेकर की गई पूछताछ में लू लैंग और यू हेलंग की निशानदेही पर एसटीएफ ने कुछ सामान और कागजात बरामद किए थे.

अभी जिन तीन चीनी नागरिकों को गिरफ्तार किया गया है उसमेएक रायन उर्फ रेन चाओ निवासी हेइलोंगजियांग है . इसका वीजा 31 अगस्त 2020 खत्म हो गया था. जेंग हाओझे निवासी गुआंडोंज प्रांत का वीजा 8 मार्च 2020 को खत्म हो गया था. और जेंगे डे निवासी गुआंडोंज प्रांत का वीजा पुलिस बरामद नहीं कर पाई है.

अब एक कॉल पर फ्री में उठेगा कंस्ट्रक्शन एंड डिमोलिशन वेस्ट, जानें प्लान

जांच एजेंसी को मिला फरार जॉनसन का सुराग

सूत्रों के अनुसार, मामले की जांच एसटीएफ के अलावा प्रदेश और राष्ट्रीय स्तर की जांच व खुफिया एजेंसियां भी कर रही हैं. अधिकारियों को फरार आरोपी जॉनसन (रवि नटवरलाल और जू फाई का साझेदार) के संबंध में ठोस सुराग मिले हैं. जांच एजेंसी आरोपी की गिरफ्तारी की कोशिश में है.

फैक्टरी के जरिए होने वाले स्क्रैप की बड़े स्तर पर खरीद-फरोख्त और अवैध रूप से प्रोसेसिंग चिप आदि चीन भेजने के मामले में जॉनसन की बड़ी भूमिका बताई जा रही है. इन्हीं चिप से लाखों भारतीयों का डेटा चीन भेजने की आशंका है. जॉनसन ने ही ग्रेटर नोएडा के घरबरा में संचालित चाइनीज क्लब का अनुबंध एक नेता के बेटे से किया था.

10 जून तक नोएडा की जेपी ग्रींस में रहे थे लू लैंग और यूं हेलंग

सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) ने 11 जून को बिहार, सीतामढ़ी के रास्ते भारत-नेपाल बॉर्डर को पार कर रहे दो चीनी नागरिकों को गिरफ्तार किया था. दोनों आरोपियों ने अपना नाम लू लैंग (30) और यूं हेलंग (34) बताया है. दोनों ने एसएसबी को पूछताछ में बताया था कि वो 15 दिन तक नोएडा में रहे थे. बाद में नोएडा पुलिस ने भी इसकी पुष्टि की थी. दोनों लोग जेपी ग्रींस सोसाइटी में लगे सीसीटीवी फुटेज में पाए गए थे. साथ ही दोनों आरोपियों ने अपने दोस्त कैरी के फ्लैट पर रुकने की बात कही थी. अवैध रूप से चीनी नागरिकों के नोएडा में रहने की बात सामने आने पर ही नोएडा पुलिस अलर्ट हुई थी.

Tags: China, Noida Police, UP STF

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर