Home /News /uttar-pradesh /

प्रेरणा: नेहा देवी और रामकेश दृष्टिहीन होने के बावजूद निभा रहें आदर्श माता-पिता होने का फर्ज

प्रेरणा: नेहा देवी और रामकेश दृष्टिहीन होने के बावजूद निभा रहें आदर्श माता-पिता होने का फर्ज

अपने

अपने बच्चों को स्कूल छोड़ने जाती दिव्यांग मां

नेहा बताती है कि मेरे बच्चे पढ़ लिख लेंगे तो वो हमारी तरह सड़कों पर रोजी रोटी के लिये नहीं भटकेंगे.

    प्रेरणा: नेहा देवी और रामकेश के दृष्टिहीन होने के बावजूद एक आदर्श माता-पिता होने का फर्ज निभा रहें हैं.हर रोज अपने बच्चों में शिक्षा का प्रकाश जगाने के लिए पूरी शिद्दत से फर्ज निभा रहें हैं.  कौन कहता है आसमान में सुराख नहीं हो सकता? एक पत्थर तो तबियत से उछालो यारो, दुष्यंत कुमार की यह कविता लाखों लोगों की प्रेरणा का श्रोत है. ऐसे ही एक दिव्यांग दंपती नोएडा के सेक्टर 22 में रहत है, जो दृष्टिहीन होने के बावजूद शिक्षा की अहमियत को समझते है और बच्चो को पढ़ाने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं. दृष्टिहीन मां नेहा देवी हर रोज सुबह शिवम और मंदीप को तैयार कर स्कूल छोड़ने जाती है.

    दो साल तक किसी स्कूल में नहीं मिला था दाखिला 
    नेहा देवी (33 वर्ष) मूलतः बिहार के गोपालगंज की रहने वाली है, वो 17 साल की उम्र में बीमार पड़ी थी जिसके बाद उनकी आंखे चली गई. उनकी शादी मध्यप्रदेश के रामकेश साथ हुई थी, रामकेश भी दृष्टिहीन ही है. नेहा देवी बताती है कि उसके दो बेटे है, दोनो को पढ़ाने के लिए मैंने कई जगह कोशिश की लेकिन कही एडमिशन नहीं हो पाया. केंद्रीय विद्यालय में भी एडमिशन लिस्ट में नाम तो आया था लेकिन वहां पर शिक्षक ने एडमिशन नहीं होने दिया.लेकिन उन्होंने ने हार नही मानी और अपने दोनो बच्चों को शिक्षित करने के लिए एनजीओ द्वारा संचालित स्कूल का रुख किया.उसके बाद अपनी दृष्टिहीन की बेड़ियों को तोड़ते हुए रोजाना बच्चों को तैयार कर समय से पहले स्कूल पहुंच जाती हैं बस उनका एक ही सपना है कि जैसे हम भटक रहें है तो ऐसे बड़े होकर हमारे बच्चें पढ़ लिख कर अपने पैरों पर खड़े हो जाए और उन्हे एक अच्छा जीवन मिले.

    सर आप फ्री में पढ़ाते है?
    शुभम और मंदीप को नोएडा के ही एक युवक प्रिंस शर्मा ने अपने संस्था चैलेंजर्स की पाठशाला के माध्यम से पढ़ाना शुरू किया. प्रिंस बताते हैं कि शुभम और मंदीप एक दिन मेरे पास आए और पूछने लगे सर आप फ्री में पढ़ाते है? मुझे भी पढ़ना है. इसके बाद हमने उनको पढ़ाना शुरू किया था. दोनो बच्चे आज अच्छा कर रहे है.(रिपोर्ट – आदित्य कुमार)

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर