Home /News /uttar-pradesh /

today will be taken big decision on film city in greater noida up dlnh

फिल्म सिटी के भविष्य पर आज हो सकता है बड़ा फैसला, जानें वजह

फिल्म सिटी बनाने के लिए ग्लोबल टेंडर को खोला गया था, जिसमें इसमें केवल एक ही कंपनी ने टेंडर भरा.

फिल्म सिटी बनाने के लिए ग्लोबल टेंडर को खोला गया था, जिसमें इसमें केवल एक ही कंपनी ने टेंडर भरा.

फिल्म सिटी (Film City) बसाने के लिए तीन मॉडल पर खास चर्चा हो रही है. पहला है पीपीपी मॉडल (PPP Model), दूसरे मॉडल में यमुना प्राधिकरण खुद सीधे तौर पर प्लॉट बेचे और तीसरा मॉडल है यमुना अथॉरिटी (Yamuna Authority) को सरकार से सब्सिडी (Subsidy) मिले और अथॉरिटी नोडल एजेंसी के तौर पर फिल्म सिटी को बसाए. लेकिन आम लोगों को यहां रेस्टोरेंट, होटल और दुकान आदि के साथ ही एडिटिंग स्टूडियो और म्यूजिक डबिंग स्टूडियो समेत कई तरह के स्टूडियो खोलकर बिजनेस करने का बड़ा मौका मिल सकता है.

अधिक पढ़ें ...

नोएडा. सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) के ड्रीम प्रोजेक्ट में से एक फिल्म सिटी (Film City) का निर्माण अभी शुरू नहीं हुआ है, लेकिन उसे लेकर सवाल उठने लगे हैं. फिल्म सिटी के लिए चुनी गई अमेरिकन (American) कंपनी को लेकर तरह-तरह की बातें सामने आ रही हैं. ग्लोबल टेंडर होने के बावजूद निर्माण कार्य के लिए सिर्फ एक बिल्डर सामने आया है. इस संबंध में आज लखनऊ (Lucknow) में एक बड़ी बैठक बुलाई गई है. बैठक के दौरान कई अहम फैसले लिए जा सकते हैं. अमेरिकन कंपनी को लेकर भी बैठक में कई खास फैसले लिए जा सकते हैं. कुछ और नए नियम बनाए जा सकते हैं. अलग-अलग काम के हिसाब टेंडर जारी कर कई कंपनियों को काम दिया जा सकता है.

सिर्फ नोएडा की एक कंपनी ने भरा टेंडर

सूत्रों की मानें तो यमुना अथॉरिटी के सेक्टर-21 में फिल्म सिटी बनाने के लिए ग्लोबल टेंडर जारी किए गए थे. टेंडर जारी होते ही देश-विदेश की चार बड़ी कंपनियों ने टेंडर खरीदे थे. चार बड़ी कंपनियों के सामने आने से यमुना अथॉरिटी भी काफी खुश थी. लेकिन जब टेंडर खोलने की बारी आई तो मालूम हुआ कि सिर्फ नोएडा की एक म्यूजिक कंपनी का टेंडर ही आया है. बाकी देश-विदेश की तीन बड़ी कंपनियों के टेंडर का कोई अता-पता नहीं है.

उन्होंने टेंडर खरीदे जरूर, लेकिन जमा नहीं किए. इससे हड़कंप मच गया. आनन-फानन में तकरीकी बिड को रोक दिया गया. इसी के चलते बहुत ही कम समय के नोटिस पर आज लखनऊ में बैठक बुलाई गई है. चर्चा तो यह भी है कि फिल्म सिटी को बनाने के लिए आबूधाबी समेत सुभाष घई और एकता कपूर की कंपनियों ने भी दिलचस्पी दिखाई थी.

चार्जिंग स्टेशन के लिए जगह छोड़ने पर ही होगा नक्शा पास, जाने प्लान

फिल्म सिटी में दी जानी हैं यह सुविधाएं

जानकारों की मानें तो फिल्म सिटी में स्टूडियो, रिटेल मॉल, फ़िल्म इंस्टिट्यूट, इंफ्रास्ट्रक्चर, होटल रेस्तरां, बैकलॉट सेट, एम्यूजमेंट पार्क, आवासीय मकान, ऑफिस, बैकलॉट वर्क शॉप, बैकलॉट ओपन एरिया, विला बनाए जाएंगे. हाईटेक सुविधाओं से लैस होगी फिल्म सिटी जिसमें तकरीबन 5,500 करोड़ का खर्च आएगा. सीईओ यमुना अथॉरिटी ने बताया कि साल 2024 तक प्रॉजेक्ट कम्पलीट करने का लक्ष्य रखा गया है. कमेटी ने निर्णय लिया है कि पहले फेज में फिल्म सिटी का निर्माण हो ना कि कमर्शियल विलास और अन्य चीजें, फ़िल्म से जुड़ी गतिविधियों को संचिलित किया जाए बाद में उससे जुड़ी अन्य गतिविधियां शुरू हो. फिल्म सिटी का निर्माण करीब एक हजार एकड़ जमीन पर किया जाना है.

फिल्म और टीवी सीरियल बनाने को मिलेगी यह सुविधा

फिल्म सिटी की डीपीआर तैयार करने वाली कंपनी ने यमुना अथॉरिटी को कई खास सुझाव दिए हैं. कंपनी के मुताबिक हॉलीवुड की तर्ज पर बनने वाली इस फिल्म सिटी के लिए स्टेट ऑफ आर्ट स्टूडियो, आउटडोर सेट और शूटिंग विलेज बनाने होंगे. पोस्ट प्रोडक्शन के क्षेत्र में वीएफएक्स स्टूडियो बनाए जाएंगे. एडिटिंग स्टूडियो, म्यूजिक डबिंग स्टूडियो बनेंगे.

फिल्म प्रीमियर और फिल्म फेस्टीवल के लिए खास आयोजन स्थल होगा. फिल्म एकेडमी बनाने की भी जरूरत होगी. इसके साथ ही पंचतारा होटल, डारमेट्री, रिटेल शॉप, रेस्टोरेंट और मनोरंजन पार्क भी बनेंगे. साथ ही लोगों को फिल्मों का इतिहास बताने और दिखाने के लिए एक म्यूजियम बनाने की भी जरूरत होगी.

Tags: CM Yogi Adityanath, Film city in up, Yamuna Authority

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर