इलाज के दौरान गर्भवती महिला की मौत, डॉक्टरों के खिलाफ लापरवाही का मामला दर्ज

यूपी के नोएडा स्थित नियो अस्पताल में उपचार के दौरान एक महिला की संदिग्ध अवस्था में मौत हो गई, इस मामले में उसके ससुर ने अस्पताल के डॉक्टरों के खिलाफ लापरवाही के कारण मौत का मुकदमा दर्ज कराया है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: January 4, 2019, 5:16 PM IST
इलाज के दौरान गर्भवती महिला की मौत, डॉक्टरों के खिलाफ लापरवाही का मामला दर्ज
गर्भवती महिला (प्रतिकात्मक फोटो)
News18 Uttar Pradesh
Updated: January 4, 2019, 5:16 PM IST
यूपी के नोएडा स्थित नियो अस्पताल में उपचार के दौरान एक महिला की संदिग्ध अवस्था में मौत हो गई, इस मामले में उसके ससुर ने अस्पताल के डॉक्टरों के खिलाफ लापरवाही के कारण मौत का मुकदमा दर्ज कराया है. महिला गर्भवती थी और उसका डीएनसी कराने के लिए उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

पुलिस उपाधीक्षक नगर श्वेताभ पांडे ने बताया कि सेक्टर 55 में रहने वाले चार्टेड एकाउंटेंट कपिल भाटिया ने बृहस्पतिवार को थाना सेक्टर 49 में रिपोर्ट दर्ज कराई है कि उनकी बहू 30 वर्षीय अंकिता भाटिया को एक साल पहले ही बेटा पैदा हुआ था. इस बीच वह दोबारा से गर्भवती हो गई. वह 2 माह की गर्भवती थी. दो बच्चों के बीच 3 साल से कम समय होने की वजह से उन्होंने डाक्टरों की सलाह पर डीएनसी कराने का निर्णय लिया.

उन्होंने बताया कि महिला डॉक्टर की देखरेख में 31 दिसंबर को उनकी बहू को सेक्टर 50 स्थित नियो अस्पताल में भर्ती कराया गया. आरोप है कि डॉक्टरों ने महिला का ठीक तरीके से उपचार नहीं किया, जिसकी वजह से ऑपरेशन थिएटर में ही उसकी मौत हो गई.

नोएडा नमाज़ विवाद: पुलिस ने पार्क में भरा पानी, मौलवी ने भी नमाज़ पढ़ाने से किया इनकार

क्षेत्राधिकारी ने बताया कि डॉक्टरों ने मृतका के परिजनों को बताया कि उसे दिल का दौरा पड़ा , जिसकी वजह से उनकी मौत हो गई जबकि मृतका के परिजनों का कहना है कि उसकी मौत की वजह यह है कि डॉक्टरों ने उसे दवाई का ओवरडोज दिया. क्षेत्राधिकारी ने बताया कि घटना की रिपोर्ट दर्ज कर पुलिस मामले की जांच कर रही है. मृतका सेक्टर 62 स्थित सत्यम कॉलेज में प्रोफेसर थी.
(एजेंसी इनपुट के साथ)

उन्नाव: स्कूल में छात्राओं से करवाया जा रहा टॉयलेट साफ, फोटो व वीडियो वायरल
 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...