उत्तर प्रदेश में अच्छी पहल, प्रदूषण कम करने उन्नाव में 'पराली दो, खाद लो' अभियान शुरू

उन्नाव में एक अनोखा अभियान शुरू हुआ है.
उन्नाव में एक अनोखा अभियान शुरू हुआ है.

उत्तर प्रदेश  में प्रदूषण कम करने के लिए एक अच्छी पहल की गई है. उन्नाव में जिला प्रशासन ने  2 ट्रैक्टर ट्रॉली पराली (Parali) लाने पर 1 ट्रैक्टर ट्रॉली गोबर खाद देने की योजना की शुरुआत की है.

  • Share this:
उन्नाव. एक तरफ जहां पराली जलाने पर किसानों पर मुकदमे हो रहे हैं, तो वहीं किसानों को मुकदमे से बचाने, पराली निस्तारण और वातावरण को शुद्ध रखने के लिए जिला प्रशासन अनोखा अभियान चला रहा है. उत्तर प्रदेश के उन्नाव में 2 ट्रैक्टर ट्रॉली पराली (Parali) लाने पर 1 ट्रैक्टर ट्रॉली गोबर खाद दी जा रही है. वहीं ये फसल अवशेष गौशाला के गौवंश के चारे के काम भी आ रही है. आपको बता दें कि अब तक 800 क्विंटल से ज्यादा पराली किसान अपने खेतों से गौशाला तक ला चुके हैं जिन्हें पराली के बदले गोबर खाद दी जा रही है.

पराली के बदले मिलेगी खाद!

उन्नाव में अनोखी पहल की जा रही है. पर्यावरण को स्वच्छ रखने के लिए खेतों में किसानों को पराली जलाने से रोकने के लिए जिला प्रशासन ने अनोखी पहल की है. यहां थानागांव गौशाला में कृषि विभाग और पशु पालन विभाग ने शनिवार को 'पराली दो, खाद लो' अभियान की शुरुआत की.  डीडी एग्रीकल्चर नंद किशोर और पशु चिकित्सा अधिकारी पीके सिंह ने किसान गोष्ठी के साथ इस कार्यक्रम की शुरुआत की. कार्यक्रम में आए किसानों ने जिला प्रशासन को 6 ट्रॉली पराली दी, जिसके बदले में किसानों को 3 ट्रॉली गोबर खाद दी गई. वहीं फसल अवशेष पहुंचते ही गौवंश उसे खाते हुए दिखाई पड़े. वहीं गोष्ठी को सम्बोधित करते किसानों से खेतों में फसल अवशेष ना जलाने की अपील की गई. इसके साथ ही फसल अवशेष जलाने के बाद खेतों को होने वाले नुकसान के बारे में भी बताया गया. वहीं किसानों ने बताया की पराली प्रशासन द्वारा लिए जाने से उन्हें फायदा होगा.



ये भी पढ़ें: हिमाचल: बर्फ की सफेद चादर से ढका रोहतांग, मनाली में लौटी पर्यटकों की रौनक
कृषि विभाग के अधिकारी बोले 

वहीं डीडी एग्रीकल्चर नंद किशोर ने बताया कि एनजीटी के आदेश हैं की पराली ना जलाई जाए, जिसको लेकर डीएम उन्नाव  रविन्द्र कुमार ने पहल करते हुए पराली दो, खाद लो अभियान की शुरुआत की है. किसानों को पराली की जगह गोबर खाद दी जा रही है. उप कृषि निदेशक नंद किशोर ने बताया कि 1 ट्रॉली पराली लाने वाले किसानों को आधी ट्राली गोबर खाद दी जाएगी.  उन्होंने इस पहल को सराहनीय बताया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज