आज से नोएडा-ग्रेटर नोएडा में 12 साल से कम उम्र के बच्चों के अभिभावकों को लगेगी कोरोना वैक्सीन

12 साल से कम उम्र के बच्चों को कोरोना महामारी से बचाने के लिए अब सबसे पहले उनके अभिभावकों का वैक्सीनेशन किया जाएगा. Demo Pic.

12 साल से कम उम्र के बच्चों को कोरोना महामारी से बचाने के लिए अब सबसे पहले उनके अभिभावकों का वैक्सीनेशन किया जाएगा. Demo Pic.

Noida News: एक अन्य अभियान के तहत डीएम ने कोरोना इलाज (Corona Treatment) की तय फीस से ज्यादा वसूलने वाले चार मामलों में पीड़ित परिवारों को ज्यादा ली गई फीस वापस कराई है.

  • Share this:

नोएडा. कोरोना (Corona) संक्रमण को रोकने और जरूरतमंद आम जनता तक आसानी से कोरोना वैक्सीन पहुंचाने के लिए गौतमबुद्ध नगर (Gautam Budh Nagar) प्रशासन ने एक पहल शुरू की है. 12 साल से कम उम्र के बच्चों को कोरोना महामारी से बचाने के लिए अब सबसे पहले उनके अभिभावकों का वैक्सीनेशन किया जाएगा. नोएडा और ग्रेटर नोएडा समेत दूसरे इलाकों में आज से इसकी शुरुआत कर दी गई है. डीएम सुहास एल वाई ने इसे अभिभावक स्पेशल वैक्सीन अभियान नाम दिया है. स्वास्थ्य विभाग ने भी अभिभावकों को कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) दिए जाने संबंधी सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं. वहीं, एक अन्य अभियान के तहत डीएम ने कोरोना इलाज (Corona Treatment) की तय फीस से ज्यादा वसूलने वाले चार मामलों में पीड़ित परिवारों को ज्यादा ली गई फीस वापस कराई है.

अभिभावक स्पेशल वैक्सीन अभियान के बारे में और ज्यादा जानकारी देते हुए अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर नीरज त्यागी का कहना है कि 1 जून से अभिभावक स्पेशल अभियान शुरू किया गया है. इस विशेष सत्र पर उन सभी माता-पिता और अभिभावकों का टीकाकरण किया जायेगा जिन परिवारों में छोटे बच्चे की उम्र 12 साल से कम है. ऐसे सभी लाभार्थियों को पोर्टल पर उन सभी सत्रों को ऑनलाइन चिन्हित करना होगा, जिन सत्रों पर अभिभावक स्पेशल लिखा होगा.

Youtube Video

इसके बाद ही इन्हीं सत्रों पर ऑनलाइन स्लॉट बुक करेंगे. निर्धारित तिथि पर टीकाकरण के लिए पहुंचने से पहले अपने साथ इस तथ्य का प्रमाण पत्र लाना होगा जिससे यह साबित हो सके कि आपके परिवार में 12 साल से कम उम्र का बच्चा है और आप उसके माता-पिता या अभिभावक हैं.
World Milk Day: मिल्क प्रोडक्शन में नंबर वन बना यूपी, जानें दूसरे स्थान पर कौन सा राज्य है?

4 कोरोना पीड़ित परिवार को वापस कराई फीस

यूपी सरकार ने सभी प्राइवेट कोरोना अस्पतालों के लिए इलाज की फीस तय कर दी है. साथ ही अगर कोई तय फीस से ज्यादा लेता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई करने के आदेश भी दिए हैं. इसी के चलते डीएम सुहास एलवाई ने भी गौतमबुद्ध नगर में एक अभियान चलाय हुआ है. अभियान के तहत सोमवार को डीएम की ओर से 4 कोरोना पीड़ित परिवारों को फीस वापस कराई गई.




इन सभी 4 परिवारों से प्राइवेट अस्पताल संचालकों ने कोरोना के इलाज में तय फीस से ज्यादा वसूली थी. इस तरह की शिकायत मिलने पर डीएम ने सभी चारों मामलों की जांच कराई. जांच में यह साबित हो गया कि पहले से तय फीस से ज्यादा रकम फीस के नाम पर वसूली गई है. इसके बाद कार्रवाई करते हुए ज्यादा फीस की वापसी कराई गई.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज