लाइव टीवी

किसान की चेतावनी पर सक्रिय हुई पुलिस ने मिल प्रशासन पर दर्ज किया मुकदमा

News18 Uttar Pradesh
Updated: January 3, 2019, 11:02 PM IST

गन्ना किसान ने न्याय न मिलने पर आमरण अनशन की चेतावनी देने के बाद पुलिस अधीक्षक वालेन्दु भूषण सिंह ने मिल प्रशासन के खिलाफ मुकदद्मा दर्ज करने क आदेश दे दिए है. जिला गन्ना अधिकारी ने भी शिकायत मिलने पर जांच की बात कही है.

  • Share this:
पीलीभीत प्रशासन के तब हाथ-पैर फूल गए, जब एक गन्ना किसान ने न्याय न मिलने पर आमरण अनशन की चेतावनी दे डाली. शिकायत मिलने पर पुलिस अधीक्षक वालेन्दु भूषण सिंह ने थाना सुनगढ़ी को मिल प्रशासन के खिलाफ मुकदद्मा दर्ज करने क आदेश दे दिए है. वहीं जिला गन्ना अधिकारी ने भी शिकायत मिलने पर जांच की बात कही है.

एक तरफ योगी सरकार किसानों की आय दोगुनी करने की बात कह रही है, तो वहीं दूसरी ओर शहर के बीचो-बीच स्थित ललित हरी चीनी मिल द्वारा किसानों का शोषण करने का मामला सामने आया है. मिल प्रशासन किसानों को गन्ना भुगतान नहीं, बल्कि उल्टा कर्ज दिखाकर उनसे वसूली करने की बात करती है. फसल में इस्तेमाल होने वाले फर्टीलाइजर और पेस्टीसाइडस के नाम पर भुगतान की कटौती कर ली जाती है.

इससे पीड़ित शिकायतकर्ता पूर्व प्रधान श्याम लाल व् उनके साथ आये अन्य किसानो ने पुलिस अधीक्षक और जिला गन्ना अधिकारी से शिकायत किया है. यही नहीं 30 जनवरी तक न्याय न मिलने पर पीड़ित किसानों ने आमरण अनशन करने की भी चेतावनी दे दी है. दरअसल पीड़ित किसान श्यामलाल ने एलएच चीनी मिल प्रशासन पर आरोप लगाया है कि, किसानों को फर्टिलाइजर और पेस्टीसाइड के नाम पर लोन चढाकर गन्ना भुगतान से कटौती की जाती है,जोकि गन्ना क्रय नीति का उल्लंघन है.

किसन का आरोप है कि ऐसी ही शिकायत पहले भी हुई हैं,  मगर कोई कार्रवाई नहीं की गई. जिला गन्ना अधिकारी से भी शिकायत की गई थी. कार्रवाई ना होने की स्थित में किसानों ने 30 जनवरी से आमरण अनशन की चेतावनी दी है. पुलिस अधीक्षक वालेन्दु भूषण सिंह ने तत्काल मुकदमा दर्ज करने के आदेश दिए हैं. इसके साथ ही जिला गन्ना अधिकारी ने भी मामले की जाँच कराने की बात कही है. (रिपोर्ट-अर्ज देव सिंह)  

ये भी पढ़ें: चीनी मिल और गन्ना माफिया की मिलीभगत से हो रहा किसानों का शोषण

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पीलीभीत से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 3, 2019, 11:02 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...