लाइव टीवी

पीलीभीत टाइगर रिजर्व में मिला बायो मेडिकल वेस्ट, DFO ने दी कार्रवाई की चेतावनी

ARJDEV SINGH | News18 Uttar Pradesh
Updated: June 11, 2019, 3:04 PM IST
पीलीभीत टाइगर रिजर्व में मिला बायो मेडिकल वेस्ट, DFO ने दी कार्रवाई की चेतावनी
पीलीभीत टाइगर रिजर्व स्थित नदी में मिला मेडिकल बायो वेस्ट

एक तरफ टाइगर रिजर्व के वन्यजीवों की सुरक्षा को लेकर NTCA गंभीर है, तो दूसरी ओर जंगल के बीचोबीच बहने वाली माला नदी में भारी मात्रा में बायो मेडिकल वेस्ट मिलने का मामला सामने आया है.

  • Share this:
पीलीभीत में स्वास्थ्य विभाग की बड़ी लापरवाही सामने आई है. एक तरफ टाइगर रिजर्व के वन्यजीवों की सुरक्षा को लेकर नेशनल टाइगर कंजर्वेशन अथॉरिटी (NTCA) गंभीर है, तो दूसरी ओर जंगल के बीचोबीच बहने वाली माला नदी में भारी मात्रा में बायो मेडिकल वेस्ट मिलने का मामला सामने आया है. फिलहाल डीएफओ ने स्वास्थ्य विभाग को चेतावनी देते हुए कार्रवाई की बात कही है.

भीषण गर्मी में इंसान ही नहीं बल्कि वन्यजीवों का हाल-बेहाल है. यही कारण है कि पीलीभीत टाइगर रिजर्व जंगल में बहने वाली नदीयां, नहरें और तालाब का पानी वन्यजीवों के लिए किसी जीवनदायनी से कम साबित नहीं हो रही. लेकिन नदियों का दूषित जल उनके लिए खतरनाक साबित हो सकता है. क्योंकि पीलीभीत स्वास्थ्य विभाग कि बड़ी लापरवाही के चलते जंगल के बीचोबीच बहने वाली माला नदी में अब जहर घोला जा रहा है.

ताजा मामला टाइगर रिजर्व के माला नदी का है. इस नदी के भीतर भारी मात्रा में बायो मेडिकल वेस्ट मिलने का मामला सामने आया है. जब इस मामले में मुख्य चिकित्साधिकारी पूछा गया तो उन्होंने कहा कि बायो वेस्ट मिलने की बात सही नहीं है.

Bio Medical Waste Found In Pilibhit Tiger Reserve
मौके का मुआयना करते हुए डीएफओ आदर्श कुमार


डीएफओ की चेतावनी से स्वास्थ्य विभाग में मचा हड़कंप
वहीं टाइगर रिजर्व के प्रभागीय निदेशक आदर्श कुमार ने खुद वहां जाकर मुआयना किया. न्यूज18 कि टीम को प्रभागीय निदेशक ने बताया कि मामला सही है. मुख्य चिकित्साधिकारी से बातचीत की है. साथ ही चेतावनी भी दी कि अगर जांच में यह पाया गया कि इससे जानवरों पर प्रभाव पड़ेगा तो वन्य जीव अधिनियम के तहत कड़ी कार्रवाई कि जाएगी. डीएफओ की इस चेतावनी से टाइगर रिजर्व और स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मचा हुआ है.

पीलीभीत टाइगर रिजर्व में 70 पानी के स्रोत
Loading...

बता दें कि पीलीभीत टाइगर रिजर्व वनक्षेत्र में लगभग 70 नदियां, नहर, नाले और तालाब मौजूद हैं. ऐसे में वन्यजीवों के लिए ये किसी जीवनदायिनी से काम नहीं. मगर बड़ा सवाल ये है कि NTCA द्वारा दिए गए लगातार निर्देशों के बावजूद अगर इस तरह से जंगल व नदियां दूषित होते रहे तो वन्यजीवों के लिए बड़ा खतरा हो सकता है.

ये भी पढ़ें- भीषण गर्मी का टाइगर रिजर्व में नहीं दिखता असर, जानिए क्‍यों?

ये भी पढ़ें- 'बंगाल से बिहारियों को भगाया जा रहा, राज्य को मिनी पाकिस्तान बनने से रोकिए ममता दीदी'

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पीलीभीत से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 11, 2019, 3:02 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...