होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Dussehra Special : रावण की होती है पूजा, कहते हैं ‘सच्ची रामलीला’! आपको हैरान कर देगी यह कहानी

Dussehra Special : रावण की होती है पूजा, कहते हैं ‘सच्ची रामलीला’! आपको हैरान कर देगी यह कहानी

आपने रामलीलाओं से जुड़ी कई रोचक कहानियां पढ़ी होंगी, यह लेकिन कहानी ज़रूर चौंका सकती है. बीसलपुर में रामलीला के बाद रावण क ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट – सृजित अवस्थी

पीलीभीत. पूरे देश में दशहरे का त्यौहार धूमधाम से मनाया जाता है लेकिन कुछ स्थान ऐसे भी हैं जहां की रामलीला का कुछ न कुछ विशेष महत्व या इतिहास है. ऐसा ही पीलीभीत के बीसलपुर इलाके की ऐतिहासिक रामलीला में देखने को मिलता है. यहां आज भी लोग रावण का किरदार निभाने से कतराते हैं. आखिर क्या है अनोखी रामलीला का इतिहास? आपको यह कहानी हैरान करने के साथ ही यह भी बताएगी कि इस रामलीला के मंचन के बाद लोग रावण का अभिनय करने वाले कलाकार की पूजा क्यों करते हैं.

बीसलपुर की रामलीला में रावण का किरदार निभाने वाले दिनेश रस्तोगी उर्फ दिनेश रावण ने छमूे18 स्वबंस बातचीत की. उन्होंने बताया कि बीसलपुर इलाके में लगभग डेढ़ सौ साल से रामलीला का मंचन होता रहा है. 35 साल पहले 1987 में रामलीला के मंचन के दौरान जब राम ने रावण को तीर मारा था, तब रावण का किरदार निभा रहे अभिनेता कल्लूमल ने असल में अपने प्राण त्याग दिए थे. इसके बाद से ही यह रामलीला ‘सच्ची रामलीला’ नाम से दूरदराज तक प्रसिद्ध हो गई. तबसे यह भी हुआ कि कलाकार रावण का किरदार निभाने से कतराने लगे. कल्लूमल के पुत्र दिनेश रस्तोगी ही तबसे रावण का किरदार निभा रहे हैं.

रामलीला में पूजे जाते हैं रावण

आमतौर पर रामलीला मंचन के दौरान राम का किरदार निभा रहे कलाकार को पूजा जाता है, लेकिन बीसलपुर की अनोखी रामलीला में रावण को भी पूजा जाता है. दरअसल कल्लूमल की मृत्यु के बाद परिवार व स्थानीय लोगों के मन में उनके प्रति आस्था गहरी हो गई. रामलीला मैदान में ही कल्लूमल रावण की एक विशाल प्रतिमा भी स्थापित की गई. रामलीला में आए लोग आज भी इसकी पूजा अर्चना करते हैं. दुकानों के नाम भी यहां रावण के नाम पर दिखते हैं.

दिनेश रस्तोगी ने बताया कि उनके मन में पूरी घटना को लेकर किसी भी प्रकार का कोई भय नहीं है. वह मानते हैं कि रावण भी शिव को पूजता था और वह भी शिव को ही पूजते हैं. ऐसे में रावण में भी उनकी आस्था है. साथ ही, वह रावण नाम से ही प्रसिद्ध हैं इसलिए उन्होंने अपने सभी प्रतिष्ठानों के नाम भी लंकेश या रावण के नाम से ही रखे हैं.

Tags: Dussehra Festival, Pilibhit news, Ravan Leela

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें