पीलीभीत: सैनिकों की लड़ाई लड़ेगा 8 साल का नानू फौजी

दरअसल, कश्मीर में सीमा पर तैनात सैनिकों पर लगातार हो रहे हमले, पत्थरबाजी और अत्याचारों को देखते हुए देश के दुश्मनों के खिलाफ पीलीभीत जनपद का नन्हा बालक नानू फौजी एक दिवसीय धरना प्रदर्शन करेगा.

News18Hindi
Updated: May 6, 2018, 1:15 PM IST
पीलीभीत: सैनिकों की लड़ाई लड़ेगा 8 साल का नानू फौजी
मासूम नानू फौजी की फाइल फोटो.
News18Hindi
Updated: May 6, 2018, 1:15 PM IST
देश की सीमा पर तैनात सैनिकों पर लगातार हमले को लेकर विरोध में रविवार को पीलीभीत शहर के नेहरू पार्क और दिल्ली के राजघाट में 8 वर्षीय मासूम नानू फौजी एक दिवसीय धरना प्रदर्शन देगा. यह धरना सुबह 10 बजे से शुरू होकर शाम 5 बजे खत्म होगा. साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को संबोधित ज्ञापन भी जिलाधिकारी महोदय को सौंपेगा.

दरअसल, कश्मीर में सीमा पर तैनात सैनिकों पर लगातार हो रहे हमले, पत्थरबाजी और अत्याचारों को देखते हुए देश के दुश्मनों के खिलाफ पीलीभीत जनपद का नन्हा बालक नानू फौजी एक दिवसीय धरना प्रदर्शन करेगा. नानू फौजी की मोदी सरकार से मांग है कि सैनिकों पर हमला करने वालों के खिलाफ कड़ी से कड़ी से कार्रवाई हो.

सुरक्षा तंत्र चाहे वो देश की सीमा पर स्थित सैनिक, अर्ध सैनिक बल और पुलिस बल को पर्याप्त अधिकार दिलाया जा सके, इसलिए नानू फौजी 6 मई दिन रविवार को शहर के नेहरू पार्क में धरना प्रदर्शन करेगा. नानू फौजियों को अधिकार दिलाने के लिए पीलीभीत ही नहीं बल्कि 13 मई 2018 को दिल्ली के राजघाट में एक दिवसीय धरना देगा. इस मासूम बच्चे की जज्बे की हर तरफ चर्चा हो रही है.

बता दें कि स्प्रिंगडेल काॅलेज में पढ़ने वाला 8 साल का लक्ष्य शर्मा उर्फ नानू(फौजी) बरेली जाट रेजिमेंट द्वारा पीलीभीत गांधी स्टेडियम में बच्चो की भर्ती के लिए 2019 में टेस्ट में शामिल होने के पहुंचा था. तभी से इसका नाम लोगों ने फौजी रख दिया. नगर कोतवाली के आवास-विकास कॉलोनी के रहने वाले नानू फौजी के पिता का नाम वीरेंद्र शर्मा है, जो 1997 में एयरफोर्स में भर्ती के दौरान मेडिकल में फेल हो गए थे, अब बच्चो को आर्मी और पुलिस में भर्ती होने के लिए 18 से 30 वर्ष के बच्चों को ट्रेनिंग देते है. वहीं नानू की मां का नाम मनीषा शर्मा है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर