लाइव टीवी

फर्जी नाम व प्रमाण पत्र पर 6 साल तक सरकारी शिक्षक, ऐसे हुआ खुलासा

News18 Uttar Pradesh
Updated: December 6, 2018, 5:39 PM IST
फर्जी नाम व प्रमाण पत्र पर 6 साल तक सरकारी शिक्षक, ऐसे हुआ खुलासा
फर्जी नाम और प्रमाण पत्र पर 6 साल तक सरकारी शिक्षक

सिटी मजिस्ट्रेट की जांच के बाद इस मामले का खुलासा हुआ. जिसके बाद कोतवाली सदर में आरोपी लिपिक व शिक्षक के खिलाफ बीएसए की तहरीर पर संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज हुआ है.

  • Share this:
पीलीभीत के बेसिक शिक्षा विभाग के निलंबित लिपिक व एक फर्जी शिक्षक के खिलाफ जांच के बाद बेसिक शिक्षा अधिकारी ने मुकदमा दर्ज कराया है. दरअसल लिपिक पर आरोप है कि उसने अपने मिलने वाले को फर्जी नाम व प्रमाण पत्रों के आधार पर पहले तो सरकारी शिक्षक बनाया और छः साल नौकरी करवाने के बाद उसे वीआरएस भी दिलवा दिया.

दरअसल शिक्षक के खिलाफ जब जिलाधिकारी को इस फर्जीवाडे़ की शिकायत हुई. तब सिटी मजिस्ट्रेट की जांच के बाद इस मामले का खुलासा हुआ. जिसके बाद कोतवाली सदर में आरोपी लिपिक व शिक्षक के खिलाफ बीएसए की तहरीर पर संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज हुआ है.

पुलिस रिपोर्ट के अनुसार पीड़ित राज कुमार निवासी ग्राम मझलिया थाना खुदागंज जनपद शाहजहॉपुर ने बीते दो माह पूर्व जिलाधिकारी पीलीभीत डा. अखिलेश कुमार मिश्र को लिखित शिकायत की थी. जिसमें उसने आरोप लगाया था कि उसके नाम पर पड़ोसी गांव फुलैय्या के रहने वाले चैतन्य प्रकाश जिला बेसिक शिक्षा विभाग में शिक्षण कार्य किया है.

उसने करीब छः सालों तक नौकरी की और जिसमें तत्कालीन वरिष्ठ लिपिक संजय सिंह की भी मिलीभगत रही है. शिकायत के बाद जिलाधिकारी ने जांच सिटी मजिस्ट्रेट को सौंप दी. जांच में पाया गया कि आरोपी शिक्षक चैतन्य प्रकाश ने बेसिक शिक्षा विभाग के निलंबित वरिष्ठ सहायक लिपक संजय सिंह की मदद से पहले तो नौकरी हासिल की और छः साल नौकरी करने के बाद वीआरएस ले लिया है.

उसने 31 सितंबर 2010 से 22 दिसंबर 2016 तक सरकारी नौकरी की है. जांच पूरी होने के बाद आरोपी निलंबित लिपिक व शिक्षक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने के आदेश जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी के कार्यालय पहुंचा. जिसके बाद बीएसए डा. इन्द्रजीत प्रजापति ने दोनो आरोपियों विरुद्ध संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया है.

बीएसए की तहरीर के आधार पर कोतवाली सदर पुलिस ने आरोपी संजय सिंह व फर्जी शिक्षक चैतन्य प्रकाश के खिलाफ आईपीसी की धारा 420, 406, 467, 468, 471 व 506 में मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है. (रिपोर्ट-देव सिंह) 

ये भी पढ़ें:
Loading...

बुलंदशहर हिंसा के मुख्य आरोपी योगेश राज की गिरफ्तारी को यूपी पुलिस ने बताया अफवाह

...तो इस तरह यूपी की सबसे बड़ी 'शिक्षामित्र समस्या' हल कर रही योगी सरकार

बुलंदशहर हिंसा: आर्थिक मदद, लोन माफी के साथ इंस्पेक्टर सुबोध के परिवार को मिली ये बड़ी राहत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पीलीभीत से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 6, 2018, 5:39 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...