लाइव टीवी

भीषण गर्मी का टाइगर रिजर्व में नहीं दिखता असर, जानिए क्‍यों?

ARJDEV SINGH | News18 Uttar Pradesh
Updated: June 7, 2019, 6:09 PM IST
भीषण गर्मी का टाइगर रिजर्व में नहीं दिखता असर, जानिए क्‍यों?
बाघ समेत टाइगर रिजर्व में कई प्रकार के वन्‍यजीव रहते हैं.(फाइल फोटो)

पीलीभीत की धरती पर प्रकृति ने अपार जंगलों के बीच नदियों, नालों और नहरों को संजोए रखा है और यही बात इस वक्‍त फायदेमंद साबित हो रही है.

  • Share this:
इस समय भीषण गर्मी का प्रकोप ना सिर्फ इंसान बल्कि वन्यजीवों पर भी बना हुआ है. मगर पीलीभीत की धरती पर प्रकृति ने अपार जंगलों के बीच नदियों, नालों और नहरों को संजोए रखा है और यही बात इस वक्‍त फायदेमंद साबित हो रही है.

आपको बता दें कि अंतरराष्ट्रीय सीमा इंडो-नेपाल, उत्तराखंड सहित यूपी के तीन जिलों से घिरे टाइगर रिजर्व के जंगल में कई प्रकार के वन्यजीव प्रवास करते हैं, लिहाजा वन विभाग की जिम्मेदारी बनती है कि उनकी देखरेख ठीक से करे.

ऐसे करते हैं व्‍यवस्‍था
इस मामले में डीएफओ आदर्श कुमार ने बताया कि बरसात में जंगल बंद कर दिया जाता है, मगर उससे पूर्व भीषण गर्मी से वन्यजीवों को बचने के लिए जंगल में जो व्यवस्थाएं जैसे सोलर पम्प, तालाब खुदान व पक्की हौद में टैंकर से पानी भरवाने जैसे कार्य विभाग द्वारा कर लिए जाते हैं. जबकि जंगल के बीच से गुजरने वाली शारदा नदी, माला नदी, हरदोई ब्रांच, खन्नौत, कटना नहरों आदि की संख्या लगभग 70 है. वहीं, तालाबों में बरसात का पानी उपलब्ध रहता है. अगर किसी वजह से जलस्तर घटने का संकट हो तो 12 सोलर पंप काम आ जाते हैं. इसके अलावा जहां पर सोलर पैनल नहीं हैं, वहां पर डीजल इंजन से तालाबों में पानी भरा जाता है. यही वजह है कि वर्ष भर पानी की कोई कमी नहीं रहती है.

बाघों को मिलता है सबसे अधिक फायदा
क्षेत्र में नहरों के जाल का सबसे अधिक फायदा मांसाहारी जानवर (बाघ) के अलावा अन्‍य वन्यजीवों के लिए भी फायदेमंद साबित हो रहा है. यही कारण है कि वन्यजीवों को पानी की तलाश में जंगल से बाहर निकलने की आवश्यकता नहीं पड़ती है.

ये भी पढ़ें:
Loading...



बच्ची से रेप और हत्या के मामले में प्रियंका गांधी बोलीं, हमारा समाज क्या बन गया है?

आज अयोध्या में भगवान राम की प्रतिमा का अनावरण करेंगे CM योगी, जानिए पूरा शेड्यूल

एक्शन में मुलायम : अखिलेश-शिवपाल से करेंगे गुप्त बैठक, यादव कुनबे को एकजुट करने की कोशिश
एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पीलीभीत से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 7, 2019, 12:03 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...