पीलीभीत के कलीम अतहर ने दी अटल को अनोखी श्रद्धांजलि

पीलीभीत के कलीम अतहर पिछले 8 वर्षों से विभिन्न समाचार पत्र संग्रह कर रहे हैं. उनके पास महात्मा गांधी, इंदिरा गांधी, राजीव गांधी, एम.करुणानिधि एवं अन्य प्रसिद्ध व्यक्तियों के निधन के अलावा देश में हुई बड़ी घटनाओं के छपे समाचार पत्र मौजूद हैं.

ARJDEV SINGH | News18 Uttar Pradesh
Updated: September 19, 2018, 4:49 PM IST
पीलीभीत के कलीम अतहर ने दी अटल को अनोखी श्रद्धांजलि
कलीम अतहर खान. Photo: News 18
ARJDEV SINGH | News18 Uttar Pradesh
Updated: September 19, 2018, 4:49 PM IST
पीलीभीत के कलीम अतहर ने पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी के निधन के दौरान छपे अखबारों का संग्रह कर अनूठी श्रद्धांजलि दी है. नकटादाना निवासी कलीम अतहर ने हिंदी ही नही बल्कि अंग्रेजी, उर्दू, पंजाबी, बंगाली, मराठी, तमिल, तेलुगू व मलयालम भाषा के लगभग 400 अखबार एकत्रित किए हैं. उनका कहना है कि एकत्रित अखबार ही अपने-आप में अनोखे और रोचक होते हैं.

दरअसल कलीम अतहर पिछले 8 वर्षों से विभिन्न समाचार पत्र संग्रह कर रहे हैं. उनके पास महात्मा गांधी, इंदिरा गांधी, राजीव गांधी, एम.करुणानिधि एवं अन्य प्रसिद्ध व्यक्तियों के निधन के अलावा देश में हुई बड़ी घटनाओं के छपे समाचार पत्र मौजूद हैं. यही नहीं पीलीभीत के कई जिलाधिकारीयों ने समाचार पत्रों की प्रदर्शनी पर सम्मानित कर पुरस्कृत भी किया है.

कलीम अतहर के पास देश-विदेश के विभिन्न क्षेत्रों एवं विभिन्न भाषाओं के 3 हजार समाचार पत्रों का संग्रह हैं. जिनमें दैनिक, सांध्य दैनिक, साप्ताहिक, पाक्षिक व मासिक अखबार भी शामिल है. कलीम ने इस बारे में बताया कि उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेई के निधन के समाचार पत्र संग्रह कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की है और अब उनको माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय भोपाल में वार्षिकोत्सव में समाचार पत्रों की प्रदर्शनी लगाने के लिए आमंत्रित किया गया है, जिसमें वो जरूर पहुचेंगे.

कलीम बताते हैं कि पूर्व प्रधानमंत्री के निधन के बाद से ही वह अखबार इकट्ठा करने में जुट गए थे. उन्होंने विभिन्न प्रदेश व जिलों में अपने मित्रों, संबंधियों और रिश्तेदारों के माध्यम से अटल जी के निधन से जुड़े समाचार पत्रों को इकट्ठा कर भेजने का आग्रह किया. इस जुनून के चलते न कि केवल बड़े शहरों, बल्कि छोटे-छोटे कस्बों और क्षेत्रों के अखबार भी उन्होंने एकत्र किए.

ये भी पढ़ें: 

तीन तलाक पर लाया गया अध्यादेश लोकतंत्र के खिलाफ : मौलाना खालिद रशीद

काशी को हिसाब देकर पीएम मोदी ने राहुल गांधी के सामने कुछ ऐसे खींची बड़ी लकीर
Loading...

मिस्र की महिला के हनीट्रैप में फंसा बीएसएफ जवान, जासूसी के आरोप में यूपी ATS ने दबोचा

अखिलेश के Tweet पर नीति आयोग के एडवाइजर ने उठाए सवाल, दिया ये जवाब

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पीलीभीत से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 19, 2018, 4:49 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...