पीलीभीत: किसान से 10 हजार रुपए की रिश्वत ले रहा कानूनगो, वीडियो वायरल

बीसलपुर तहसीलदार कुंवर बहादुर सिंह ने बताया कि आरोपी राजस्व निरीक्षक चेतराम चुर्रासकतपुर क्षेत्र में तैनात है. इसका एक रिश्वत लेने का वीडियो उनके संज्ञान में आया है. मामले की जांच की जा रही है, वहीं इसके निलंबन की कार्यवाही के लिए जिलाधिकारी को रिपोर्ट भेजी जा रही है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: May 29, 2018, 1:18 PM IST
पीलीभीत: किसान से 10 हजार रुपए की रिश्वत ले रहा कानूनगो, वीडियो वायरल
रिश्वत लेने के दौरान राजस्व निरीक्षक चेतराम. Photo: News 18
News18 Uttar Pradesh
Updated: May 29, 2018, 1:18 PM IST
उत्तर प्रदेश की योगी सरकार भले ही प्रदेश को भ्रष्टाचारमुक्त व सुशासित बनाने के लिए जिले के अधिकारियों को निर्देशित कर रही हो. मगर कुछ अधिकारी ही सरकार के निर्देशों को पलीता लगाने में जुटे हुए हैं. इसी क्रम में पीलीभीत में रिश्वतखोरी का एक वीडियो सोशल मीडिया में तेजी से वायरल हो रहा है.  पूरा मामला पीलीभीत की तहसील बीसलपुर का है. जहां एक फरियादी से राजस्व निरीक्षक अपनी कलम के इस्तेमाल करने से पहले मोटी रकम वसूल रहा है. बताया जा रहा है कि किसान खेत की पैमाइश कराने को लेकर राजस्व निरीक्षक यानि कानूनगो के पास आया. यहां कानूनगो ने अपनी कलम से स्वीकृति देने के लिए 10 हजार रुपये की माग की थी.

मज़बूर किसान अपनी जेब से पैसे निकालकर कानूनगों को पैसे दे रहा है. इस दौरान किसान ने रिश्वतखोरी का वीडियो अपने साथी द्वारा कैमरे में कैद करा लिया. मामले में बीसलपुर तहसीलदार ने आरोपी राजस्व निरीक्षक को निलंबित किये जाने के लिए डीएम को रिपोर्ट भेज दी है. दरअसल एक किसान अपने खेत की पैमाइश के लिए राजस्व निरीक्षक चेतराम के पास गया. चेतराम बीसलपुर तहसील इलाके के चुर्रासकतपुर क्षेत्र का राजस्व निरीक्षक है. किसान के पैमाइश की बात कहने के बाद तो मानो राजस्व निरीक्षक की लॉटरी लग गई. महोदय ने किसान से 10 हजार सरकारी फीस बताकर पैसे लाने की बात कह दी. बीसलपुर तहसील इलाके में रहने वाले इस किसान ने अपने साथी द्वारा पैसे देने का वीडियो कैमरे में कैद कर लिया.

किसान ने उसके बाद वीडियो को सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया. जानकारी देते हुए बीसलपुर तहसीलदार कुंवर बहादुर सिंह ने बताया कि आरोपी राजस्व निरीक्षक चेतराम चुर्रासकतपुर क्षेत्र में तैनात है. इसका एक रिश्वत लेने का वीडियो उनके संज्ञान में आया है. मामले की जांच की जा रही है, वहीं इसके निलंबन की कार्यवाही के लिए जिलाधिकारी को रिपोर्ट भेजी जा रही है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर