इंडो-तिब्बत बॉर्डर पर दुश्मन की फायरिंग में पीलीभीत का जवान गुरविंदर सिंह शहीद

34 राइफल्स में तैनात गुरविंदर की ड्यूटी चीन सीमा पर स्थित सिक्किम में चल रही थी. दुश्मनों द्वारा फायरिंग में ये शहीद हो गया. इसका पता तब चला, जब शहीद गुरविंदर सिंह के एक रिश्तेदार जोकि श्रीनगर सीमा पर तैनात हैं, उन्होंने गुरविंदर के कमाडेंट से शहादत की पुष्टि की.

News18India
Updated: May 30, 2018, 5:47 PM IST
इंडो-तिब्बत बॉर्डर पर दुश्मन की फायरिंग में पीलीभीत का जवान गुरविंदर सिंह शहीद
सिपाही गुरविंदर सिंह (File Photo).
News18India
Updated: May 30, 2018, 5:47 PM IST
पीलीभीत की धरती में पला बढ़ा देश का सिपाही गुरविंदर सिंह चीन-तिब्बत सीमा पर शहीद हो गया है. इससे उनके गांव ही नही बल्कि पूरे जनपद में मातम छा गया है. सूचना के बाद शहीद के घर के शुभचिंतकों और रिश्तेदारों की भीड़ जुट गई. गुरविंदर सिंह बाजवा पीलीभीत के पूरनपुर इलाके का रहने वाला था और 52 इंजीनियर रेजिमेंट बंगाल में 8 वर्ष पूर्व बतौर सैनिक भर्ती किया गया था.

दरअसल देश का नाम रौशन करने वाला 28 वर्षीय जवान गुरविंदर सिंह बाजवा पीलीभीत के पूरनपुर कोतवाली इलाके के अभयपुर माधोपुर गांव का रहने वाला था. गुरविंदर 28 सितंबर 2010 को भर्ती हुआ था. गुरविंदर का विवाह दो वर्ष पूर्व जगरूप कौर से हुआ. 34 राइफल्स में तैनात गुरविंदर की ड्यूटी चीन सीमा पर स्थित सिक्किम में चल रही थी. इस बीच दुश्मनों द्वारा फायरिंग में ये शहीद हो गया. इसका पता तब चला, जब शहीद गुरविंदर सिंह के एक रिश्तेदार जोकि श्रीनगर सीमा पर तैनात हैं, उन्होंने गुरविंदर के कमाडेंट से शहादत की पुष्टि की.

हालांकि ये अभी तक साफ नहीं है कि पोस्टमार्टम के बाद शहीद के पार्थिव शरीर को हवाई जहाज से वाया दिल्ली या फिर लखनऊ के रास्ते उसके घर पीलीभीत लाएंगे. मामले में डीएम अखिलेश ​कुमार मिश्रा ने जवान की शहादत और उनके शव आने की कोई सूचना अभी तक मंत्रालय से उन्हें नहीं मिली है. अभी यह नहीं पता है कि जवान का शव वाया लखनऊ या दिल्ली किस रास्ते से आएगा.

उधर जवान की मौत की खबर पर परिजनों में कोहराम मच गया. शहीद गुरविंदर सिंह के घर पर शुभ चिंतकों व रिश्तेदारों की भीड़ लग गई. परिजन व रिश्तेदारों को सैनिकों द्वारा शहीद के शव आने का बेसब्री से इंतजार है. शहीद गुरविंदर सिंह के पिता मेवा सिंह, माता सतनाम कौर व पत्नी जगरूप कौर का रो-रो कर बुरा हाल है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर