पीलीभीत के मंदिरों में पत्थर के नंदी पी रहे दूध, चमत्कार देखने भक्तों का उमड़ा तांता
Pilibhit News in Hindi

पीलीभीत के पूरनपुर इलाके के पंकज कॉलोनी मंदिर और बंडा बस स्टैंड मंदिर समेत कई मंदिरों में नंदी की मूर्ति के दूध पीने का वीडियो वायरल हुआ है.

  • Share this:
इसे आस्था कहेंगे या अंधविश्वास लेकिन एक बार फिर पत्थर की मूर्ति के दूध पीने का मामला सामने आया है. यूपी के पीलीभीत के कई मंदिरों में भगवान शिव के नंदी बैल की मूर्ति की दूध पीने की खबर सामने आते ही लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा. जिसे देखो वो हाथों में दूध और चम्मच लिए मंदिर की तरफ दौड़ पड़ा और नंदी की मूर्ति को दूध पिलाकर पुण्य कमाने में जुट गया.

पीलीभीत के पूरनपुर इलाके के पंकज कॉलोनी मंदिर और बंडा बस स्टैंड मंदिर समेत कई मंदिरों में नंदी की मूर्ति के दूध पीने का वीडियो वायरल हुआ है. जिसने भी इस वायरल वीडियो को देखा वह मंदिरों की तरफ दौड़ गया. देखते ही देखते शिव मंदिरों में भक्तों का तांता लग गया.

पिछले दिनों एमपी के रतलाम में भगवान कृष्ण के दूध पीने की आई थी खबर



मध्य प्रदेश के रतलाम में भगवान कृष्ण के दूध पीने की बात सामने आई थी. जिसके बाद श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी. हाथों में दुध और चम्मच लिए श्रद्वालु 'बाल गोपाल' की मूर्ति को दुध पिलाने पहुंचने लगे. बताया जाता है कि रतलाम के ताल में एक परिवार ने अपने यहां आयोजित 3 दिवसीय उत्सव के लिए इस मूर्ति को मंगवाया था. लोगों का दावा है कि यहां भगवान की मूर्ति दूध ग्रहण कर रही है. इसके बाद यह बात जंगल में आग की तरह फैल गई और देखते ही देखते श्रद्वालुओं की भारी भीड़ उमड़ पड़ी. इसका एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. वहीं, सोशल मीडिया पर कुछ लोगों ने दूध पीने करे दावे पर सवाल उठाते हुए इसे अंधविश्वास बता रहे हैं.
1995 में भी फैली थी अफवाह


बता दें कि साल 1995 की 21 सितंबर को भी देशभर में अफवाह फैली थी कि भगवान गणेश की मूर्तियां दूध पी रही हैं. गुरुवार के उस दिन गणेश मंदिरों पर भक्तों का हुजूम उमड़ पड़ा था. हर मंदिर के बाद अगले दो दिन तक इस चमत्कार की अफवाह के कारण भक्तों की भीड़ इकट्ठा होती रही थी. बाद में पता चला कि तांत्रिक चंद्रास्वामी के आश्रम से ये अफवाह उड़ाई गई थी. इसके बाद भी साल 2012 में राजस्थान के कई मंदिरों में भगवान गणेश की मूर्ति के दूध पीने की अफवाह फैलने के बाद वहां भी मंदिरों में भक्तों की भीड़ इकट्ठा होनी शुरू हो गई थी. साल 2015 में प्रयागराज में भी अफवाह फैली थी कि नंदी की मूर्ति दूध ग्रहण कर रही है. इसके बाद मंदिरों में भक्तों का सैलाब उमड़ पड़ा था.


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading