पीलीभीत: हजारों एकड़ गन्ने की फसल में लगा 'कैंसर', किसानों में मचा हड़कंप
Pilibhit News in Hindi

पीलीभीत: हजारों एकड़ गन्ने की फसल में लगा 'कैंसर', किसानों में मचा हड़कंप
पीलीभीत जिले में गन्ने की फसल में कैंसर रोग का प्रकोप.

गन्ना अधिकारी जितेंद्र मिश्रा ने बीसलपुर में जाकर किसानों की फसल का निरीक्षण किया. उन्होंने बताया कि यह रेडरॉट यानी लाल सड़न रोग (Red Rot) है, जिसे गन्ने का कैंसर भी कहते हैं.

  • Share this:
पीलीभीत. जिले में इस समय हजारों एकड़ में लगी गन्ने (Sugarcane) की खड़ी फसल सूख रही है, जिसके चलते इलाके के किसानों में हड़कंप मचा हुआ है. फसल के जानकार इसे गन्ने का कैंसर रोग बता रहे हैं, जिसकी वजह से हजारों एकड़ फसल बर्बाद होने की कगार पर है. इस लाइलाज बीमारी की वजह से किसानों को भारी नुकसान होने की आशंका जताई जा रही है.

पीलीभीत जिला यूपी के प्रमुख गन्ना उत्पादन जिलों में जाना जाता है, लेकिन इस समय जिले के किसानों के लिए एक बड़ी मुसीबत मुंह बाए खड़ी है. गन्ने की फसल पर कैंसर के हमले से फसल में जड़ के पास लाल रंग का फंगस लग रहा है, जिसकी वजह से गन्ना सूख रहा है. इस रोग की वजह से जिले में हजारों एकड़ फसल बर्बाद होने की कगार पर है. खासकर बीसलपुर तहसील के इलाके में इसका प्रकोप अधिक देखने को मिल रहा है. एक किसान अमित सिंह चौहान कहते हैं कि फसल में लाल रंग का फंगस लग रहा, जिसकी वजह से गन्ना सूख रहा है. इसकी शिकायत अधिकारियों से भी की गई है, लेकिन अभी तक कोई सुनवाई नहीं हुई है.

'यह गन्ने में एक लाइलाज बीमारी है'



बीमारी को सूचना पर गन्ना अधिकारी जितेंद्र मिश्रा ने बीसलपुर में जाकर किसानों की फसल का निरीक्षण किया. उन्होंने बताया कि यह रेडरॉट यानी लाल सड़न रोग है, जिसे गन्ने का कैंसर भी कहते हैं. इस बीमारी का कोई इलाज नहीं है. गन्ना निरीक्षक ने बताया कि यह गन्ने में एक लाइलाज बीमारी है. इसका कोई इलाज नहीं है. इस बीमारी को फैलने से रोका जा सकता है. उन्‍होंने बताया अगर कोई भी संक्रमित पौधा दिखता है तो किसान भाई उसे तुरंत नष्ट कर दें, नहीं तो यह बहुत तेजी से फैलता है. उन्होंने कहा कि हमारे लिए जीरो 238 प्रजाति सबसे अच्छी थी, लेकिन इसी में यह रोग ज्यादा मिल रहा है. गन्ना निरीक्षक के मुताबिक यह रोग जड़ से ऊपर की तरफ फैलता है. इसमें से अल्कोहल जैसी दुर्गंध आती है.
फसल कटने को तैयार

पीलीभीत जिले में गन्ने की अधिकतर फसलों में इस रोग का प्रकोप देखने को मिल रहा है. एक साल पूरा होने के बाद फसल पूरी तरीके से कटने को तैयार है. एक महीने बाद इस फसल की कटाई भी होनी है, लेकिन इस रोग से ग्रस्त होने से गन्ने की फसल को और किसानों को भारी नुकसान होने की उम्मीद जताई जा रही है.

(रिपोर्ट: मनोज शर्मा)

ये भी पढ़ें:

प्रदेश में चल रहा जंगलराज, फर्जी एनकाउंटर से जनता में बढ़ी बेचैनी: मायावती

आजम खान और उनके MLA बेटे पर लगा जानलेवा हमला कराने का आरोप, कांग्रेस नेता ने दी तहरीर
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading