लाइव टीवी

नाबालिग के साथ छेड़छाड़ की शिकायत करने गए पिता को पुलिस ने थाने में की पिटाई

News18 Uttar Pradesh
Updated: January 25, 2020, 10:50 PM IST
नाबालिग के साथ छेड़छाड़ की शिकायत करने गए पिता को पुलिस ने थाने में की पिटाई
छेड़छाड़ की वजह से छात्राओं ने स्कूल जाना छोड़ा

पुलिस (Police) ने रिर्पोट दर्ज करने के बजाए छात्राओं के पिता व आरोपियों को बुलाकर मात्र शांतिभंग में चालान कर दिया. इस दौरान छात्राओं के पिता को थाने पर पुलिस ने मारा भी.

  • Share this:
पीलीभीत. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में छेड़छाड़ से तंग आकर 11वीं की दो छात्राओं ने कॉलेज जाना छोड़ दिया है. कॉलेज (College) की प्रिंसिपल ने पुलिस को सूचना भी लिखित रूप से दी लेकिन पुलिस ने छात्राओं के पिता को ही थाने लाकर पीटा और 151 में चालान कर दिया. पुलिस के इस रवैया से छात्राएं डरीं हुईं हैं और दो दिन से कॉलेज नहीं जा रही है.

कॉलेज आते-जाते छात्राओं से होती थी छेड़छाड़
कॉलेज के गेट पर ही पुलिस महानिरीक्षक ने लिखा रखा है कि बालिकाएं सुरक्षा हेतु 1090 व 112 डायल करें. लेकिन यूपी पुलिस इसके विपरित शोहदों को संरक्षण दे रही है दरअसल थाना बिलसंडा के इरादतपुर गांव निवासी यह दोनों छात्राएं राजकीय इंटर कॉलेज बिलसंडा में 11वी क्लास में पढ़ती हैं. आरोप है कि कई दिनों से गांव के ही सुरेश व भगवान दास कॉलेज आते-जाते इन छात्राओं से छेड़छाड़ व फब्तियां कसते है छात्राएं विरोध करती है तो परिवार को जेल भिजवाने की धमकी देते है छात्राएं कॉलेज में ही डरी सहमी रहने लगी.

छात्राओं के पिता को पुलिस ने पीटा

जब प्रिंसिपल ने छात्राओं से इस डर का कारण पूछा तो छात्राओं ने पूरी बात बताई. जिसके बाद प्रिंसिपल ने छात्राओं से आरोपियों के खिलाफ तहरीर लिखवाकर अपने साइन से फावर्ड कर थाना बिलसंडा भेजी. लेकिन पुलिस ने रिर्पोट दर्ज करने के बजाए छात्राओं के पिता व आरोपियों को बुलाकर मात्र शांतिभंग में चालान कर दिया इस दौरान छात्राओं के पिता को थाने पर पुलिस ने मारा भी.

डर के मारे छात्राओं ने कॉलेज जाना किया बंद
इस कार्रवाई से छात्राएं इतना डर गई कि वह दो दिन से कॉलेज नहीं जा रही है. वहीं एसपी का कहना है कि 11 व 12 साल के बच्चों की लड़ाई थी. एसपी तो वही बोल रहे है जो थानाध्यक्ष ने उन्हें बताया एसपी यह भूल रहे है कि 11वीं की कोई छात्रा 11 व 12 साल की नहीं हो सकती है, 11वीं में 16 या 17 साल की ही छात्राएं पढ़ती है. ऐसे में सवाल उठता है सरकार महिलाओं व छात्राओं की सुरक्षा के लिए एंटी रोमियो स्कॉट व तमाम तरह के हेल्पलाइन चला रही है लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और ही बंया कर रही है जिसकी यह बानगी है.ये भी पढ़ें: 

Rising UP 2020: डिप्टी सीएम बोले 'बुआ-भतीजे से ज्यादा हमारी सरकार ने किया काम'

Rising UP: मुलायम की छोटी बहू बोलीं- CAA और PM मोदी को मेरा पूरा समर्थन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पीलीभीत से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 25, 2020, 10:50 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर