लाइव टीवी

नाथूराम गोडसे को बदनाम करने की साजिश नेहरू खानदान ने की: साध्वी प्राची

News18 Uttar Pradesh
Updated: December 14, 2019, 1:39 PM IST
नाथूराम गोडसे को बदनाम करने की साजिश नेहरू खानदान ने की: साध्वी प्राची
नाथूराम गोडसे को बदनाम करने की साजिश नेहरू खानदान ने की थी

पीलीभीत पहुंची साध्वी ने कहा कि 70 साल तक कांग्रेस ने देश पर शासन चलाया है, उसकी वजह से समस्याएं पैदा हुई हैं. इसलिए नेहरु खानदान की जांच होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि नाथूराम गोडसे को बदनाम करने की साजिश नेहरू ने की थी

  • Share this:
पीलीभीत. अपने विवादित बयानों (Controversial Statement) को लेकर चर्चा में रहने वाली विश्व हिंदू परिषद (VHP) की फायर ब्रांड नेता साध्वी प्राची (Sadhvi Prachi) ने कहा कि आतंकवाद, नक्सलवाद समेत देश की जो भी समस्याएं हैं वो नेहरू परिवार की देन है. शनिवार की शाम पीलीभीत पहुंची साध्वी ने कहा कि 70 साल तक कांग्रेस ने देश पर शासन चलाया है, उसकी वजह से समस्याएं पैदा हुई हैं. इसलिए नेहरु खानदान की जांच होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि नाथूराम गोडसे को बदनाम करने की साजिश नेहरू ने की थी.

साध्वी ने नागरिकता संशोधन बिल (CAB) की सराहना करते हुए कहा कि यह राष्ट्रहित में उठाया गया कदम है. इससे किसी को क्षति नहीं होगी. राष्ट्रद्रोहियों को देश से निकल जाना चाहिए. सरकार को अपना पंजीकरण रजिस्टर बनवाना चाहिए. इससे देश की आंतरिक सुरक्षा मजबूत होगी. सरकार जल्दी ही देश की महिलाओं की सुरक्षा को लेकर और प्रभावी कदम उठाएगी.

बीजेपी नेता डॉ. रत्नेश गंगवार के आवास पर मीडिया से बातचीत में साध्वी प्राची ने कहा कि एनआरसी (NRC) से किसी को डरने की जरूरत नहीं है, यह भारत के हित में है. उन्होंने कहा कि भारत विरोधी इसका विरोध कर रहे हैं. साध्वी ने कहा कि वर्ष 2019 सरकार के लिए लकी रहा है. वहीं राष्ट्रहित में जनसंख्या बिल आ रहा है. इसके तहत सभी का पंजीकरण होना चाहिए.

(इनपुट- परवेज खान)

ये भी पढे़ं:

कानपुर में मां गंगा के तट पर पीएम नरेंद्र मोदी का स्वागत एवं अभिनंदन: CM योगी

15 साल बाद LU में फिर से होगा छात्रसंघ चुनाव, हाईकोर्ट ने खारिज की याचिका

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पीलीभीत से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 14, 2019, 10:46 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर