लाइव टीवी

पीलीभीत में नरभक्षी बाघ का आतंक, अबतक 16 लोगों को बनाया शिकार

रवि सिंह | News18Hindi
Updated: June 25, 2017, 12:28 PM IST
पीलीभीत में नरभक्षी बाघ का आतंक, अबतक 16 लोगों को बनाया शिकार
बाघ की फाइल फोटो.

उत्तर प्रदेश के पीलीभीत में नरभक्षी बाघ का आतंक इस कदर है कि पिछले आठ महीने में सोलह लोग इसके शिकार हो चुके हैं

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 25, 2017, 12:28 PM IST
  • Share this:
उत्तर प्रदेश के पीलीभीत में नरभक्षी बाघ का आतंक इस कदर है कि पिछले आठ महीने में 16 लोग इसके शिकार हो चुके हैं. जिनमें 14 लोग तो बाघ का निवाला बन चुके है.बाघ खूंखार हो चुका है और हर वक्त अपना शिकार ढूढ़ता रहता है.

इसके पंजे ऐसे खूनी बन चुके हैं कि लोगों ने खौफ के नाते घरों से निकलना तक बंद कर दिया है.न्यूज 18 इंडिया की टीम उन जगहों पर गयी जहां पर खूंखार आदमखोर का आंतक है,जहां पर बाघ कर्फ्यू लग गया है जहां के इंसान लगता है कि बाघों के खाने की चीज बन चुके हैं.

शिवपुरिया गांव के रहने वाले मिहीलाल का परिवार का रो-रोकर बुरा हाल है.मिहीलाल की पत्नी को चिंता सता रही है कि बाघ का निवाला बन चुके मिहीलाल की मौत के बाद अब उनके परिवार के लिए निवाले का इंतजाम कौन करेगा.

बाघ के शिकार से घायल किसान गोपाल वने बताया कि वो खेत में काम करने गए थे कि अचानक बाघ ने उनपर हमला कर दिया. हमले में गोपाल बेहोश हो गए. आस पास में काम करने वाले किसान भाग खड़े हुए लेकिन गोपाल का बेटा बीरू ने बाघ के मुंह पर मार दिया जिससे बाघ छलांग लगाते हुए दूसरे खेत में भाग गया.

इस हमले में गोपाल बुरी तरह घायल हो गये हैं. कान का हिस्सा कटकर लटक गया था. सिर और पीठ में टाइगर के हमले के निशान हैं.वहीं मिहीलाल और गोपाल की तरह कई लोग बाघ के हमले के शिकार हो चुके हैं. आये दिन एक के बाद एक हमले में लोग अपनी जान गवां रहे हैं.

अगर अंकड़ों की बात करे तो अक्टूबर 2016 से लेकर अब तक 16 लोग बाघ के शिकार हुए जिनमें दो लोग किसी तरह बच निकले लेकिन 14 लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा हैं.

गौरतलब है कि पीलीभीत के लगभग 40 गांव ऐसे हैं जिन्हें बाघ कर्फ्यू अगर कहा जाय तो गलत नहीं होगा. क्योकि इस इलाके में लोगों में इतनी दहशत है कि शाम ढलते ही घरों में छिप जाते हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पीलीभीत से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 25, 2017, 12:14 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर