पीलीभीत: गन्ने के खेत में तीन मजदूर टाइगर के हमले में बुरी तरह घायल

पीलीभीत के न्यूरिया थाना इलाके के चौड़ाखेड़ा गांव का है. यहां गन्ना छील रहे 34 वर्षीय कृष्ण, 30 वर्षीरू रूपलाल और 27 साल के ओमप्रकाश पर अचानक बाघ ने हमला बोल दिया.

News18India
Updated: April 18, 2018, 1:54 PM IST
पीलीभीत: गन्ने के खेत में तीन मजदूर टाइगर के हमले में बुरी तरह घायल
टाइगर के हमले में घायल मजदूर
News18India
Updated: April 18, 2018, 1:54 PM IST
पीलीभीत टाइगर रिजर्व से निकल कर बाघ अब सामाजिक वानिकी में विचरण करने लगे हैं. यही कारण है कि खेतो में काम करने गए किसान व मजदूरों पर बाघ हमला कर देता है. अब टाइगर रिजर्व से बाघ बाहर क्यो निकल रहे है, ये एक बड़ा सवाल बन हुआ है. ताजा मामला न्यूरिया थाने में सामने आया है. यहां तीन मजदूरों को गन्ने के खेत में टाइगर ने हमला कर दिया. इनकी किस्मत अच्छी रही कि आसपास के लोगों का शोर सुनकर टाइगर भाग गया. तीनों को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

पीलीभीत के न्यूरिया थाना इलाके के चौड़ाखेड़ा गांव का है. यहां गन्ना छील रहे 34 वर्षीय कृष्ण, 30 वर्षीरू रूपलाल और 27 साल के ओमप्रकाश पर अचानक बाघ ने हमला बोल दिया. इनके चिल्लाने के बाद आसपास खेतो में काम करने वाले ग्रामीणों ने किसी तरह इन्हें बचाया. इसके बाद इनके परिजनों व विभाग को सूचना दी गई. ग्रामीणों ने आनन-फानन में घायलों को ले जाकर न्यूरिया सीएचसी में भर्ती कराया. मगर हालात गंभीर होने की वजह से इन्हें जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया है.

सूचना के बाद वन क्षेत्राधिकारी वन सत्येन्द्र पाल सहित विभाग की टीम जिला अस्पताल पहुंचकर मामले की जांच में जुट गई है. वहीं गाव के आसपास इलाकों में बाघ की मौजूदगी बताकर अलर्ट जारी कर दिया गया है. खेतों में काम कर रहे मजदूरों को अपने घर लौट जाने के लिए बोल दिया गया है. हालांकि वन विभाग के लिए ये बता पाना मुश्किल हो रहा है कि टाइगर रिजर्व जंगल से आये बाघ ने घटना को अंजाम दिया या फिर जनपद के थाना अमरिया इलाके में रहने वाले बाघ ने हमला किया है. मगर इस घटना के बाद इलाके में दहशत का माहौल बना हुआ है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर