लाइव टीवी

पीलीभीत: मायके आई महिला पर बाघ का हमला, गंवाई जान

News18India
Updated: March 5, 2018, 2:30 PM IST
पीलीभीत: मायके आई महिला पर बाघ का हमला, गंवाई जान
File Photo

घटना उस वक्त की है, जब गिरिजा अपनी एक सहेली के साथ खेत की तरफ शौच के लिए गई हुई थी. इस बीच गन्ने के खेत से निकलकर बाघ ने दोनों की तरफ झपटा.

  • Share this:
पीलीभीत टाइगर रिजर्व से निकलकर बाघों का रिहायशी इलाकों में विचरना अब आम बात हो गई है. अब ग्रामीणों व किसानों का खेत खलिहानों में निकलना दुश्वार हो चुका है. दूसरी तरफ टाइगर रिजर्व व सामाजिक वानिकी प्रभाग घटना के बाद लकीर पीटने में जुट जाते हैं. ताजा मामला पीलीभीत के कलीनगर तहसील क्षेत्र के चांदूपुर गांव की है. यहां बाघ ने 23वीं घटना को अंजाम दिया है. एक नवविवाहिता गिरिजा 22 वर्ष को बाघ ने निवाला बना लिया. दरअसल हेमराज की पत्नी गिरिजा की ससुराल पीलीभीत के जहानाबाद थाना इलाके के सिकलापुर गांव में है.

गिरिजा होली पर अपने पिता छेदालाल के घर अपने मायके माधोटांडा थाना इलाके के चांदूपुर गांव आयी थी. घटना उस वक्त की है, जब गिरिजा अपनी एक सहेली के साथ खेत की तरफ शौच के लिए गई हुई थी. इस बीच गन्ने के खेत से निकलकर बाघ ने दोनों की तरफ झपटा. गिरिजा के साथ उसकी सहेली मौके से भागने में सफल रही. मगर गिरिजा को बाघ ने दबोच लिया और गन्ने के खेत मे ले जाकर निवाला बनाया. उधर गिरिजा की सहेली ने गांव पहुंचकर ग्रामीणों को घटना की जानकारी दी. पूरा गांव मौके पर पहुचकर बाघ को खदेड़ा और गिरिजा के शव को कब्जे में ले लिया.

इस पूरे मामले की जानकारी के बाद प्रशासन हरकत में आया और मौके पर संबंधित उपजिलाधिकारी कलीनगर पुष्पा देवरार, टाइगर रिजर्व के डीएफओ कैलाश प्रकाश, सामाजिक वानिकी प्रभाग के डीएफओ आदर्श कुमार, क्षेत्राधिकारी अनुराग दर्शन व भारी पुलिस फोर्स मौके पर पहुंची. हालांकि वन विभाग द्वारा इन घटनाओं पर अंकुश लगा पाने में असफल मानते हुए ग्रामीण व परिजनों ने जमकर हंगामा व विरोध प्रदर्शन किया. मगर अधिकारियों ने उनको मुआवजा दिलाने व बाघों पर नियंत्रण करने के इंतजाम का दिलासा दिलाकर मामले को शांत कराया.

वन विभाग द्वारा अब इस बाघ को ट्रंकुलाइज करने के लिए तैयारी की जा रही है. घटनास्थल यानि गन्ने के खेत को चारों ओर से जाल लगाकर कॉम्बिंग की जा रही है. वहीं ग्रामीणों में भी रोष बना हुआ है. उनका कहना है कि इस बाघ को नहीं हटाया गया तो ये फिर किसी न किसी को निवाला बनाएगा. बता दें कि बीती 16 जनवरी 2018 को बाघ ने सेहरामऊ उत्तरी थाना इलाके के निजामपुर में 22वीं घटना को अंजाम दिया था, जिसमें मथुरा प्रसाद 22 वर्ष ने बाघ के हमले अपनी जान गंवाई थी.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पीलीभीत से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 5, 2018, 2:30 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...