लाइव टीवी

पीलीभीत में बाघ की दहशत, अलर्ट जारी

ETV UP/Uttarakhand
Updated: August 10, 2017, 11:12 AM IST

पीलीभीत में बाघ की दहशत कम करने के लिए प्रशासन ने एड़ी-चोटी का जोर लगा दिया है. कमिश्नर के आदेश पर पीलीभीत की डीएम शीतल वर्मा ने बाघ दिखाई देने पर मदद के लिए टोल फ्री नंबर 1926 जारी किया है.

  • Share this:
पीलीभीत में बाघ की दहशत कम करने के लिए प्रशासन ने एड़ी-चोटी का जोर लगा दिया है. कमिश्नर के आदेश पर पीलीभीत की डीएम शीतल वर्मा ने बाघ दिखाई देने पर मदद के लिए टोल फ्री नंबर 1926 जारी किया है.

विशेष परिस्थितियों में कलेक्ट्रेट कंट्रोल रूम का नंबर 05882-254116 पर सूचना देने के भी निर्देश दिये हैं. डीएम ने क्षेत्रीय लेखपाल, पंचायत सदस्य, प्रधान व कोटेदारों को ग्रामीणों के साथ बैठकर जागरूकता फ़ैलाने के निर्देश भी दिए हैं. उन्होंने लोगों से अपील की है. कि अकेले न निकलें. बच्चों को साथ में रखें. जंगल के आस-पास न घूमें.

उन्होंने यह भी ताकीद किया है कि किसी भी हालात में बाघ का पीछा न करें. यह विज्ञप्ति 24 घंटो के भीतर बाघ हमलों में दो किसानों की मौत के बाद जारी की गई है. इसकी जानकारी बरेली मंडल के वन संरक्षक वी. के.सिंह ने दी.

दरअसल पीलीभीत में अब बाघ की दहशत चरम पर है. वजह सिर्फ यह ही नहीं है कि बीते एक साल से भी कम समय में बाघ ने 16 ग्रामीणों को अपना शिकार बनाया है. अब बाघ और खौफनाक हो गए हैं. अब कुछ बाघ भटक कर टाईगर रिजर्व से निकल कर 20 किमी दूर आवादी वाले देवहा नदी के तटीय क्षेत्र और गांव में घूम रहे हैं और आसानी से किसानों को निवाला बना रहे हैं.

खास बात यह है कि अब वनाधिकारी भी मान रहे हैं कि इस परिस्थिति में ऐसे बाघ को टाईगर रिजर्व क्षेत्र में लौटना संभव नहीं है. इसको पकड़ना ही एकमात्र रास्ता है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पीलीभीत से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 10, 2017, 11:12 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर