Video: पीलीभीत के DM अचानक पहुंचे धान क्रय केंद्र और अफसरों की लगा दी क्लास, 4 निलंबित

पीलीभ्रीत की अनाज मंडी में अफसरों की क्लास लगाते डीएम पुलकित (Photo: Video Grab)
पीलीभ्रीत की अनाज मंडी में अफसरों की क्लास लगाते डीएम पुलकित (Photo: Video Grab)

पीलीभीत (Pilibhit) में धान क्रय केंद्र पर डीएम पुलकित खरे ने छापा मारा. उन्होंने अधिकारियों और केंद्र प्रभारियों को डांटते हुए कहा कि तुम्हारी वजह से सरकार को बदनामी उठानी पड़ती है क्योंकि किसानों को सरकारी मूल्य 1868 मिल सकता है लेकिन मजबूरी में 1200 में बेच रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 15, 2020, 1:24 PM IST
  • Share this:
पीलीभीत. उत्तर प्रदेश के पीलीभीत (Pilibhit) में डीएम पुलकित खरे (DM Pulkit Khare) ने मंडी में धान क्रय केंद्रों अचानक छापा मारा. इस दौरान डीएम के तेवर देखने लायक थे. किसानों का धान, जो सरकारी केंद्रों पर 1868 रुपए में बिकना चाहिए था, वह मात्र 1200 रुपये में आढ़ती खरीद रहे थे. डीएम ने देखा तो बिफर पड़े. उन्होंने गैर हाजिर 4 धान केंद्र प्रभारियों को तत्काल संस्पेंड कर दिया और किसानों की भीड में डिप्टी आरएमओ और मंडी सचिव को जमकर लताड़ लगाई.

धान क्रय केंद्र पर किसानों की हक की बात करते डीएम को देखकर किसान ताली बजाने लगे और कहा कि पहली बार कोई डीएम मसीहा बनकर आया है. डीएम के इस तेवर का वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है. किसानों की समस्या को गंभीरता से सुनने वाले पीलीभीत के डीएम की सोशल मीडिया पर लोग तारीफ कर रहे हैं.

अधिकारी नहीं सुधरे तो वह खुद करेंगे समस्या दूर
डीएम ने डिप्टी आरएमओ से कहा कि छिपाकर धान सेंटर लगाए गए हैं ताकि किसानों को आढ़ती लूट लें. डीएम ने खाद्यान्न माफियायों से अधिकारियों की मिलीभगत का भी आरोप लगा दिया. डीएम ने भीड़ में कहा कि अगर अधिकारी मंडी में निरीक्षण नहीं कर सकते तो वह खुद बार-बार मंडी आकर किसानों की समस्या दूर करेंगे.




1200 रुपए में धान बेचने को मजबूर हो रहे किसान
डीएम में अधिकारियों और केंद्र प्रभारियों को डांटते हुए कहा कि तुम्हारी वजह से सरकार को बदनामी उठानी पड़ती है. क्योंकि किसानों को सरकारी मूल्य 1868 मिल सकता है लेकिन मजबूरी में 1200 में बेच रहा है. किसानों का धान मुफ्त नहीं है. काफी खर्च होने के बाद मंडी तक किसान धान ला पाता है.  डीएम का कहना है कि मंडी के बाहर और अंदर मजिस्ट्रेट की तैनाती की जा रही है ताकि बिचौलियों से किसानों का बचाया जा सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज