छेड़खानी की शिकायत करने गई थी युवती, पुलिसवाले ने कहा- कपड़े देखकर पता चलता है तुम कौन हो?

पुलिसकर्मी की पहचान थाने में तैनात दीवान के तौर पर हुई है जिसका नाम तारबाबू है. वीडियो के वायरल होने के बाद तारबाबू को लाइन हाजिर कर दिया गया है.

News18Hindi
Updated: July 25, 2019, 3:28 PM IST
छेड़खानी की शिकायत करने गई थी युवती, पुलिसवाले ने कहा- कपड़े देखकर पता चलता है तुम कौन हो?
युवती से अभद्रता करने वाला दीवान तारबाबू.
News18Hindi
Updated: July 25, 2019, 3:28 PM IST
उत्तर प्रदेश में महिलाओं के प्रति बढ़ रहे अपराधों को लेकर पुलिस कितनी सजग है, इसकी बुधवार को पोल खुल गई. दरअसल, कानपुर में छेड़छाड़ से परेशान होकर एक युवती थाने पहुंची और आरोपियों के खिलाफ शिकायत दर्ज करवानी चाही, लेकिन वहां पर भी वह अभद्रता का शिकार हो गई. यहां पर उसके साथ बदसलूकी करने वाला कोई और नहीं थाने में ही मौजूद एक पुलिसकर्मी निकला.

युवती के हाथ में अंगूठियां और कड़े देखकर शर्मनाक ढंग से कहा कि हाथ में पांच-पांच अंगूठी और कड़ा पहनती हो, इसी से पता चलता है कि तुम क्या हो. पुलिसकर्मी की पहचान थाने में तैनात दीवान के तौर पर हुई है जिसका नाम तारबाबू है. इस पूरे घटनाक्रम का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया. इसके बाद तारबाबू को लाइन हाजिर कर दिया गया है. वहीं, कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी ने मामले का वीडियो ट्वीट किया है.

मां के साथ गई थी युवती
युवती शिकायत करने के लिए अपनी मां के साथ थाने में पहुंची थी. जब तारबाबू ने यह बात बोली तो उसकी मां ने उसे टोका और कहा कि गहने तो सभी पहनते हैं. इस बात पर वह भड़क गया और युवती के शिकायत पत्र को फाड़ दिया और अपने हिसाब से जबरन दूसरी शिकायत लिखवाई. युवती ने थाने में बताया कि उसी के क्षेत्र में रहने वाले आशिक अमर और विक्की ने उसके साथ छेड़खानी की. जब उसने और उसके भाई ने विरोध किया तो तीनों ने उनके साथ मारपीट की. लेकिन तारबाबू ने इस बात को नहीं सुना और उसका शिकायत पत्र फाड़ दिया.

नहीं करवाई महिला पुलिसकर्मी से बात
कानून के अनुसार युवती की शिकायत एक महिला पुलिसकर्मी को दर्ज करनी चाहिए थी. लेकिन थाने में ऐसा नहीं हुआ. दीवान तारबाबू खुद ही युवती से अभद्रता करता रहा. इस दौरान थाने में किसी ने उसे नहीं रोका.



प्रियंका ने कहा- न्याय दिलाने की पहली सीढ़ी है बात सुनना
इस पूरे घटनाक्रम का वी‌डियो कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया. उन्होंने लिखा कि थाने में छेड़खानी की रिपोर्ट करने गई युवती के साथ ऐसा व्यवहार हो रहा है. एक तरफ तो यूपी में महिलाओं के खिलाफ अपराध कम नहीं हो रहा है वहीं कानून के रखवाले ऐसा व्यवहार कर रहे हैं. उन्होंने लिखा- महिलाओं को न्याय दिलाने की पहली सीढ़ी है उनकी बात को सुनना.

ये भी पढ़ें - सोनभद्र नरसंहार का बदला लेने की फिराक में बस्तर के नक्सली, IB अलर्ट पर

नेताजी सुभाष चंद्र बोस के रहस्य से नहीं उठ सका पर्दा और गुमनाम ही रहे गए गुमनामी बाबा
First published: July 25, 2019, 3:09 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...