प्रतापगढ़: पुलिसलाइन की मस्जिद में नमाज पढ़ने से रोकने पर पुलिस से भिड़े AIMIM के नेता
Pratapgarh-Uttar-Pradesh-2 News in Hindi

प्रतापगढ़: पुलिसलाइन की मस्जिद में नमाज पढ़ने से रोकने पर पुलिस से भिड़े AIMIM के नेता
पुलिसलाइन स्थित मस्जिद में नमाज पढ़ने को लेकर हुई झड़प

प्रतापगढ़ पुलिस (Pratapgarh Police) के नमाज न पढ़ने के फरमान का दर्जनों एमआईएमआईएम (AIMIM) और मुस्लिम अधिवक्ताओं ने विरोध किया.

  • Share this:
प्रतापगढ़. पुलिस लाइन स्थित मस्जिद में नमाज पढ़ने को लेकर प्रतापगढ़ पुलिस (Pratapgarh Police) और नमाजियों के बीच शुक्रवार को झड़प हो गई  एआईएमआईएम (AIMIM) के दर्जनों नेता और मुस्लिम अधिवक्ता पुलिसलाइन (Police Line) परिसर में नमाज पढ़े जाने पर रोकने से खफा हो गए. जिसके बाद दर्जनों की संख्या में लोग मौके पर आ गए. मुस्लिम समुदाय के लोगों ने पुलिस से हुई तीखी झड़प के बाद बैरियर तोड़ कर पुलिसलाइन परिसर स्थित मस्जिद तक जा पहुंचे. जिसके बाद तीन दर्जन मुस्लिम युवकों ने जुमे की नमाज अदा की.

इस दौरान पूरे रास्ते मुस्लिम अधिवक्ताओं और नेताओं से पुलिस की झड़प होती रही. दर्जनों पुलिसकर्मी उनको रोकने का प्रयास करते रहे, लेकिन उनकी जिद के आगे सफल नहीं हुए. तनावपूर्ण माहौल में लोगों ने नमाज अदा की.

इसरार अहमद ने पुलिस पर लगाए गंभीर आरोप



उधर AIMIM के नेता इसरार अहमद ने पुलिस पर गंभीर आरोप लगते हुए कहा की पुलिस लाइन परिसर में स्थित मस्जिद में मुस्लिम भाई कई वर्षों से नमाज अदा करते हैं, लेकिन आज प्रतापगढ़ पुलिस ने उनको नमाज अदा करने से रोक दिया. जिसके बाद दर्जनों मुस्लिम भाईयों की नमाज भी छूट गई. जबकि दर्जनों लोगों ने जबरन मस्जिद में पहुंचकर नमाज अदा की.


पुलिस ने दी सुरक्षा की दलील

उधर पुलिस ने पूरे मामले में पुलिसलाइन की सुरक्षा की दलील देते हुए नमाजी को अंदर न जाने देने की बात कही है. एएसपी सुरेन्द्र द्विवेदी का कहना है मस्जिद पुलिसलाइन परिसर में स्थित है. अगर किसी को नमाज अदा करनी है तो प्रतापगढ़ पुलिस से परमीशन लेकर नमाज पढ़ सकता है. पुलिस के रूल में पुलिसलाइन परिसर में किसी भी व्यक्ति का प्रवेश वर्जित रहता है.

सियासत भी शुरू

फिलहाल इस मामले ने जिले की सियासत को भी गरमा दिया है. बीजेपी अध्यक्ष हरीओम मिश्रा का कहना है कि इस मामले में पुलिस की बात सभी को माननी चाहिए. अगर पुलिस ने सुरक्षा कारणों से ऐसी बात कही है तो सभी को उनकी बात माननी चाहिए. शहर में तमाम मस्जिद है, वहां जाकर नमाज पढ़ना चाहिए. जबकि कांग्रेस के जिलाध्यक्ष बीजेन्द्र मिश्रा का कहना है कि पहले इस बात को देखना चाहिए क्या पहले वहां नमाज पढ़ी जाती थी? अगर ऐसा है तो पुलिस को नमाज पढ़ने से रोकना नहीं चाहिए.

ये भी पढ़ें:

राज्यपाल से सम्मानित गुरुजी ने चंदौली को बताया पंजाब की राजधानी, हुए निलंबित

दिल्ली के बाद अब प्रतापगढ़ में भड़के वकील, अपशब्द कहने पर SDM को बनाया बंधक
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading