होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /UP Chunav: राजा भैया के करीबी को चुनाव में दे चुकी हैं पटखनी, जानें कौन हैं कुंडा से BJP प्रत्‍याशी सिंधुजा मिश्रा

UP Chunav: राजा भैया के करीबी को चुनाव में दे चुकी हैं पटखनी, जानें कौन हैं कुंडा से BJP प्रत्‍याशी सिंधुजा मिश्रा

भाजपा ने प्रतापगढ़ की चर्चित विधानसभा कुंडा से सिंधुजा मिश्रा को टिकट दिया है. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी)

भाजपा ने प्रतापगढ़ की चर्चित विधानसभा कुंडा से सिंधुजा मिश्रा को टिकट दिया है. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी)

Kunda Seat: सिंधुजा मिश्रा ने पहली बार बसपा के समर्थन से कोऑपरेटिव बैंक चुनाव लड़ कर 2009 में जीत दर्ज की थी. उन्होंने र ...अधिक पढ़ें

प्रतापगढ़. भाजपा ने शुक्रवार को उत्‍तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए प्रत्‍याशियों की नई लिस्‍ट जारी की. इसमें कई हाईप्रोफाइल सीटों के लिए उम्‍मीदवारों की घोषणा की गई है. इन्‍हीं में से एक है प्रतापगढ़ के अंतर्गत आने वाली कुंड विधानसभा सीट. भाजपा ने प्रतापगढ़ की 4 सीटों के लिए उम्मीदवारों के नाम की घोषणा की है. इसमें कुंडा ​सीट से सिंधुजा मिश्रा को प्रत्‍याशी बनाया गया है. बता दें कि कुंंडा से ही रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया भी चुनाव मैदान में हैं, ऐसे में कुंडा विधानसभा में राजनीतिक माहौल पूरी तरह से गर्म हो गया है. राजा भैया की इस क्षेत्र में पकड़ है, ऐसे में सिंधुजा उनके खिलाफ क्या रणनीति अपनाएंगी यह चर्चा का​ विषय है. साथ ही सभी अब सिंधुजा के बारे में सब कुछ जानना चाहते हैं. आइए आपको बताते हैं कि अचानक चर्चा में आईं सिंधुजा मिश्रा कौन हैं…

सिंधुजा मिश्रा की पढ़ाई की बात करें तो वह एमए, बीएड और एलएलबी हैं. वह हाइकोर्ट में अधिवक्ता भी हैं. सिंधुजा मिश्रा ने पहली बार बसपा के समर्थन से कोऑपरेटिव बैंक का चुनाव लड़ा था. उन्‍होंने वर्ष 2009 में हुए इस चुनाव में राजा भैया के करीबी को पटखनी देकर जीत हासिल की थी. वह 2009 से 2014 तक कोऑपरेटिव बैंक की अध्यक्ष रहीं. साल 2012 में विश्वनाथगंज विधानसभा से बसपा के टिकट पर वह चुनाव में उतरी थीं, लेकिन उनको हार का सामना करना पड़ा. इसके बाद हुए उपचुनाव में भी सिंधुजा मिश्रा को तीसरे स्थान से ही संतोष करना पड़ा था. सिंधुजा मिश्रा लोकसभा चुनाव 2019 में अपने पति शिवप्रकाश सेनानी के साथ भाजपा में शामिल हुई थीं.

Pratapgarh, Pratagarh news, Kunda seat, Sindhuja Mishra, Raja Bhaiya

कुंडा से सिंधुजा मिश्रा को बीजेपी का टिकट मिला है. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी)

सिंधुजा के पति दो बार राजा भैया के खिलाफ लड़ चुके हैं चुनाव
सिंधुजा मिश्रा के पति शिव प्रकाश मिश्र सेनानी ने अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत सपा से 2000 में की. उन्होंने राजा भैया के रिश्तेदार अक्षय प्रताप उर्फ गोपाल के खिलाफ MLC का चुनाव लड़ा था. इसमें उनको हार का सामना करना पड़ा था, वहीं 2004 में सेनानी बसपा में शामिल हुए. बसपा से विधानसभा सीट कुंडा से शिवप्रकाश मिश्र ने राजा भैया के खिलाफ पहली बार चुनाव लड़ा. राजा भैया को चुनाव में 73732 वोट मिले जबकि सेनानी को 20604 वोट पाकर ही संतोष करना पड़ा. 2012 के विधानसभा चुनाव में कुंडा विधानसभा सीट से दूसरी बार सेनानी ने राजा भैया के खिलाफ चुनावी ताल ठोकी. राजा भैया 1,11,392 पाकर भारी मतों से जीते. वहीं, सेनानी 23137 वोट पाकर दूसरी बार चुनावी मैदान में हार गए.

UP Chunav 2022: BJP ने भी राजा भैया के खिलाफ उतारा उम्‍मीदवार, महिला नेता कुंडा में देंगी टक्‍कर

कैबिनेट मंत्री मोती सिंह पर फिर जताया विश्वास
पट्टी विधानसभा सीट से राजेन्द्र प्रताप मोती पर भाजपा ने फिर से भरोसा जताया है. राजेन्द्र प्रताप मोती 1996 में भाजपा से पट्टी विधानसभा से चुनाव लड़ कर जीत का परचम लहराया था. 2002, 2007, 2017 में राजेन्द्र प्रताप मोती चार बार विधायक चुने गए. जबकी 2012 में सपा के राम सिंह पटेल ने उनको विधानसभा का चुनाव हरा कर जीत दर्ज की थी.

रामपुरखास और बाबागंज विधानसभा सीट
कांग्रेस के गढ़ रामपुरखास से भाजपा ने नागेश प्रताप उर्फ छोटे सरकार को टिकट दिया है. रामपुरखास विधानसभा सीट पर कांग्रेस के प्रमोद तिवारी और उनके बेटी का 42 वर्षों से कब्जा है. नागेश प्रताप ने रामपुरखास विधानसभा 2017 में चुनाव लड़ा था. कांग्रेस की आराधना मिश्र को कड़ी टक्कर देते हुए 16 हजार मतों से चुनाव हार गए थे. कांग्रेस के गढ़ में अच्छा प्रदर्शन को लेकर भाजपा ने नागेश सिंह पर फिर भरोसा जताते हुए उनको इस बार भी उम्मीदवार बनाया है. वहीं, बाबागंज विधानसभा सीट से केशव पासी को इस बार चुनावी मैदान में उतारा है.

Tags: UP chunav, Uttar Pradesh Assembly Election 2022

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें