प्रतापगढ़: MP अनुप्रिया पटेल के सामने योगी सरकार के मंत्री के खिलाफ लगे मुर्दाबाद के नारे
Pratapgarh-Uttar-Pradesh-2 News in Hindi

प्रतापगढ़: MP अनुप्रिया पटेल के सामने योगी सरकार के मंत्री के खिलाफ लगे मुर्दाबाद के नारे
योगी सरकार के मंत्री के खिलाफ लगे मुर्दाबाद के नारे

ब्राह्मण और पटेल जाति के बीच विवाद के बाद सांसद अनुप्रिया पटेल (Anupriya Patel) इलाके में जायजा लेने आई थीं.

  • Share this:
प्रतापगढ़. उत्तर प्रदेश में बीजेपी के एक अहम सहयोगी अपना दल (सोनेलाल) की संरक्षक और मिर्जापुर की सांसद अनुप्रिया पटेल (Anupriya Patel) के सामने प्रदेश के कैबिनेट मंत्री मोती सिंह के खिलाफ मुर्दाबाद के नारे लगाए गए. इस दौरान धारा 144 और सोशल डिस्टेंसिंग की जमकर धज्जियां भी उड़ीं. पूर्व मंत्री व सांसद अनुप्रिया पटेल के साथ अपना दल के मंत्री जय प्रकाश सिंह उर्फ़ जैकी और सदर विधायक राजकुमार पाल को गोविन्दपुर गांव जाने की अनुमति मिली थी. दरअसल, 22 मई को गोविंदपुर गांव में ब्राह्मण और पटेल समुदाय में जातीय संघर्ष हो गया था, जिसका जायजा लेने सांसद अनुप्रिया पटेल गांव पहुंची थीं.

अनुप्रिया पटेल एक पक्ष से मिलने दर्जनों गाड़ियों के काफिले और हजार की संख्या में कार्यकर्त्ताओं को लेकर गोविंदपुर गांव पहुंचीं थीं. पूर्व केंद्रीय मंत्री और मिर्जापुर की सांसद अनुप्रिया पटेल ने कहा कि प्रतापगढ़ पुलिस की अनुभवहीनता से गोविंदपुर में मामला बढ़ा. उन्होंने मंडलायुक्त की जांच को सार्वजानिक करने की मांग की. वहीं, सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाने के मामले में अपना दल सुप्रीमो अनुप्रिया पटेल ने कहा कि यह काम मेरा नहीं, बल्कि सुरक्षा कर्मियों का है, कैसे इतनी संख्या में लोग जमा हो गए.

मिर्जापुर की सांसद अनुप्रिया पटेल का काफिला
मिर्जापुर की सांसद अनुप्रिया पटेल का काफिला




अनुप्रिया पटेल ने कहा कि सुरक्षाकर्मी मेरे निर्देश पर काम नहीं करते हैं. जबकी कार्यकर्ताओं को बाहर जाने के लिए अनुप्रिया चिल्लाती रहीं, लेकिन अपना दल के नेता और कार्यकर्ता नियम-कानून को हवा में उड़ाते रहे. इस दौरान अनुप्रिया पटेल ने महिलाओं की बारी-बारी से समस्याएं सुनीं और आगजनी हुए घर को भी देखा. साथ ही पीड़ित परिवार को न्याय का भरोसा भी दिलाया.
बता दें कि प्रतापगढ़ का गोविंदपुर गांव इन दिनों राजनीति का अखाड़ा बना हुआ है. आरोप है कि जानवर के खेत में जाने के बाद ब्राह्मण और पटेलों में जमकर विवाद हो गया था. इसके बाद पटेलों के घर में आग लग गयी. इस हादसे में 3 भैंस जलकर मर गयीं. इसी मामले को लेकर राजनीति इतनी तेज हुई की गोविंदपुर गांव का राजनेता चक्कर लगा रहे हैं.

ये भी पढे़ं:

बेरोजगार असली अनामिका शुक्ला को मिली नौकरी, गोंडा के इस स्कूल में बनीं टीचर
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading