प्रतापगढ़: डेढ़ दर्जन राष्ट्रीय पक्षी मोर की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत, सामने आई ये वजह

प्रतापगढ़ में डेढ़ दर्जन मोर के मरने की घटना से हड़कंप मचा हुआ है.

प्रतापगढ़ में डेढ़ दर्जन मोर के मरने की घटना से हड़कंप मचा हुआ है.

Pratapgarh News: प्रतापगढ़ में डेढ़ दर्जन मोर आम और आंवले के बाग में मरे पाए गए. वन विभाग की टीम ने एक मोर और एक मोरनी का पोस्टमार्टम भी किया. उसमें पता चला कि...

  • Share this:

प्रतापगढ़. उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ (Pratapgarh) से बड़ी खबर है. यहां डेढ़ दर्जन राष्ट्रीय पक्षी मोर (Peacock) की संदिग्ध हालत में अचानक मौत (Death) हो गई. ये सभी मोर आम और आंवले के बाग में मृत अवस्था पर पड़े मिले. ग्रामीणों ने जब बाग में इतनी बड़ी तादाद में मोर की मौत देखी तो दहशत में आ गए. ग्रामीणों ने फौरन इसकी सूचना वन विभाग के अफसरों को दी. सूचना पर पहुंची वन विभाग की टीम ने एक मोर और एक मोरनी का पोस्टमार्टम भी किया. जिसके बाद दोनो मोर की मौत की वजह वन विभाग ने न्यूमोनिया से होने बताया है.

इसके अलावा दो मोर का पोस्टमार्टम सदर पशु अस्पताल में ले जाकर किया गया. उप मुख्य पशु चिकित्सक अधिकारी ने न्यूमोनिया से मोरों की मौत होने की पुष्टि की लेकिन नगर कोतवाली के बैजलपुर गांव में ताबड़तोड़ दर्जन भर से अधिक मोर की मौत से ग्रामीण सहमे हुए हैं. कोरोना काल में इलाके में ग्रामीण तरह-तरह की चर्चाएं कर रहे हैं. ग्रामीण सभी मृत मोर की पोस्टमार्टम करने की मांग भी कर रहे हैं.

देर शाम तक गांव इलाके में मृत मोर का शव मिलने का सिलसिला जारी रहा लेकिन वह विभाग के अफसरों के लापरवाही के चलते दर्जन भर मोर के शव को कब्जे में नही लिया गया. इस दौरान गांव में ग्रामीणों की भारी भीड़ भी जमा रही. वहीं दो मोर के पोस्टमार्टम होने के बाद उसको दफन कर दिया गया. ये सभी मोर आंवले और जंगल मे मृत अवस्था में पाए जा रहे हैं. ग्रामीण देर शाम तक जंगल और बाग में मृत मोर की तलाश करते हुए भी देखे गए. ग्रामीणों की सक्रियता से ही डेढ़ दर्जन मोर के शव शाम तक मिल सके.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज