Pratapgarh news

प्रतापगढ़

अपना जिला चुनें

प्रतापगढ़: जेल में बंद सपा जिलाध्यक्ष छविनाथ यादव पर गैंगस्टर एक्ट की कार्रवाई

जेल में बंद हैं सपा जिलाध्यक्ष छविनाथ यादव

जेल में बंद हैं सपा जिलाध्यक्ष छविनाथ यादव

जिलाधिकारी के आदेश पर पुलिस ने यह कार्रवाई की है. पुलिस के मुताबिक छविनाथ यादव (Chhavinath Yadav) मानिकपुर थाने का हिस्ट्रीशीटर भी है. छविनाथ यादव पर दो दर्जन से अधिक संगीन मुकदमे दर्ज हैं.

SHARE THIS:
प्रतापगढ़. पिछले दिनों एक दलित महिला की जमीन कब्जाने की कोशिश और मारपीट में गिरफ्तार हुए प्रतापगढ़ (Pratapgarh) समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के जिलाध्यक्ष छविनाथ यादव (Chhavinath Yadav) की मुश्किलें बढ़ गई है. जिला प्रशासन ने अब छविनाथ यादव के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट (Gangster Act) की कार्रवाई की है. जिलाधिकारी के आदेश पर पुलिस ने यह कार्रवाई की है.  पुलिस के मुताबिक छविनाथ यादव मानिकपुर थाने का हिस्ट्रीशीटर भी है. छविनाथ यादव पर दो दर्जन से अधिक संगीन मुकदमे दर्ज हैं.

दबंगई का वीडियो हुआ था वायरल

दरअसल, पूरा मामला मानिकपुर थाना के बुलाकीपुर गांव का है, जहां सपा जिलाध्यक्ष के दंबगई का वीडियो शोसल मीडिया पर वायरल हुआ है. सपा जिलाध्यक्ष पर फिल्मी स्टाइल में अपने गुर्गों के साथ राइफल लेकर दलित की जमीन कब्जा करने का आरोप लगा है. इतना ही नहीं जमीन कब्जे का विरोध करने पर दो दलित को पीटने और जान से मारने की धमकी देने का आरोप भी लगा है. सपा जिलाध्यक्ष की दंबगई का वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस ने पीड़िता गायत्री हरिजन की शिकायत पर सपा जिलाध्यक्ष छवि नाथ यादव ,गनर राम सिंह यादव, समेत तीन अज्ञात के विरुद्ध मानिकपुर थाने में मारपीट, बलवा,एससी/एसटी समेत संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज किया. जिसके कुछ घंटे बाद ही पुलिस ने सपा जिलाध्यक्ष छवि नाथ यादव और गनर को मानिकपुर थाना इलाके से गिरफ्तार कर लिया.

समाजवादी पार्टी का विरोध

उधर गिरफ़्तारी के बाद समाजवादी पार्टी का विरोध भी सामने आया. सोमवार को सपा प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल और एमएलसी सुनील सिंह साजन छविनाथ से मुलाक़ात करने प्रतापगढ़ के लिए रवाना हुए, लेकिन पुलिस ने उन्हें रास्ते में ही रोक दिया. नरेश उत्तम पटेल ने कहा कि सरकार बदले की कार्रवाई कर रही. हमें प्रतापगढ़ जाने से रोका जा रहा है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

प्रयागराज: ट्रेन से गायब हुआ शव रखा ताबूत, 16 घंटे बाद MP में मिला, जानिए कैसे?

लोकमान्य तिलक टर्मिनस से प्रयागराज आने वाली एक ट्रेन से शव रखा ताबूत गायब हो गया.

Prayagraj News: प्रतापगढ़ की बुजुर्ग महिला सरवरी बेगम कैंसर से पीड़ित थीं. मुम्बई के टाटा हॉस्पिटल में इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई. परिवारवालों शव को ताबूत में रखकर ट्रेन के ज़रिये प्रयागराज तक लाने और यहां से एम्बुलेंस से घर ले जाने का फैसला किया.

SHARE THIS:

इलाहाबाद. देश की लाइफलाइन कहे जाने वाले भारतीय रेलवे (Indian Railways) की बड़ी लापरवाही सामने आई है. रेलवे के अधिकारियों और कर्मचारियों की लापरवाही से एक महिला का शव ताबूत के साथ चलती ट्रेन से गायब हो गया? उसे ढूंढ़ने में रेल अफसरों के पसीने छूट गए. मुम्बई से लेकर प्रयागराज तक मचे हड़कंप के बाद रेलवे ने करीब 16 घंटे बाद शव और ताबूत को ढूंढ निकाला और शव को परिजनों को सौंप दिया. इस दौरान परिवार वालों की सांस अटकी रही और मृतक महिला का संस्कार एक दिन बाद हो सका.

इस मामले में रेलवे के अधिकारी अपनी गलती मानने के बजाय दिमागी तौर पर बीमार किसी अंजान शख्स को दोषी बताकर अपनी ज़िम्मेदारी से पल्ला झाड़ने की कोशिश में लगे हुए हैं.

ये है पूरा मामला

दरअसल पूरा मामला यूपी के प्रतापगढ़ जिले के पट्टी इलाके का है. यहां की रहने वाली बुजुर्ग महिला सरवरी बेगम कैंसर की बीमारी से पीड़ित थीं. मुम्बई के टाटा हॉस्पिटल में उनका इलाज चल रहा था. तीन दिन पहले इलाज के दौरान अस्पताल में उनकी मौत हो गई. परिवार वालों शव को ताबूत में रखकर उसे ट्रेन के ज़रिये प्रयागराज तक लाने और यहां से एम्बुलेंस से घर ले जाने का फैसला किया. परिवार वालों ने लोकमान्य तिलक टर्मिनस से मडुवाडीह तक चलने वाली ट्रेन नंबर 12167 से अपना टिकट स्लीपर क्लास से बुक कराया, जबकि ताबूत को गार्ड के बगल एसएलआर यानी सामान रखने के कोच में बुक करा दिया. मुम्बई में परिवार वालों ने ताबूत को अपनी मौजूदगी में एसएलआर कोच में चढ़वाया.

ताबूत गायब मिला तो मचा हड़कंप

13 सितम्बर को रात करीब 11 बजे ट्रेन जब प्रयागराज के छिवकी स्टेशन पहुंची तो परिवार वाले ताबूत लेने के लिए एसएलआर कोच पहुंचे. वहां उन्हें बताया गया कि कोच में रखा ताबूत गायब हो गया है और संभवतः वह रास्ते में कहीं गिर गया है. परिवारवालों ने हंगामा शुरू किया तो मुम्बई से लेकर जबलपुर तक हड़कंप मचा. सभी जगह आरपीएफ को एलर्ट पर डाला गया.

ट्रैक किनारे क्षत-विक्षत हालत में मिला ताबूत और शव

अधिकारियों ने भी इस लापरवाही को गंभीरता से लिया. जिसके बाद शव और ताबूत मध्य प्रदेश के मैहर जिले में ट्रैक के किनारे की झाड़ियों में पड़ा हुआ मिला. ताबूत कई जगह से टूट गया था. इतना ही नहीं शव को भी नुकसान पहुंचा. बहरहाल ताबूत की मरम्मत कराकर उसे दूसरी ट्रेन से मंगलवार शाम करीब चार बजे प्रयागराज भेजा गया. यहां घंटों की औपचारिकता के बाद शव परिवार वालों को सौंप दिया गया. परिवार वाले देर रात शव लेकर प्रतापगढ़ पहुंचे. इस लापरवाही की वजह महिला के शव का अंतिम संस्कार बुधवार दोपहर को हो सका.

मामले में पल्ला झाड़ने की कोशिश

इस मामले में नार्थ सेंट्रल रेलवे जोन के सीपीआरओ डॉ शिवम शर्मा ने पहले तो इस मामले को दूसरे जोन का बताकर पल्ला झाड़ने की कोशिश की. उन्हें जब यह याद दिलाया गया कि प्रयागराज छिंवकी स्टेशन, जहां शव उतरना था, वह इसी जोन में आता है, तब उन्होंने डैमेज कंट्रोल यानी शव के गिरने के बाद रेल महकमे द्वारा की गई कवायद के बारे में जानकारी दी. उन्होंने बताया कि जबलपुर के आरपीएफ अफसरों ने जानकारी दी है कि रास्ते में पागल सा दिखने वाला कोई शख्स ट्रेन के नजदीक आ गया था और उसने एसएलआर कोच की सील को तोड़ दिया था. इसी वजह से रास्ते में मैहर के पास ताबूत छिटककर गिर गया. जबकि नियम के मुताबिक जिस स्टेशन पर माल उतरता है वहां पर एस एल आर कोच को विधिवत सील किया जाता है.

इस मामले में लापरवाही बरतने वालों के खिलाफ कार्रवाई के सवाल को उन्होंने वेस्टर्न रेलवे पर छोड़ दिया. वहीं रेलवे की इस लापरवाही से मृतका के परिजनों में दुख के साथ गुस्सा भी है.

पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह ने कभी नहीं किया मेरा विरोध- राजा भैया

UP: निर्दलीय विधायक रघुराज प्रताप सिंह राजा भैया प्रतापगढ़ से अयोध्या तक यात्रा निकाल रहे हैं.

Sultanpur News: रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया से जब जनसत्ता दल के गठबंधन पर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि अभी अपने पार्टी संगठन को बढ़ाने का काम कर रहे हैं. अभी किसी भी दल या नेता से कोई गठबंधन की बात नहीं हुई है.

SHARE THIS:

सुल्तानपुर. यूपी के प्रतापगढ़ (Pratapgarh) में कुंडा के विधायक रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया (Raghuraj Pratap Singh Raja Bhaiya) ने आज से जनसत्ता दल लोकतांत्रिक पार्टी की जन सेवा संकल्प यात्रा की शुरुआत की है. वह प्रतापगढ़ से अयोध्या (Ayodhya) के लिए रवाना हुए हैं. इस दौरान सुल्तानपुर (Sultanpur) में वह रुके और उनका पार्टी कार्यकर्ताओं ने जोरदार स्वागत किया. इस दौरान राजा भैया ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री स्वर्गीय कल्याण सिंह (Kalyan Singh) ने कभी मेरा विरोध नहीं किया, जो भी बात हो सिर्फ अफवाह है. उन्होंने हमेशा मुझे सहयोग दिया.

बता दें यूपी विधानसभा चुनाव-2022 को लेकर रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया भी सक्रिय हो चुके हैं और पूरे प्रदेश में जनसत्ता पार्टी के प्रचार प्रसार के लिए यात्रा कर रहे हैं. जिसकी शुरुआत आज होने अयोध्या से की है. नई पार्टी बनाने पर उन्होंने कहा इतने समय तक निर्दलीय विधायक रहने के बाद जब लोगों से राय ली गई, उनका विचार था कि पार्टी का गठन किया जाए. लोगों के राय पर ही हमने पार्टी का गठन किया है.

जब विधायक राजा भैया से गठबंधन का सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि अभी अपने पार्टी संगठन को बढ़ाने का काम कर रहे हैं. अभी किसी भी दल या नेता से कोई गठबंधन की बात नहीं हुई है. उन्होंने बताया उत्तर प्रदेश के चुनाव उन्हीं सीटों का लड़ा जाएगा, जहां पार्टी मजबूत होगी. फिलहाल उन्होंने साफ तौर पर इशारा किया कि 100 से अधिक सीटों पर पार्टी चुनाव लड़ेगी.

राजा भैया अयोध्या से करेंगे चुनावी शंखनाद, बोले- 'जनसत्ता दल' का नहीं होगा विलय

UP: बाहुबली MLA राजा भैया अयोध्या से करेंगे चुनावी शंखनाद

UP Election 2022: उन्होंने कहा कि जनसेवा संकल्प यात्रा के जरिये जनता के बीच जाकर अपनी पार्टी को मजबूत बनाने के लिए जनता का आशीर्वाद लेंगे.

SHARE THIS:

प्रतापगढ़. यूपी में अगले साल फरवरी या मार्च में विधानसभा चुनाव (UP Assembly Election 2022) होने हैं. ऐसे में प्रतापगढ़ (Pratapgarh) के कुंडा से विधायक रघुराज प्रताप उर्फ राजा भैया (Raghuraj Pratap Singh) उर्फ़ राजा भैया (Raja Bhaiya) भी मंगलवार से चुनावी रण का शंखनाद करने जा रहे हैं. जिसकी तैयारिया पूरी हो चुकी है. राजा भैया कल कुंडा के बेती महल से चुनावी यात्रा की शुरुआत करने वाले है. राजा भैया अयोध्या में रामलला के दर्शन के बाद चुनावी जनसेवा संकल्प यात्रा की शुरूआत करेंगे. यह यात्रा प्रतापगढ़ से होते हुए सुल्तानपुर और अयोध्या होकर जाएगी.

इस बार वे चुनाव के लिए अयोध्या में रामलला के दर्शन के बाद अपनी चुनावी यात्रा शुरू कर रहे हैं. इस यात्रा में हजारों कार्यकर्तायों के साथ राजा भैया खुद मौजूद रहेंगे और लोगों से जाकर मिलेंगे. राजा भैया ने बताया कि अयोध्या से रामलला और हनुमानगढ़ी में दर्शन पूजन के बाद प्रदेशव्यापी यात्रा का शुभारंभ होगा. उन्होंने कहा कि भगवान श्रीराम में अटूट निष्ठा है. अपने जीवन में जो काम किया प्रभु श्री राम के आशीर्वाद लेकर किया. इस लिए हम अयोध्या जा रहे है.

अपर मुख्य सचिव रजनीश दुबे के निजी सचिव ने खुद को मारी गोली, हालत नाजुक

कुंडा के बाहुबली विधायक राजा भैया ने दावा करते हुए कहा कि जनसता दल किसी भी राजनीतिक दल में विलय नहीं करेगा. तालमेल के जरिये गठबंधन हो सकता है. जैसे ही कोई इस तरह की बात होगी आपको बताएंगे. राजा भैया ने आगे कहा अभी किसी दल से गठबंधन होता है या नहीं इसके लिए थोड़ा सी प्रतीक्षा करिए,सब आपके सामने होगा. उन्होंने कहा कि जनसेवा संकल्प यात्रा के जरिये जनता के बीच जाकर अपनी पार्टी को मजबूत बनाने के लिए जनता का आशीर्वाद लेंगे. बता दें कि अगले साल उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं. कई अन्य राज्यों के साथ होने वाले चुनाव के लिए बीजेपी, सपा, बसपा, कांग्रेस समेत विभिन्न दलों ने अपनी तैयारियां भी शुरू कर दी हैं. गठबंधनों और चुनावी रणनीति पर चर्चा हो रही है.

प्रतापगढ़: पेट्रोल पंप पर नकली पेट्रोल-डीजल की सप्लाई करने वाले 4 आरोपी गिरफ्तार

प्रतापगढ़: नकली पेट्रोल-डीजल की सप्लाई करने वाले गैंग का भंडाफोड़

एसटीएफ (STF) की पूछताछ में यह भी पता लगा है कि नकली डीजल- पेट्रोल बेचने वाले पेट्रोल पंप का लाइसेंस कंपनी ने सालों पहले ही निरस्त कर दिया था.

SHARE THIS:

प्रतापगढ़. पेट्रोल पंप (Petrol Pump) पर मिलावटी पेट्रोल-डीजल की सप्लाई करने वाले गैंग को यूपी एसटीएफ ने प्रतापगढ़ (Pratapgarh) के कोतवाली इलाके से से गिरफ्तार किया है. 7,800 लीटर मिक्सचर सॉल्वेंट के साथ 4 लोगों को पकड़ा गया है. दो साल पहले निरस्त हो चुके पेट्रोल पंप से मिलावटी पेट्रोल और डीजल की सप्लाई की जा रही थी. एसटीएफ की टीम ने नौ हजार लीटर नकली पेट्रोल, डीजल के साथ टैंकर बरामद कर लिया. वहीं पुलिस ने पेट्रोल पंप के चार कर्मचारियों को गिरफ्तार कर लिया. उनके पास से 81 हजार रुपये की नगदी, चार मोबाइल फोन भी जब्त कर लिया है. एसटीएफ और पूर्ति विभाग की टीम ने पेट्रोल पंप को सील कर दिया, जबकि एसटीएफ को चकमा देकर पंप मालिक और मैनेजर फरार हो गया.

पेट्रोल पंप संचालक घनश्याम और आयुष सिंह पर आरोप है कि दोनों रायबरेली की एएमकेएपी मार्केटिंग प्राइवेट लिमिटेड से नकली पेट्रोल और डीजल लेते थे. 50 से 55 रुपये में नकली पेट्रोल और डीजल खरीदकर कर मार्केट के दामों पर तेल की सप्लाई की जाती थी. इस पूरे मामले में अयोध्या का रहने वाला राजेश पांडेय मास्टरमाइंड बताया जा रहा है. अयोध्या, बस्ती, प्रतापगढ़, कौशांबी, प्रयागराज के कई पेट्रोल पंप और क्रेशर प्लांट में मिलावटी पेट्रोल-डीजल को सप्लाई किया जा रहा था. इसके लिए गैंग ने मनमाने ढंग से जाली टैक्स इनवॉइस और अन्य कागजात भी तैयार कर लिए थे.

UP: पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह की तबीयत में कोई सुधार नहीं, पहले से ज्यादा नाजुक हुई हालत

एसटीएफ की पूछताछ में यह भी पता लगा है कि नकली डीजल- पेट्रोल बेचने वाले पेट्रोल पंप का लाइसेंस कंपनी ने सालों पहले ही निरस्त कर दिया था. लेकिन पूर्ति विभाग और तेल माफिया की मिलीभगत से यह पेट्रोल शहर के बीच में संचालित किया जाता रहा. बताया जा रहा मनोज सिंह और घनश्याम सिंह द्वारा यह पेट्रोल पंप का संचालन और वर्षो से नकली तेल बेचा जा रहा था. एसटीएफ ने सभी के विरुद्ध गंभीर धाराओं मे मुकदमा दर्ज कर सरगना की गिरफ्तारी का प्रयास कर रही है.

Afghan Taliban Crisis: नमकीन खाकर गुजारी रात, वतन लौटे इंजीनियर की दहशत से भरे 83 घंटे की पूरी कहानी

अशोक सिंह ने बताया कि वो किन हालातों में अफगानिस्तान से भारत पहुंचे है.

Afghanistan Taliban Conflict: अशोक सिंह ने कहा कि महज दो घंटे में सामान समेटकर काबुल एयरपोर्ट (Kabul Airport) पहुंचे तो तालिबान के लड़ाकों ने हमला शुरू कर दिया. जब दिल्ली (Delhi) पहुंचे तो राहत महसूस की.

SHARE THIS:

प्रतापगढ़: तालिबान (Taliban) के कब्जे के बाद अफगानिस्तान (Afghanistan Crisis)का माहौल काफी बदल गया है. सभी देश अब अपने नागरिकों को अफगानिस्तान से बाहर सुरक्षित निकाल रहे है. अफगानिस्तान में रह रहे कई भारतीय भी वापस लाए गए. उन्हीं में से एक प्रतापगढ़ (Pratapgarh) के अशोक सिंह भी है. अशोक ने न्यूज 18 से अपने वतन लौटने की पूरी कहानी बताई. साथ ही उन्होंने अफगानिस्तान के हालातों के बारे में भी कहा. दहशत भरे वो 83 घंटे अशोक सिंह (Ashok Singh) को पूरी जिंदगी याद रहेगी. प्रतापगढ़ के लालगंज के कुवर का पुरवा गांव के रहने वाले अशोक सिंह जैसे वापस पहुंचे परिजन खुशी से अपने बेटे को देख झूम उठे. परिवार को देख अशोक की भी आंखे भर आई.

अशोक ने कहा, ‘महज दो घंटे में सामान को समेट कर काबुल एयरपोर्ट पहुंचे तो तालिबान के लड़ाकों ने एयरपोर्ट पर हमला शुरू कर दिया. यूएस आर्मी और तालिबानियों के बीच जमकर गोलाबारी भी हुई. यूएस सेना ने तालिबान के लड़ाकों से लोहा लेते हुए उनको बाहर खदेड़ा. लेकिन तालिबान सिविल एयरबेस पर कब्जा कर दहशत फैलता रहा. पूरी रात नमकीन और स्नैक्स के भरोसी गुजारी’. ये दहशत भरी दास्तां है काबुल से लौटे आईटी इंजिनियर अशोक सिंह की.

आईटी इंजीनियर हैं अशोक 

अशोक सिंह आर्मी के बेस कैम्प में आईटी इंजीनियर के पद पर तीन सालों से तैनात है. अशोक ने बताया,’ 14 अगस्त को आर्मी का बेस कैम्प खाली करने के लिए फोन आया. शाम को चिनूक हेलीकॉप्टर से सभी साथी के साथ काबुल एयरपोर्ट पहुंच गए. यहां तालिबानी धीरे -धीरे कब्जा करने पहुंच रहे थे. किसी तरह से पूरी रात एयरपोर्ट पर गुजारी. लेकिन 15 अगस्त की दोपहर तालिबानियों ने सिविल एयरपोर्ट पर हमला कर दिया. यूएस एयरबेस पर भी कई घंटे फायर कर तालिबानी हमलावरों ने खूब दहशत फैलाई. 15 अगस्त की शाम को यूएस की फ्लाइट से कतर की राजधानी दोहा के लिए निकले तो राहत की सांस ली’.

अशोक ने कहा,’ दोहा से कुवैत पहुंचे ,जिसके बाद कुवैत से 17अगस्त को दिल्ली के लिए रवाना हुए. 18 अगस्त को दिल्ली एयरपोर्ट पर पहुंचे.’ उन्होंने बताया कि काबुल एयरपोर्ट पर खौफ और भगदड़ का माहौल था. एयरपोर्ट पर भयानक भीड़ थी. हर कोई अफगानिस्तान को तालिबान के खौफ में छोड़ कर भागना चाहता था. अशोक बताते है कि बहुत ही मुश्किल वक्त था, लेकिन यूएस सरकार ने खूब साथ दिया. इसके चलते आज हम अपने देश ,अपने परिजनों के बीच पहुंच सके. घर पहुंचने के बाद वो भावुक भी हो गए. गाव में हर कोई तालिबानियों की करतूत उनके मुंह से सुन रहा है. उनका हाल -चाल लेने उनके घर पहुंच रहे हैं.

UP News Live Update: अयोध्या एयरपोर्ट के लिए खरीदी गई 684 करोड़ रुपए की जमीन

UP: अयोध्या में श्रीराम एयरपोर्ट के लिए अब तक 684 करोड़ रुपए की जमीन खरीदी गई.

Uttar Pradesh News, 12 August 2021 Live: अयोध्या (Ayodhya) में श्रीराम एयरपोर्ट के लिए अब तक 684 करोड़ रुपए की जमीन खरीदी गई. जमीन के लिए प्रदेश सरकार 1001 करोड़ रुपए का आवंटन कर चुकी है. प्रथम फेज के लिए कुल जमीन की खरीद का काम जल्द पूरा होने के आसार हैं. 72 सीटर विमान उड़ाने के लिए जरूरत की जमीन पहले ही खरीदी जा चुकी है.

SHARE THIS:

UP News Live Update: अयोध्या (Ayodhya) में श्रीराम एयरपोर्ट के लिए अब तक 684 करोड़ रुपए की जमीन खरीदी गई. जमीन के लिए प्रदेश सरकार 1001 करोड़ रुपए का आवंटन कर चुकी है. प्रथम फेज के लिए कुल जमीन की खरीद का काम जल्द पूरा होने के आसार हैं. 644 करोड़ रुपए की जमीन और 40 करोड़ की मकान व संपतियां खरीदी गई हैं. 72 सीटर विमान उड़ाने के लिए जरूरत की जमीन पहले ही खरीदी जा चुकी है. 2800 से ज्यादा किसानों से लगभग 450 एकड़ की जमीन और 725 किसानों की मकान संपत्तियां खरीदी गई हैं.

Pratapgarh News: BJP सांसद संगम लाल गुप्ता से मांगी 5 करोड़ की फिरौती, नहीं देने पर बम से उड़ाने की धमकी

भाजपा सांसद संगम लाल गुप्ता को कई बार धमकी मिल चुकी है.

Pratapgarh Crime News: यूपी पुलिस की सख्‍त कार्रवाई के बाद भी बदमाशों के हौसले बुलंद हैं. इस बार प्रतापगढ़ के भाजपा सांसद संगम लाल गुप्ता (BJP MP Sangam Lal Gupta) से बदमाशों ने पांच करोड़ की रंगदारी मांगी है. यही नहीं, रंगदारी नहीं देने पर सांसद और उनके परिवार को बम से उड़ाने की धमकी भी दी है. वहीं, इस मामले में सांसद ने दिल्ली के नार्थ एवेन्यू इलाके के पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज करा दी है.

SHARE THIS:

प्रतापगढ़. यूपी के प्रतापगढ़ से भाजपा सांसद को बदमाशों द्वारा फोन कॉल कर धमकी देने के साथ रंगदारी मांगने का मामला सामने आया है. सांसद संगम लाल गुप्ता (BJP MP Sangam Lal Gupta) से बेखौफ बदमाशों ने फोन कर 5 करोड़ की रंगदारी (Five Crore Ransom) मांगी है. वहीं, रंगदारी नहीं देने पर सांसद और उनके परिवार को बम से उड़ा कर हत्या करने की धमकी दी. यही नहीं, अज्ञात बदमाश ने प्रतापगढ़ के एक गांव में रुपये पहुंचाने के लिए कहा है. इस धमकी के बाद भाजपा सांसद सहमे हुए हैं और उन्‍होंने दिल्ली के नार्थ एवेन्यू इलाके के पुलिस स्टेशन में अपनी शिकायत दर्ज करा दी है. इसके बाद मामले की जांच में टेररिस्ट सेल जुट गई है. बता दें कि सांसद ने इस मामले की खुद पुष्टि की है.

इसके अलावा सांसद संगम लाल गुप्ता के प्रतापगढ़ आवास पर आज यानी मंगलवार को बिना नंबर की बाइक के लावारिश हालात में खड़े मिलने से हड़कंप मचा हुआ है. बता दें कि इससे पहले भी सांसद को दो बार फोन के जरिये हत्या की धमकी मिल चुकी है. जबकि सांसद के घर में घुसकर बदमाश परिजनों से चाकूबाजी की घटना भी अंजाम दे चुके हैं. इसके अलावा सांसद ने फोन पर बताया कि उनको फोन कॉल के जरिये धमकी मिली है और बदमाशों ने 5 करोड़ रुपये रंगदारी देने की मांग की है.

ये भी पढ़ें- Delhi-Varanasi Bullet Train: दिल्‍ली से बुलेट ट्रेन से बस कुछ घंटों में पहुंचेंगे अयोध्या और काशी, जानें कहां-कहां होंगे स्‍टॉपेज

प्रतापगढ़ सांसद को ही बार-बार क्यों मिल रही धमकी
संगम लाल गुप्ता 2017 में अपना दल के टिकट पाकर पहली बार विधायक निर्वाचित हुए थे. जबकि 2019 में भाजपा से सांसदी का चुनाव लड़ते हुए जीत दर्ज की. वहीं, पिछले तीन सालों के भीतर करीब चार बार उनको फोन कॉल पर जान से मारने की धमकी के साथ लेटर के जरिये रंगदारी मांगी जा चुकी है. जबकि एक बार उनके प्रतापगढ़ के कटरा स्थित आवास में बदमाशों द्वारा घुसकर चाकूबाजी की घटना को भी अंजाम दिया जा चुका है. वहीं, इस वक्‍त इस बात को लेकर चर्चा हो रही है कि आखिर सांसद को ही बार बार धमकी क्यों मिल रही है. वहीं, पुलिस की कार्यशैली पर भी सवाल उठ रहे हैं. आखिर वो मामले का खुलासा करके बदमाशों की सच्‍चाई क्‍यों नहीं बता रही है.

नहीं रहे टीवी कलाकार और अभिनेता अनुपम श्याम ओझा, गृह जनपद प्रतापगढ़ में शोक की लहर, CM योगी ने जताया दुख

अभिनेता अनुपम श्याम का निधन

Pratapgarh News: उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ के रहने वाले अनुपम श्याम ने अपने करियर की शुरुआत साल 1993 में की थी. उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा प्रतापगढ़ से ही प्राप्त की थी.

SHARE THIS:

लखनऊ/प्रतापगढ़. प्रसिद्ध टीवी कलाकार और कई फिल्मों में काम कर चुके अभिनेता अनुपम श्याम ओझा (Actor Anupam Shyam Ojha) का लंबी बीमारी के बाद रविवार को मुंबई के निजी अस्पताल में निधन हो गया. अनुपम यूपी के प्रतापगढ़ (Pratapgarh) के स्टेशन रोड के रहने वाले थे. अनुपम ओझा के निधन से प्रतापगढ़ में शोक की लहर है. अनुपम श्याम उर्फ सज्जन प्रतिज्ञा व बालिका वधू जैसे सुपरहिट सीरियल में भी अभिनय की छाप छोड़ी थी.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट कर अनुपम श्याम ओझा के निधन पर शोक व्यक्त किया. मुख्यमंत्री ने ट्वीट कर लिखा, ‘सुप्रसिद्ध अभिनेता अनुपम श्याम ओझा जी का निधन अत्यंत दुःखद है. मेरी संवेदनाएं शोक संतप्त परिजनों के साथ हैं. प्रभु श्री राम से प्रार्थना है कि दिवंगत आत्मा को अपने श्री चरणों में स्थान तथा उनके शोक संतप्त परिजनों व प्रशंसकों को यह दुःख सहन करने की शक्ति प्रदान करें. ॐ शांति!’

लखनऊ से सीखी एक्टिंग
उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ के रहने वाले अनुपम श्याम ने अपने करियर की शुरुआत साल 1993 में की थी. उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा प्रतापगढ़ से ही प्राप्त की. इसके बाद उन्होंने लखनऊ के भारतेन्दु नाट्य अकादमी से थियेटर की पढ़ाई की. इतना ही नहीं इसके बाद वो दिल्ली के श्रीराम सेंटर रंगमंडल में काम करने लगे. इसके बाद अदाकारी का सपना लिए मुंबई चले गए.

इन फिल्मों व सीरियल में किया अभिनय
अनुपम की प्रसिद्ध फिल्मों में ‘बैंडिट क्वीन’, ‘स्लमडॉग मिलेनियर’, ‘द वॉरियर’, ‘थ्रेड’, ‘शक्ति’, ‘हल्ला बोल’, ‘रक्तचरित’ और ‘जय गंगा’  ‘दस्तक’, ‘दिल से’, ‘लगान’, ‘गोलमाल’ और ‘मुन्ना माइकल’ आदि शामिल हैं. इसके अलावा धारावाहिक ‘मन की आवाज प्रतिज्ञा’, ‘हम ने ले ली शपथ’, ‘कृष्णा चली लंदन’ और ‘डोली अरमानों की’ जैसी टीवी सीरियल्स में भी काम किया है. टीवी सीरियल ‘प्रतिज्ञा’ में ठाकुर सज्जन सिंह का किरदार निभाकर वह घर-घर में पॉपुलर हो गए थे.

UP News: हिमाचल में भूस्खलन से शहीद हुआ प्रतापगढ़ का रितेश, गांव में शोक की लहर

UP News: हिमाचल में भूस्खलन से शहीद हुआ प्रतापगढ़ का लाल

UP News: हिमाचल के कुल्लू में जिस वक्त हादसा हुआ, उस समय रितेश पाल अपने साथियों के साथ सड़क ठीक करने के काम में जुटे हुए थे. डेढ़ साल से मनाली में ही थी तैनाती. 2010 में सेना में हुए थे भर्ती.

SHARE THIS:

प्रतापगढ़. हिमाचल प्रदेश में भूस्खलन के दौरान उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ (Pratapgarh) जिले के अंतू इलाके के रहने वाले सेना के जवान शहीद हो गए. मौत की सूचना मिलने पर घर में कोहराम मच गया. बताया जा रहा है कि शहीद जवान का शव शनिवार को पैतृक गांव पूरेभैया पहुंचेगा, जहां अंतिम संस्कार किया जाएगा.

बता दें कि अंतू थाना क्षेत्र के पूरेभैया गांव निवासी रितेश पाल (32) वर्ष 2010 में सेना में भर्ती हुए थे. वह सेना की इंजीनियरिंग कोर में नायब थे. इन दिनों उनकी तैनाती हिमाचल प्रदेश के कुल्लू जिले के मनाली में थी. शुक्रवार सुबह बारिश के कारण सड़क बाधित हो गई थी. वह अपने साथियों के साथ जेसीबी से सड़क ठीक करने में लगे थे. तभी भूस्खलन के कारण उनके ऊपर टूटकर पहाड़ गिर पड़ा. जिससे वह जेसीबी समेत गहरी खाई में गिर गए. जिसके बाद उनकी मौत हो गई.

मरीजों के साथ लापरवाही करने वाले एंबुलेंस संचालकों पर होगी कठोर कार्रवाई- सीएम योगी

साथियों ने इसकी सूचना परिजनों को दी. उनकी मौत की खबर मिलते ही घर में कोहराम मच गया. बताया जा रहा है कि रितेश पिछले महीने ही अपने घर पूरेभैया आए थे. करीब डेढ़ साल से वह मनाली में तैनात थे. उनका शव आज घर पहुंचने की उम्मीद है. रितेश का छोटा भाई भी सेना में है. वहीं जवान के परिजनों के प्रति संवेदना प्रकट करने के बाद सोशल मीडिया पर भी लोग जवान को अपनी श्रद्धांजलि दे रहे हैं. गांव में भी मातम पसरा हुआ है.

UP Election: BSP ने बदला ब्राह्मण सम्मेलन का नाम, अब प्रबुद्ध वर्ग के सम्मान में विचार गोष्ठी, ये है पूरा कार्यक्रम

बसपा आज से यूपी में लगातार छह ब्राह्मण सम्मेलन करने जा रही है. अब इसका नाम बदलकर प्रबुद्ध वर्ग के सम्मान में गोष्ठी कर दिया गया है.  (File Photo: मायावती)

UP Assembly election News: अयोध्या से आगाज के बाद 29 जुलाई तक बसपा अलग-अलग ज़िलों में इस गोष्ठी का आयोजन करेगी. इसमें 24-25 को अम्बेडकर नगर, उसके बाद 26 जुलाई को इलाहाबाद में, फिर 27 को कौशाम्बी, 28 को प्रतापगढ़ और 29 जुलाई को सुल्तानपुर में कार्यक्रम होना है.

SHARE THIS:
लखनऊ. बहुजन समाज पार्टी (BSP) आज राम की नगरी अयोध्या (Ayodhya) से यूपी विधानसभा चुनाव (UP Assembly Election) के प्रचार अभियान का आगाज करने जा रही है. इसी क्रम में पार्टी का ब्राह्मण सम्मेलन आज अयोध्या में आयोजित होना है. हालांकि अब इस का नाम पार्टी ने प्रबुद्ध वर्ग के सम्मान में विचार गोष्ठी कर दिया है. जानकारी के अनुसार आज 23 जुलाई को अयोध्या में देवकाली के तारा जी रिजॉर्ट में ये कार्यक्रम होना है. इसमें बसपा के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा ब्राह्मणों को संबोधित करेंगे. सतीश चंद्र मिश्रा दोपहर 1 बजे अयोध्या पहुंचेंगे. इस पूरी कवायद को विधानसभा चुनाव को लेकर ब्राह्मणों को बसपा के मंच पर लाने की कोशिश माना जा रहा है.

अयोध्या से आगाज के बाद 29 जुलाई तक अलग-अलग ज़िलों में इस गोष्ठी का आयोजन किया जाएगा. इसमें 24-25 को अम्बेडकर नगर में कार्यक्रम होना है. उसके बाद 26 जुलाई को इलाहाबाद में गोष्ठी होगी, फिर 27 को कौशाम्बी, 28 को प्रतापगढ़ और 29 को सुल्तानपुर में कार्यक्रम होना है. इन सभी कार्यक्रमों में मुख्य अतिथि सतीश चंद्र मिश्रा रहेंगे. वहीं नकुल दुबे व अन्य बसपा के विधायक व सांसद मौजूद रहेंगे.

वैसे बसपा द्वारा सम्मेलन का नाम बदलने के पीछे हाईकोर्ट का एक आदेश अहम कारण माना जा रहा है.  दरअसल इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 11 जुलाई साल 2013 को मोती लाल यादव द्वारा दाखिल पीआईएल संख्या 5889 पर सुनवाई करते हुए यूपी में सियासी पार्टियों द्वारा जातीय आधार पर सम्मेलन- रैलियां व दूसरे कार्यक्रम आयोजित करने पर पाबंदी लगा दी थी. जस्टिस उमानाथ सिंह और जस्टिस महेंद्र दयाल की डिवीजन बेंच ने फैसला सुनाते हुए कहा था कि सियासी पार्टियों के जातीय सम्मेलनों से समाज में आपसी मतभेद बढ़ते हैं और यह निष्पक्ष चुनाव में बाधक बनते हैं.

अयोध्या में BSP के ब्राह्मण सम्मेलन से पहले पढ़ लें हाईकोर्ट का यह आदेश

अदालत ने जातीय सम्मेलनों पर पाबंदी लगाते हुए चुनाव आयोग और सरकार के साथ ही चार प्रमुख पार्टियों कांग्रेस -बीजेपी, सपा और बसपा को नोटिस जारी कर उनसे जवाब तलब कर लिया था और सभी से हलफनामा देने को कहा था.

इनपुट: मोहम्मद शबाब

UP चुनाव से पहले PM मोदी देंगे बड़ी सौगात, 30 जुलाई को एक साथ 9 मेडिकल कॉलेज का लोकार्पण

यूपी चुनाव से पहले पीएम नरेंद्र मोदी प्रदेश को मेडिकल कॉलेजों की बड़ी सौगात देने जा रहे हैं. (वाराणसी में एक कार्यक्रम के दौरान पीएम Photo; PTI)

UP News: पीएम नरेंद्र मोदी यूपी के 9 जिलों देवरिया, एटा, फतेहपुर, गाजीपुर, हरदोई, जौनपुर, मिर्जापुर, प्रतापगढ़, सिद्धार्थनगर में मेडिकल कॉलेजों की सौगात देंगे. इस कार्यक्रम का आयोजन सिद्धार्थनगर में 30 जुलाई को होगा.

SHARE THIS:
लखनऊ. यूपी में 2022 के विधानसभा चुनाव (UP Assembly Election 2022) से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) एक बड़ी सौगात प्रदेश को देने जा रहे हैं. जानकारी के अनुसार पीएम मोदी यूपी के 9 जिलों मेडिकल कॉलेजों (9 Medical College Inauguration) की सौगात देंगे. इस कार्यक्रम का आयोजन सिद्धार्थनगर (Sidharthanagar) में 30 जुलाई को होगा. पीएम मोदी यहां से एक साथ 9 मेडिकल कॉलेज का लोकार्पण करेंगे. कार्यक्रम तय हो गया है और अब अगले एक से दो दिन में सीएम योगी आदित्यनाथ सिद्धार्थनगर जाकर कार्यक्रम की तैयारियों का जायजा ले सकते हैं.

जानकारी के अनुसार जिन जिलों में मेडिकल कॉलेज का उद्घाटन होना है, उनमें देवरिया, एटा, फतेहपुर, गाजीपुर, हरदोई, जौनपुर, मिर्जापुर, प्रतापगढ़, सिद्धार्थनगर जिले शामिल हैं.

अभी तक की जानकारी के अनुसार इन मेडिकल कॉलेजों में मेडिकल स्टाफ की भर्ती की प्रकिया भी चल रही है. योजना है कि उद्घाटन के मौके पर खुद पीएम नरेंद्र मोदी 450 लोगों को नियुक्ति पत्र सौंपें. माना जा रहा है कि एक हफ्ते में इन अस्पतालों में कामकाज शुरू हो जाएगा. यही नहीं सरकार की योजना है कि इस साल 13 और मेडिकल कॉलेज शुरू कर दिए जाएं.

बता दें इन 9 जिलों के अलावा अयोध्या, बहराइच, बस्ती, फिरोजाबाद और शाहजहांपुर में जिला अस्पताल को ही अपग्रेड कर मेडिकल कॉलेज बनाया जा रहा है. वहीं मेडिकल कॉलेज झांसी, गोरखपुर, मेरठ, प्रयागराज, कानपुर और आगरा में सुपर स्पेशलिटी ब्लॉक बनाकर इनका विस्तार किया गया है.

इनपुट: अजीत सिंह

Gupt Navratri 2021: गुप्त नवरात्रि का दूसरा दिन आज, महाविद्या तारा देवी की पूजा से दूर होंगे कष्ट, पढ़ें कथा

तारा देवी मां काली का ही रूप हैं. (साभार: shutterstock/Mr. Mahato)

Gupt Navratri 2021 Second Day Worship Mahavidya Tara Devi: तारा देवी नर-मुंड की माला पहनती हैं और इन्हें तंत्र शास्त्र की देवी माना गया है. इनकी पूजा से सारे कष्ट मिट जाते हैं. तारा देवी के 3 रूप हैं- उग्र तारा, एकजटा और नील सरस्व. आइए जानते हैं तारा देवी की कथा....

SHARE THIS:
Gupt Navratri 2021 Second Day Worship Mahavidya Tara Devi: गुप्त नवरात्रि का आज दूसरा दिन है. आज महाविद्या तारा देवी की पूजा अर्चना की जाएगी. तारा देवी को मां काली (Maa Kali) का स्वरुप बताया गया है. पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, तारा देवी श्मशान की देवी हैं. तारा देवी नर-मुंड की माला पहनती हैं और इन्हें तंत्र शास्त्र की देवी माना गया है. इनकी पूजा से सारे कष्ट मिट जाते हैं. तारा देवी के 3 रूप हैं- उग्र तारा, एकजटा और नील सरस्व. आइए जानते हैं तारा देवी की कथा....

तारा देवी की कथा:
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, देवी तारा की उत्पत्ति मेरु पर्वत के पश्चिम भाग में, चोलना नदी के तट पर हुई. हयग्रीव नाम के दैत्य के वध हेतु देवी महा-काली ने ही, नील वर्ण धारण किया था.

सर्वप्रथम स्वर्ग-लोक के रत्नद्वीप में वैदिक कल्पोक्त तथ्यों तथा वाक्यों को देवी काली के मुख से सुनकर, शिव जी अपनी पत्नी पर बहुत प्रसन्न हुए. शिव जी ने महाकाली से पूछा, आदि काल में अपने भयंकर मुख वाले रावण का विनाश किया, तब आश्चर्य से युक्त आप का वह स्वरूप 'तारा' नाम से विख्यात हुआ. उस समय, समस्त देवताओं ने आप की स्तुति की थी तथा आप अपने हाथों में खड़ग, नर मुंड, वार तथा अभय मुद्रा धारण की हुई थी, मुख से चंचल जिह्वा बहार कर आप भयंकर रुपवाली प्रतीत हो रही थी. आप का वह विकराल रूप देख सभी देवता भय से आतुर हो कांप रहे थे, आपके विकराल भयंकर रुद्र रूप को देखकर, उन्हें शांत करने के निमित्त ब्रह्मा जी आप के पास गए थे.

यह भी पढ़ें: Jagannath Rath Yatra 2021: जगन्नाथ रथ यात्रा आज, जानें इस यात्रा की धार्मिक और पौराणिक महिमा

समस्त देवताओं को ब्रह्मा जी के साथ देखकर देवी, लज्जित हो आप खड़ग से लज्जा निवारण की चेष्टा करने लगी. रावण वध के समय आप अपने रुद्र रूप के कारण नग्न हो गई थी तथा स्वयं ब्रह्मा जी ने आपकी लज्जा निवारण हेतु, आपको व्याघ्र चर्म प्रदान किया था. इसी रूप में देवी 'लम्बोदरी' के नाम से विख्यात हुई. तारा-रहस्य तंत्र के अनुसार, भगवान राम केवल निमित्त मात्र ही थे, वास्तव में भगवान राम की विध्वंसक शक्ति देवी तारा ही थी, जिन्होंने लंका पति रावण का वध किया. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

UP Block Pramukh Chunav: मुजफ्फरनगर, अमरोहा समेत कई जिलों में BJP-SP कार्यकर्ताओं में झड़प, प्रतापगढ़ में फायरिंग

मुजफ्फनगर, अमरोहा समेत कई जिलों में BJP-SP कार्यकर्ताओं में झड़प

हंगामा कर रहे लोगों को काबू में करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा, वहीं प्रतापगढ़ में बवाल बढ़ता देख पुलिस ने कई राउंड फायर भी किए.

SHARE THIS:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश में ब्लॉक प्रमुख चुनाव (Block Pramukh Chunav) के 476 पदों के लिए शनिवार को मतदान जारी है. मतदान के दौरान कुछ इलाकों से झड़पें, बवाल, और हंगामा की खबरें सामने आ रही हैं. हमीरपुर में बीजेपी और सपा के कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हो गई. जिसके बाद पुलिस ने लाठीचार्ज किया. मुजफ्फरनगर, अमरोहा, प्रतापगढ़ और लखीमपुर खीरी इलाके से हंगामे की खबरें सामने आई हैं.

लखीमपुर खीरी के सदर ब्लॉक में मतगणना स्थल पर जाने के लिए बसपा नेता मोहन वाजपेयी व उनके समर्थक गाड़ियों के काफिले संग पहुंचे. बैरियर पर मुस्तैद पुलिस ने मोहन को रोककर वापस जाने के लिए कहा, तो मोहन व उनके समर्थकों ने नारेबाजी शुरू कर दी. स्थिति तनावपूर्ण होते देख सीओ सिटी अरविंद कुमार वर्मा ने मोर्चा संभाला और उपद्रव करने का प्रयास करने वालों पर हल्का लाठीचार्ज किया. पुलिस ने मौके से दो युवकों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है.

वाराणसी ब्लॉक प्रमुख चुनाव: BDC सदस्यों के हाथ में 'हैंड बैग' बना चर्चा का केंद्र, जानिए पीछे की वजह

वहीं मुजफ्फरनगर के बुढ़ाना में मतदान के दौरान भाजपा विधायक उमेश मलिक के आते ही विरोधी गुट के समर्थकों ने हंगामा किया. उमेश मलिक को वहां से चले जाने की मांग की. इसी दौरान भाकियू के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी नरेश टिकैत भी वहां पहुंच गए. टिकैत ने एसपी क्राइम को इमानदारी से चुनाव करवाने की बात कही.

अमरोहा में मतदान के दौरान जमकर बवाल
उधर, अमरोहा के जोया ब्लॉक प्रमुख चुनाव में मतदान के दौरान जमकर बवाल हुआ. यहां सपा औऱ बीजेपी सर्मथकों के बीच मारपीट हुई. घटना से पुलिस प्रशासन में हड़कंप मच गया है. बता दें कि अमरोहा जनपद के जोया ब्लाक से समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता अमरोहा के विधायक पूर्व कैबिनेट मंत्री महबूब अली के भतीजे जुल्फिकार अली सपा के बैनर पर चुनाव लड़ रहे हैं जबकि बीजेपी ने पूर्व सांसद हरगोविंद सिंह के पुत्र कुशल को अपना प्रत्याशी बनाया है.

प्रतापगढ़ में कई राउंड फायरिंग
खबर प्रतापगढ़ से भी है. जिले के आसपुर देवसरा विकासखंड में ब्लॉक प्रमुख के चुनाव के दौरान सपा व पुलिस में भिड़ंत हो गई. सपा समर्थित प्रत्याशी के समर्थकों द्वारा पथराव के बाद पुलिस ने उन पर काबू पाने के लिए कई राउंड फायर किए जिसके बाद हंगामे के चलते मतदान बाधित हुआ. बताया जा रहा है कि बीडीसी सदस्य का वोट पहले से पड़ने पर सपा कार्यकर्ता भड़क गए.

सीएम योगी ने दिया कड़ी कार्रवाई का निर्देश
इसी कड़ी में सीएम योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि एक-एक विकास खंड की स्थिति पर सीधी नजर रखी जाए. विजयी और पराजित प्रत्याशियों को पुलिस निगरानी में उनके आवास तक पहुंचाने की व्यवस्था हो. उन्होंने कहा कि माहौल बिगाड़ने वाले लोगों के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति के साथ तत्काल कठोरतम कार्रवाई की जाए.

(इनपुट- मनोज शर्मा, शिव ओम शर्मा, रोहित सिंह, बिनेश पंवर)

Pratapgarh News: डिप्टी एसपी नवनीत नायक के खिलाफ रेप का मुकदमा दर्ज, जानिए क्या है पूरा मामला

पट्टी थाने में डिप्टी एसपी नवनीत नायक के खिलाफ दर्ज हुआ मुकदमा

Pratapgarh Police: प्रतापगढ़ में मंगलवार शाम को सीओ नवनीत नायक के विरुद्ध पट्टी कोतवाली में रेप और धमकी जैसी संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है.

SHARE THIS:
प्रतापगढ़. उत्‍तर प्रदेश के प्रतापगढ़ (Pratapgarh) के पूर्व सीओ नवनीत नायक (Navneet Nayak) के खिलाफ उनकी ही प्रेमिका ने रेप (Rape) और धमकी देने का मुकदमा दर्ज कराया है. मामले के सामने आने के बाद से पुलिस महकमे के अफसरों में हड़कम्प मचा हुआ है. पूर्व सीओ पर उनकी प्रेमिका ने शादी का झांसा देकर कई बार दुराचार का आरोप लगाकर सनसनी फैला दी है. सीओ नवनीत नायक की जुलाई 2019 में प्रतापगढ़ के पट्टी थाने में तैनाती हुई थी. सीओ को फेसबुक के जरिये मध्य प्रदेश की रहने वाली एक युवती से एक साल पहले प्यार हो गया. इसके बाद सीओ से मिलने वह युवती प्रतापगढ़ आने-जाने लगी. युवती होटल में रुक कर सीओ से अक्सर मिलती-जुलती रहती थी. युवती का आरोप है कि इस दौरान पुलिस लाइन के ट्रांजिट हॉस्टल और होटल में सीओ ने कई बार उंनके साथ शारीरिक संबंध भी बनाए. आरोप है कि सीओ द्वारा कई सालों तक शादी का झांसा देकर युवती का यौन-शोषण किया गया.

युवती का आरोप है कि शादी का दबाव बनाने पर सीओ ने जान से मारने की धमकी देते हुए उसे भागा दिया, जिसके बाद प्रेमिका ने पट्टी थाने और तत्कालीन एसपी से मामले की शिकायत की, लेकिन मामला अफसर से जुड़ा होने के कारण मामले पर गंभीरता से संज्ञान नहीं लिया गया. पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की जिसके बाद सीओ की प्रेमिका ने मामले की शिकायत मुख्यमंत्री से की. तब प्रतापगढ़ के एसपी ने मामले की जांच की तो प्रथम दृष्टया आरोप सत्य पाए गए. मामले की रिपोर्ट शासन को प्रेषित कर दी गई है. रिपोर्ट के बाद सीओ के खिलाफ कार्रवाई के आदेश दिए गए. जिसके बाद मंगलवार शाम पट्टी पुलिस ने पूर्व सीओ के खिलाफ रेप और धमकी जैसे गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया. पुलिस युवती का न्यायलय में बयान दर्ज कराने के साथ ही विधिक कार्रवाई की तैयारी कर रही है.

सीओ निलंबित, डीजीपी कार्यालय से अटैच
सीओ नवनीत नायक वर्तमान समय में शाहजहांपुर जिले में तैनात थे, लेकिन युवती के आरोपों के बाद उन्हें शासन ने निलंबित करते हुए डीजीपी कार्यालय अटैच किया गया है.

फेसबुक से सीओ की हुई थी दोस्ती
मध्य प्रदेश की रहने वाली सीओ की प्रेमिका एक संस्था में कार्यरत है. सीओ ने फेसबुक के जरिये युवती से  दोस्ती की. सोशल मीडिया के जरिये ही प्यार बढ़ा और प्रतापगढ़ में सीओ से मिलना-जुलना शुरू हुआ. आरोप है कि सीओ ने शादी का झांसा देकर कई बार दुराचार किया.

UP News: राजा भैया समर्थक ने फिर कब्जाई जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी, 25 साल से जारी है दबदबा

प्रतापगढ़ जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में राजा भैया समर्थित उम्मीदवार माधुरी पटेल की जीत

Pratapgarh Zila Panchayat Adhyaksh Chunav: जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी पर जनसत्ता दल राष्ट्रीय के अध्यक्ष व कुंडा के बाहुबली विधायक रघुराज प्रताप उर्फ राजा भैया का दबदबा 25 सालों से बरकरार है. इस बार माधुरी पटेल (Madhuri Patel) ने जीत का परचम लहराया है.

SHARE THIS:
प्रतापगढ़. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में जिला पंचायत अध्यक्ष का चुनाव (District Panchayat President Election) संपन्‍न हो गया है. सूबे में भले ही बीजेपी (BJP) ने 75 में से 67 सीटों पर जीत दर्ज कर अपना दमखम दिखाया हो, लेकिन प्रतापगढ़ में बीजेपी न सिर्फ बुरी तरह से पराजित हुई बल्कि जनसत्ता दल (Jansatta Dal) के आंधी में उड़ गई. जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में 40 वोटों से माधुरी पटेल (Madhuri Patel) ने जीत का परचम लहराया. वहीं, सपा प्रत्याशी अमरावती को मात्र 6 वोट पाकर ही संतोष करना पड़ा. जबकि बीजेपी प्रत्याशी क्षमा सिंह को महज तीन वोट मिले.

जिला पंचायत के चुनाव में कुंडा के बाहुबली विधायक रघुराज प्रताप उर्फ राजा भैया के समर्थित उम्मीदवार का दबदबा पिछले 25 साल से जारी है. 1995 में पहली बार चुनावी समर उतरी राजा भैया समर्थित अमरावती ने जीत का परचम लहराया था. जिसके बाद राजा भैया के समर्थकों ने ऐसी पैठ बनायी कि 25 साल बाद भी उनके के समर्थकों का जलवा बरकरार है. सरकार चाहे जिसकी हो, लेकिन जिला पंचायत अध्यक्ष की सत्ता पर राजा भैया समर्थित ही विराजमान होता है. वहीं 2000 में विन्देश्वरी पटेल, जबकि 2005 में कमला देवी ने जीत दर्ज की. 2011 में बसपा के प्रमोद मौर्य ने राजा भैया समर्थकों के जीत के रथ को रोकते हुए जीत का परचम लहराया था, लेकिन 2016 में पुनः राजा भैया समर्थित उम्मीदवार ने जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी पर अपना कब्जा जमा लिया। इस बार माधुरी पटेल ने जीत दर्ज करते हुए राजा भैया के दबदबे को कायम रखा.

बीजेपी आज तक नहीं जीत सकी जिला पंचायत अध्यक्ष का चुनाव
प्रतापगढ़ में बीजेपी के नेताओं  को बड़े उलटफेर की उम्मीद थी, लेकिन राजा भैया की नीति के चलते बीजेपी न सिर्फ अध्यक्ष पद का चुनाव बुरी तरह से हारी, बल्कि पहली बार जिला पंचायत फतह करने का सपना सिर्फ सपना ही रह गया.

शांतिपूर्ण मतदान के लिए राजा भैया ने सीएम योगी का जताया आभार
उधर शांतिपूर्ण मतदान के लिए राजा भैया ने जिला पंचायत अध्यक्ष के पद पर जनसत्ता दल की प्रत्याशी माधुरी पटेल की जीत के बाद सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का आभार राजा भैया जताया। साथ ही जीत का श्रेय जनसत्ता दल के नेता और कार्यकर्ताओं को दिया.

कांग्रेस नेता का बड़ा बयान, बोले- असदुद्दीन ओवैसी बीजेपी का जुड़वा भाई, वोट काटकर बनवाता है सरकार

कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी ने ओवैशी को लेकर बड़ा बयान दिया है.

UP Assembly election 2022: प्रतापगढ़ में कांग्रेस के दिग्गज नेता प्रमोद तिवारी ने ओवैसी पर बड़ा हमला बोलते हुए भाजपा का जुड़वा भाई करार दिया. ओवैसी वोट काटकर भाजपा की सरकार बनवाता है.

SHARE THIS:
प्रतापगढ़. कांग्रेस के दिग्गज नेता प्रमोद तिवारी ने उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव लड़ने की तैयारी कर असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी पर बड़ा हमला बोला है. कांग्रेस के CWC के सदस्य और कांग्रेस के दिग्गज नेता प्रमोद तिवारी ने ओवैसी को भाजपा का जुड़वा भाई और वोट कटवा पार्टी करार दिया है. प्रतापगढ़ में शहर के निजी होटल में पत्रकारों से रूबरू कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी ने कहा कि ओवैसी के कारण हम बिहार और महाराष्ट्र का चुनाव हार गए. दोनों जगह ओवैसी की पार्टी ने वोट काटकर दर्जनों सीट पर कांग्रेस और RJd के प्रत्याशियों को हरा दिया.

प्रमोद तिवारी ने कहाकि, ओवैसी अपनी जीत के लिए नही बल्कि भाजपा को जिताने के लिए ऐसा करते है. हैदराबाद की पार्टी उत्तर प्रदेश में क्या करने आ रही है, कांग्रेस के नेता प्रमोद तिवारी ने आगे कहा की ये भाजपा का जुड़वांं भाई है. जिसका नाम ओवैसी है, ये वोट काटकर भाजपा की सरकार को बनवाता है. देश हित में उत्तर प्रदेश का मुस्लिम गुमराह नही होगा. ओवैसी को बंगाल के चुनाव में जैसे बैरंग लौटना पड़ा. बिहार का सबक बंगाल में लोगों ने लिया और एक-एक वोट के लिए ओवैसी तरस गए. ओवैसी के यहां आने से यह पता लग गया है की ये वोट काटने की भाजपा की तरकीब है.

अब मजबूती के साथ तय हो गया है. ओवैसी को भागना है भाजपा को हराना है. भाजपा पर निशाना साधते हुए कांग्रेस के नेता ने कहा की आज अगर यूपी में चुनाव हो जाये तो भाजपा को सौ सीटें भी नही मिलेगी. यूपी की जनता ने मन बना लिया है की भाजपा को हराना है. विकल्प के रूप में कांग्रेस एक मजबूत विकल्प देगी. हमारा प्रयास होगा की हम 2022 के चुनाव में कांग्रेस के नेतृत्व में सरकार बनाएं. लेकिन भाजपा का यूपी से इस बार जाना तय है, वहीं प्रमोद तिवारी ने पेट्रोल, डीजल, रसोई गैस की बढ़ती कीमतों पर भी सरकार को घेरने का प्रयास किया.

UP: एक्शन में योगी सरकार! 1 लाख के इनामी शराब माफिया सुधाकर सिंह की संपत्तियों पर चला बुलडोजर

1 लाख के इनामी शराब माफिया सुधाकर सिंह की संपत्तियों पर चला बुलडोजर

Action Against Liquor Mafia In UP : यूपी सरकार (UP Government) द्वारा सूचीबद्ध 25 माफियाओं के खिलाफ की गैंगस्टर एक्ट (Gangster Act) की कार्रवाई के तहत 11 अरब, 28 करोड़, 23 लाख 97,846 रुपये (11,28,23,97846 रुपये) की चल-अचल संपत्ति जब्त की गई.

SHARE THIS:
प्रतापगढ़. उत्तर प्रदेश में योगी सरकार (Yogi Government) की माफियाओं के खिलाफ ताबड़तोड़ कार्रवाई जारी है. सोमवार को प्रतापगढ़ (Pratapgarh) में 1 लाख के इनामी शराब माफिया (Mafia Sudhakar Singh) पर यूपी पुलिस ने बड़ी कार्रवाई की है. फरार शराब माफिया सुधाकर सिंह की अवैध फैक्ट्री पर बुलडोजर चलवाकर उसे ध्वस्त कर दिया गया है. माफिया ने यह फैक्ट्री पट्टे की जमीन पर बनाई थी. शराफ माफिया फिलहाल फरार चल रहा है. पुलिस ने उसकी अवैध फैक्ट्री पर जेसीबी चलवा दी है. इस कार्रवाई के दौरान कई थानों का भारी पुलिस फोर्स पीएसी के साथ मौके पर मौजूद रहा. यह कार्रवाई संग्रामगढ़ थाना के गोपालपुर गांव में सुधाकर सिंह की अवैध फैक्ट्री पर की गई है.

माफियाओं की अवैध संपत्ति पर योगी सरकार का ये कोई पहला एक्शन नहीं है. इससे पहले मुख्तार अंसारी, अतीक अहमद जैसे बड़े माफियाओं की अवैध संपत्ति भी सरकार ध्वस्त करवा चुकी है. यूपी को अपराध मुक्त करने के लिए योगी सरकार लगातार अभियान चला रही है. सरकार अपराधियों के खिलाफ ताबड़तोड़ एक्शन ले रही है.

माफियाओं की 11 अरब से ज्यादा की संपत्ति जब्त
बता दें कि योगी सरकार ने प्रदेश भर में माफियाओं के खिलाफ की गई कार्रवाई के आंकड़े जारी किए हैं. इसमें बताया है कि जनवरी 2020 से अप्रैल 2021 तक कुल 5558 मामले दर्ज किए गए, जिनमें 22,259 अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई की गई. यूपी सरकार द्वारा सूचीबद्ध 25 माफियाओं के खिलाफ की गैंगस्टर एक्ट की कार्रवाई के तहत 11 अरब, 28 करोड़, 23 लाख 97,846 रुपये (11,28,23,97846 रुपये) की चल-अचल संपत्ति जब्त की गई. इसमें अतीक अहमद गैंग की सबसे ज्यादा 3 अरब, 25 करोड़ की संपत्ति जब्त की गई है. वहीं उसके बाद मुख्तार अंसारी गैंग की करीब 2 करोड़ की संपत्ति को जब्त किया गया है.

Pratapgarh News: जिला पंचायत सदस्यों ने बंद किए अपने मोबाइल फोन, राजा भैया समेत सभी दलों की बढ़ी टेंशन

प्रतापगढ़ में सपा के पास 17 तो राजा भैया के 12 सीट हैं.

Pratapgarh Zila Panchayat Adhyaksh Chunav: यूपी के प्रतापगढ़ में जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए भाजपा से दो प्रत्याशी क्षमा और पूनम इंसान, समाजवादी पार्टी से अमरावती और राजा भैया (Raja Bhaiya) की जनसत्ता दल लोकतांत्रिक पार्टी से माधुरी पटेल चुनावी मैदान में ताल ठोक रही हैं. वहीं, कई जिला पंचायत सदस्‍यों के फोन ऑफ होने या न मिलने से सभी दलों की टेंशन बढ़ गई है.

SHARE THIS:
प्रतापगढ़. उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ (Pratapgarh) में जिला पंचायत अध्यक्ष (Zila Panchayat Adhyaksh Chunav) की बिसात पूरी तरह बिछ चुकी है. बस वोटिंग के लिए कुछ दिन ही शेष हैं. जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए चार प्रत्याशी चुनावी मैदान में ताल ठोक रहे है, लेकिन इसी बीच सभी प्रत्याशियों के माथे पर चिंता की लकीरें खींच गयी है, क्योंकि डेढ़ दर्जन जिला पंचायत सदस्यों से जिला पंचायत अध्यक्ष के घोषित प्रत्याशियों का संपर्क नहीं हो पा रहा है. यही नहीं, कई जिला पंचायत सदस्य के मोबाइल फोन भी ऑफ हो गए हैं. इस बार राजा भैया (Raja Bhaiya) की पार्टी जनसत्ता दल लोकतांत्रिक से माधुरी पटेल मैदान में हैं.

साफ है कि जिला पंचायत अध्यक्ष को निर्वाचित सदस्य खोजे नहीं मिल रहे है,जिसके चलते प्रत्याशी परेशान हो उठे हैं. आखिर कैसे इन सदस्‍यों से संपर्क साध वोट मांगे जाएं. वहीं, चर्चा यह भी है कि दर्जनों जिला पंचायत सदस्यों ने इसलिए दूरी बन ली है, क्‍योंकि अध्‍यक्ष पद के सभी उम्‍मीदवार उनसे वोट देने की अपील करने के साथ उनके रिस्तेदारों और करीबियों से उनके ऊपर वोट देने का दबाव बना रहे हैं. यही नहीं, जिला पंचायत सदस्यों के सामने किसे वोट करें और किसे मना करें की दुविधा है. बस इसी वजह से सदस्यों ने सभी प्रत्याशियों से दूरी बना ली है.

भाजपा, सपा और राजा भैया के बीच टक्‍कर
बहरहाल, चर्चा है कि रानीगंज,पट्टी,सड़वा चन्द्रिकन के कई सदस्य प्रत्याशियों से मुलाकात नहीं कर रहे हैं और अपना मोबाइल फोन भी बंद कर रखा है. बता दें कि प्रतापगढ़ में जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए भाजपा से दो प्रत्याशी क्षमा और पूनम इंसान ने नामांकन दाखिल किया है. जबकि सपा से अमरावती और जनसत्ता दल लोकतांत्रिक से माधुरी पटेल भी चुनावी मैदान में ताल ठोक रही हैं. जनसत्ता दल के सर्वसर्वा बाहुबली विधायक राजा भैया हैं. वहीं, जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव को लेकर सियासत पूरी तरह गर्म हो गयी है. सपा,जनसत्ता, भाजपा,जोड़तोड़ की राजनीति में जुट गए है,क्योंकि किसी भी दल के पास अध्‍यक्ष बनाने के लिए बहुमत नहीं है, इसलिए सभी दल के निर्दल जीते हुए प्रत्याशी को अपने पाले में लाने का पुरजोर प्रयास कर रहे हैं. अगर आंकडों पर गौर करें तो प्रतापगढ़ में अखिलेश यादव की सपा के पास सबसे अधिक 17 सीटें है. जबकि राजा भैया के जनसत्ता दल के पास 12 सीटें हैं. वहीं, भाजपा के पास 7, तो कांग्रेस के पास 5 सीट हैं. इसके अलावा निर्दल जिला पंचायत सदस्यों ने 14 सीटें पर जीत का परचम लहराया है. साफ है कि सत्ता की चाभी इन्हीं निर्दल सदस्यों के पास है. हालां कि खबर ये भी है कि कांग्रेस ने राजा भैया के साथ गठजोड़ कर लिया है. दरसअल राजा भैया की पार्टी जनसत्ता दल लोकतांत्रिक के प्रत्याशी के नामांकन के दौरान रामपुर खास की विधायक व विधान मंडल कांग्रेस दल की नेता आराधना मिश्र उर्फ मोना के प्रतिनिधि भगवती प्रसाद तिवारी भी मौजूद थे.

चुनाव में राजा भैया समर्थित का रहा है दबदबा
अगर पिछले पांच जिला पंचायत सदस्य के चुनाव के आंकड़े पर गौर करें तो चार बार राजा भैया समर्थकों का कब्जा रहा है. सिर्फ एक बार उनके समर्थक को हार का सामना करना पड़ा था. इस बार भी राजा भैया समर्थित प्रत्याशियों का दबदबा देखने को मिल रहा है, लेकिन भाजपा के चुनाव लड़ने से मुकाबला दिलचस्प हो गया है.

UP News: जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव में दिखी कांग्रेस और राजा भैया की 'जुगलबंदी', गठबंधन की चर्चा जोरों पर

Pratapgarh:  जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव में राजा भैया की पार्टी की उम्मीदवार माधुरी पटेल के नामांकन में पहुंचे कोंग्रेसी नेता

Pratapgrah Zila Panchayat Adhyaksh Chunav: राजा भैया और कांग्रेस के दिग्गज नेता प्रमोद तिवारी के बीच जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में सियासी गठजोड़ हो गया है.

SHARE THIS:
प्रतापगढ़. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के प्रतापगढ़ (Pratapgarh) में जिला पंचायत अध्यक्ष (Zila Panchayat Adhyaksh Chunav) पद के चुनाव की सरगर्मी तेज हो गयी है. किसी भी बड़ी पार्टी के पास बहुमत नहीं है, लेकिन सभी निर्दल जीते हुए जिला पंचायत सदस्यों को अपने पाले में लाने का प्रयास तेज कर दिया है. शनिवार को जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव के नामांकन के दौरान कुछ खास तस्वीरें भी देखने को मिली. जिसके बाद से ही जिले में दो दिग्गज नेताओं के बीच गठजोड़ की सियासी चर्चा तेज़ हो गयी है. दरसअल राजा भैया (Raja Bhaiya) की पार्टी जनसत्ता दल लोकतांत्रिक के प्रत्याशी के नामांकन के दौरान रामपुर खास की विधायक व विधान मंडल कांग्रेस दल की नेता आराधना मिश्र उर्फ मोना के प्रतिनिधि भगवती प्रसाद तिवारी भी मौजूद थे. उन्होंने जनसत्ता दल की प्रत्याशी माधुरी पटेल का नामांकन कराया। इतना ही नहीं जनसत्ता दल के नेताओं के साथ फोटो भी खिंचवाया. जिसके बाद से जिले में सियासी चर्चा शुरू हो गयी है.

राजा भैया और कांग्रेस के दिग्गज नेता प्रमोद तिवारी के बीच जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में सियासी गठजोड़ हो गया है. कांग्रेस का प्रतापगढ़ में इकलौता गढ़ रामपुरखास विधानसभा मे राजा भैया की पार्टी को समर्थन मिल रहा है. हालांकि तस्वीरें ये बयान कर रही है की जनसत्ता दल को कांग्रेस 3 जुलाई को होने वाले वोटिंग के दौरान खुला समर्थन कर सकती है. भाजपा को हराने के लिए कांग्रेस राजा भैया को अपने खेमे के जीते हुए जिला पंचायत सदस्यों के वोट जनसत्ता दल को करा सकती है. बता दें कांग्रेस समर्थित पांच जिला पंचायत सदस्य चुनाव में जीत हासिल की है. जबकी रामपुरखास विधानसभा में आधा दर्जन से अधिक जिला पंचायत सदस्य कांग्रेस खेमे के है. ऐसे में राजा भैया की पार्टी को इन कांग्रेस समर्थित जिला पंचायत सदस्यों समर्थन मिल जाएगा तो वो काफी मजबूत स्थिति में पहुंच जाएगी.

पिछले चुनाव में भी कांग्रेस ने राजा भैया समर्थित प्रत्याशी को दिया था समर्थन
अगर पिछले जिला पंचायत अध्यक्ष की चुनाव की बात करे तो कांग्रेस ने राजा भैया समर्थित प्रत्याशी उमा शंकर का समर्थन करते हुए उनको वोट दिए थे. इस बार भी कांग्रेस जनसत्ता दल लोकतांत्रिक के प्रत्याशी को खुला समर्थन देती नजर आ रही है.

प्रतापगढ़ में चार प्रत्याशियों ने किया है नामांकन
प्रतापगढ़ के जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में चार प्रत्याशियों ने नामांकन दाखिल किया है. भाजपा से दो प्रत्याशी क्षमा सिंह और पूनम इंसान ने नामांकन दाखिल किया है. जबकि  जनसत्ता दल से माधुरी पटेल ने नामांकन किया है. सपा से अमरावती यादव चुनावी मैदान में है. सपा के पास 17 सबसे अधिक सीटे है, जबकि जनसत्ता दल के पास 12 सीटें है, भाजपा के पास 7 सीटे है. आंकड़े ये बताते हैं कि किसी पार्टी के पास भी बोर्ड बनाने के लिए बहुमत नहीं है, जबकी 14 निर्दल और 5 कांग्रेस समर्थित जिला पंचायत सदस्यों ने जीत दर्ज की है. ऐसे में इनका वोट काफी अहम माना जा रहा है. निर्दल जिस पार्टी की तरफ रुख करेंगे उंसका चुनाव जीतना तय है.

जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में राजा भैया समर्थित का रहा है दबदबा
अगर पिछले पांच जिला पंचायत सदस्य के चुनाव के आंकड़े पर गौर करें तो चार बार राजा भैया समर्थकों  का कब्जा रहा है. सिर्फ एक बार राजा भैया के समर्थक को हार का सामना करना पड़ा था. इस बार भी राजा भैया समर्थित प्रत्याशियों का दबदबा देखने को मिल रहा है, लेकिन भाजपा के चुनाव लड़ने से मुकाबला दिलचस्प हो गया है.

टीवी पत्रकार की दुर्घटना में मौत, शराब माफिया के खिलाफ चलाई थी रिपोर्ट, एक दिन पहले मांगी थी सुरक्षा

राब माफिया के विरुद्ध खबर चलाने वाले पत्रकार ने बीती 12 जून को अपर पुलिस महानिदेशक, प्रयागराज को पत्र लिखकर सुरक्षा की मांग की थी. (सांकेतिक तस्वीर)

अपर पुलिस अधीक्षक सुरेन्द्र द्विवेदी (Surendra Dwivedi) ने सोमवार को बताया कि एक निजी समाचार चैनल के रिपोर्टर सुलभ श्रीवास्तव (42) रविवार रात को लालगंज अंतर्गत असरही गांव से मोटरसाइकिल से घर लौट रहे थे.

SHARE THIS:
प्रतापगढ़. प्रतापगढ़ जिले (Pratapgarh District) के थाना कोतवाली नगर क्षेत्र के सुखपाल नगर ईंट भट्ठे (Sukhpal Nagar Brick Kilns) के निकट एक समाचार चैनल के पत्रकार की मोटरसाइकिल एक खंभे से टकरा जाने से उसकी संदिग्ध परिस्थितियों में मौत (Journalist Death) हो गयी. शराब माफिया के विरुद्ध खबर चलाने वाले पत्रकार ने बीती 12 जून को अपर पुलिस महानिदेशक, प्रयागराज को पत्र लिखकर सुरक्षा की मांग की थी.

अपर पुलिस अधीक्षक सुरेन्द्र द्विवेदी ने सोमवार को बताया कि एक निजी समाचार चैनल के रिपोर्टर सुलभ श्रीवास्तव (42) रविवार रात को लालगंज अंतर्गत असरही गाव से मोटरसाइकिल से घर लौट रहे थे कि थाना कोतवाली नगर क्षेत्र के सुखपाल नगर ईंट भट्ठे के निकट खंभे से मोटरसाइकिल टकरा जाने के कारण वह गंभीर रूप से घायल हो गए. उन्होंने बताया कि सुलभ को उपचार हेतु जिला चिकित्सालय लाया गया, जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. पुलिस सभी पहलुओं की गहराई से जांच कर विधिक कार्रवाई कर रही है. शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है. गौरतलब है कि श्रीवास्तव ने शराब माफिया के विरुद्ध खबर चलाई थी जिसके कारण उन्हें भय था और उन्होंने गत 12 जून को अपर पुलिस अधीक्षक को पत्र लिखकर जान माल की सुरक्षा की मांग की थी.

 6 सदस्यीय टीम गठित कर दी गई है
बता दें कि यह कोई पहला मामला नहीं है जब, संदिग्ध परिस्थितियों में उत्तर प्रदेश में किसी पत्रकार की मौत हुई हो. पिछले साल भी उन्नाव में पत्रकार सूरज पांडेयलकी संदिग्ध मौत मामले में नामजद एसआई सुनीता चौरसिया, सिपाही अमर सिंह को निलंबित कर दिया गया था. पत्रकार की मौत के मामले में दोनों पर हत्या, साजिश रचने, धमकाने का मुकदमा दर्ज है. महिला एसआई और सिपाही के थाने न पहुंचने पर एसपी आनन्द कुलकर्णी ने ये कार्रवाई की थी. एडिशनल एसपी विनोद कुमार पांडेय ने कहा था कि मामले की निष्पक्ष जांच के लिए 6 सदस्यीय टीम गठित कर दी गई है.
Load More News

More from Other District

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज