2019 चुनाव से पहले बाहुबली नेता राजा भैया की नई टीम का ऐलान, जारी की पहली लिस्ट
Pratapgarh-Uttar-Pradesh-2 News in Hindi

2019 चुनाव से पहले बाहुबली नेता राजा भैया की नई टीम का ऐलान, जारी की पहली लिस्ट
रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया

बता दें, राजा भैया पिछले 25 वर्षों से कुंडा से निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर यूपी विधानसभा में प्रतिनिधित्व कर रहे हैं. सपा-बसपा में गठबंधन के बाद राज्यसभा चुनाव में उन्होंने अखिलेश का साथ छोड़ दिया था.

  • Share this:
निर्दलीय राजनीति छोड़कर दलगत राजनीति की शुरुआत करने वाले बाहुबली विधायक रघुराज प्रताप सिंह उर्फ़ राजा भैया ने 2019 चुनाव से पहले नई टीम का ऐलान किया है. इसी कड़ी में उन्होंने  पदाधिकारियों की पहली सूची जारी की. निर्दल विधायक रघुराज प्रताप सिंह राजा भैया ने पूर्व विधायक हाजी सलाम मुन्ना को प्रयागराज मंडल की कमान सौंपी है. जिले का प्रभारी जिला पंचायत सदस्य राम अचल वर्मा को बनाया गया है. सह जिला प्रभारी की जिम्मेदारी नगर पंचायत मानिकपुर के चेयरमैन अबू जैद गुड्डू व विवेक त्रिपाठी को सौंपी गई है.

लोकसभा चुनाव के पहले जनसत्ता दल लोकतांत्रिक पार्टी सूबे में संगठन को मजबूत करने में जुट गया है. दल के सुप्रीमो राजा भैया की अनुशंसा पर एमएलसी अक्षय प्रताप सिंह गोपालजी को लखनऊ मंडल का प्रभारी बनाया गया है. पूर्व सांसद शैलेंद्र कुमार को चित्रकूट व मिर्जापुर मंडल का प्रभारी बनाया है. बाबागंज के विधायक विनोद सरोज को प्रदेश प्रभारी बनाया गया है. आगरा की कमान जिला पंचायत अध्यक्ष उमाशंकर यादव को दी गई है.

सहकारी बैंक के अध्यक्ष डा. केएन ओझा को गोरखपुर बस्ती मंडल का प्रभारी बनाया गया है. जिले की कमान राजा भैया ने जिला पंचायत सदस्य व सपा नेता राम अचल वर्मा को सौंपी है. सपा नेता व पूर्व ब्लाक प्रमुख विवेक त्रिपाठी और नगर पंचायत मानिकपुर के चेयरमैन अबू जैद गुड्डू को सह जिला प्रभारी बनाया गया है.



दरअसल पूरी कवायद राजा भैया को उत्तर भारत में बतौर क्षत्रिय नेता स्थापित करने की है. वहीं उनकी राजनीति अगड़ा बनाम पिछड़ा ही रहेगी. पिछले दिनों उन्होंने एससी/एसटी एक्ट में बदलाव के चलते सवर्णों के उत्पीड़न का मुद्दा उठाया था. बता दें, राजा भैया पिछले 25 वर्षों से कुंडा से निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर यूपी विधानसभा में प्रतिनिधित्व कर रहे हैं.
सपा-बसपा में गठबंधन के बाद राज्यसभा चुनाव में उन्होंने अखिलेश का साथ छोड़ दिया था. इसके बाद कयास लगने लगे थे कि राजा भैया जल्द ही योगी सरकार में मंत्री बने नजर आएंगे. लेकिन उन्होंने एक बार फिर अलग दांव चला. उन्होंने समर्थकों से विचार विमर्श कर अलग राजनीतिक दल बनाकर मैदान में कूदने की घोषणा की दी. राजा भैया का प्रतापगढ़, सुल्तानपुर, अमेठी और इलाहबाद में अच्छी पकड़ मानी जाती है.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज