प्रतापगढ़ में दलित महिला के साथ दुष्कर्म, मां को बचाने आई बेटी की बेरहमी से पिटाई

मृतका के पास मिले सुसाइड नोट के आधार पर भारतीय दंड संहिता की धारा 306 में मामला दर्ज किया गया था.
मृतका के पास मिले सुसाइड नोट के आधार पर भारतीय दंड संहिता की धारा 306 में मामला दर्ज किया गया था.

प्रतापगढ़ (Pratapgarh): अफसरों की फटकार के बाद मानिकपुर पुलिस ने मुकदमा दर्ज करते हुए आरोपी युवक को गिरफ्तार कर लिया है. CO (कुंडा) द्वारा मामले में जांच के बाद पुलिस ने कार्रवाई की.

  • Share this:
प्रतापगढ़. उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ (Pratapgarh) में बेटी और महिलाएं महफूज नहीं हैं. दो दिन पहले ही छेड़खानी से आहत छात्रा की मौत लोग भुला नहीं सके थे कि मानिकपुर थाना के चौकापारपुर इलाके में एक दलित महिला के साथ दुष्कर्म (Rape) की वारदात सामने आई है. महिला मायके से लौट रही थी. रास्ते मे दबंग युवक महिला को खींच कर पुलिया के नीचे लीे गया और रेप किया. सामान लेकर मां के पीछे आ रही बेटी ने मां को बचाने की कोशिश की तो दबंग युवक ने बेटी की जमकर पिटाई कर डाली.

थाने से फटकार कर भगाया
मां-बेटी द्वारा शोर मचाने पर आरोपी युवक भाग निकला. महिला ने अपने ही गांव के एक युवक पर दुष्कर्म का आरोप लगाया है. महिला का आरोप है कि इस बात की शिकायत करने जब वह मानिकपुर थाने पहुंचीं तो पुलिसकर्मियों ने उनको फटकार कर भगा दिया. महिला ने न्याय के लिए अफसरों से गुहार लगाई. अफसरों की फटकार के बाद मानिकपुर पुलिस ने मुकदमा दर्ज करते हुए आरोपी युवक को गिरफ्तार कर लिया. सीओ कुंडा द्वारा मामले में जांच के बाद पुलिस ने कार्रवाई की.

महिला के पति दिव्यांग हैं. दरसअल, महिला अपनी बेटी के साथ मायके गई थी. गुरुवार शाम को मानिकपुर बाजार में बस से उतर गईं. बेटी को सब्जी लेकर घर आने के लिए बोलती हुई घर के रास्ते पैदल निकल पड़ी. रास्ते में उनके साथ रेप की वारदात हो गई.
प्रतापगढ़ के थानेदारों में नहीं है कोई सुधार


सीएम से लेकर शासन तक भले ही महिला अपराध पर सख्त हों, उच्च अफसरों द्वारा थानेदारों को चेताया जा रहा कि महिला अपराध पर लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी, लेकिन प्रतापगढ़ के थानेदारों की कार्यशैली में कोई बदलाव नहीं दिख रहा है. महिला शिकायतकर्ता को ही डांट-फटकार कर थाने से भगाकर मामले को दबाने का प्रयास किया जाता है. अफसरों और मीडिया तक मामला पहुंचने पर कार्रवाई की जाती है. महिला को इंसाफ के लिए गांव के लेकर शहर तक इंसाफ के लिए अफसरों के चौखट पर चक्कर लगाने पड़ते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज