प्रतापगढ़: SP ने 3 पुलिसकर्मियों को किया निलंबित, थानेदार लाइन हाजिर
Pratapgarh-Uttar-Pradesh-2 News in Hindi

प्रतापगढ़: SP ने 3 पुलिसकर्मियों को किया निलंबित, थानेदार लाइन हाजिर
एसपी अनुराग आर्य 10 दिन पहले ही सभी थानेदार और पुलिसकर्मियों को चेताया था.

कार्रवाई की जद में आये पुलिसकर्मियों पर फरियादियों से थाने में मारपीट (Beating) और लूट करने का आरोप है. ऐसे में SP ने बड़ी कार्रवाई करते हुए थानेदार को लाइन हाजिर कर दिया, जबकि 3 अन्‍य पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया.

  • Share this:
प्रतापगढ़: कहते हैं न्याय आसानी से नहीं मिलता है. न्याय के लिए तमाम अफसरों के चौखटों पर चक्कर लगाना पड़ता है. लेकिन प्रतापगढ़ के नए एसपी अनुराग आर्य (SP Anurag Arya) पुलिस महकमे की पूरी कार्यशैली को बदलने की कवायद में जुट गए हैं. प्रतापगढ़ के एसपी ने रविवार को बड़ी कार्रवाई करते हुए बाघराय थाने के एसओ रविन्द्र यादव (SO Ravindra Yadav) को लाइन हाजिर कर दिया है. वहीं, दरोगा संतोष यादव और दो सिपाहियों को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है. बाघराय थाने में तैनात दोनों सिपाही हरिचंद्र और गुरुवेंद्र सिंह पर लूट, मारपीट, धमकी देने और एससी-एसटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है. साथ ही इसकी जांच सीओ सदर को सौंपी गई है.

जानकारी के मुताबिक, कार्रवाई की जद में आये पुलिसकर्मियों पर फरियादियों से थाने में मारपीट और लूट करने का आरोप है. वहीं, शिकायतकर्ता जयचंद्र ने पुलिस अधीक्षक को शिकायत पत्र देते हुए आरोप लगाया कि जमीनी विवाद की शिकायत करने पर दोनों पक्ष को दोनों सिपाही हरिचंद्र और गुरुवेंद्र ने थाने बुलाया. उनका आरोप है कि दूसरी पार्टी से पैसा लेकर उन्‍हें थाने से छोड़ दिया गया. इसके बाद दोनों सिपाहियों ने शिकायतकर्ता जयचंद्र से पैसे की मांग की. सिपाहियों को पैसा नहीं देने पर जयचंद्र और उसके दोनों भाइयों की पेड़ से बांध कर पिटाई की गई. उनके मोबाइल फ़ोन सिपाहियों द्वारा छीन लिए गए और जातिसूचक गाली दी गई. इसके बाद दरोगा संतोष यादव ने सभी का 151 में चालान कर दिया. जयचंद्र की शिकायत को एसपी ने गंभीरता से लेते हुए सीओ सदर तनु उपाधयाय से मामले की जांच कराई. सीओ की जांच में पुलिसकर्मियों पर लगे आरोप सही पाए गए. इसके बाद प्रतापगढ़ के एसपी ने बड़ी कार्रवाई करते हुए थानेदार को लाइन हाजिर कर दिया और दरोगा समेत 3 पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया. साथ ही दो सिपाहियों पर उनके आदेश पर मुकदमा दर्ज कराया गया.

SP ने पहले ही दी थी चेतावनी
एसपी अनुराग आर्य 10 दिन पहले ही सभी थानेदार और पुलिसकर्मियों को चेताया था. उन्होंने कहा था कि थाने स्तर पर ही फरियादियों को न्याय मिलना चाहिए. कोई भी फरियादी जिला मुख्यालय तक शिकायत लेकर न आये. साथ ही थाने आये फरियादी के साथ किसी भी प्रकार की अभद्रता और उनकी शिकायत पर लापरवाही नहीं बरती जाए. ऐसा करने पर एसपी ने पहले ही कठोर कार्रवाई की बात कही थी. इसके बाद भी पुलिसकर्मी अपनी आदतों से बाज नहीं आ रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज