पंचायत चुनाव में अजब-गजब कारनामा: कहीं सजायाफ्ता ने तो कहीं महिला आरक्षित सीट पर पुरुष ने भरा पर्चा

प्रतापगढ़ पंचायत चुनाव में अजब गजब कारनामे

प्रतापगढ़ पंचायत चुनाव में अजब गजब कारनामे

Pratapgarh Panchayat Chunav 2021: नामांकन पत्रों की जांच में कुछ ऐसे भी नामांकन हुए थे जो सबको हैरान कर रहे है. जिला पंचायत सदस्य सीट के लिए दो सजायाफ्ता लोगों ने भी नामांकन कर दिया.

  • Share this:
प्रतापगढ़. उत्तर प्रदेश के त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव (UP Panchayat Chunav 2021) में अजब-गजब कारनामे सामने आ रहे हैं. कहीं सजायाफ्ता ने तो महिला के लिए आरक्षित सीट पर पुरुष ने नामांकन कर दिया. प्रतापगढ़ (Pratapgarh) जिले में नामांकन पत्रों के जाच के दौरान ऐसे कई मामले सामने आए, जिसके बाद कई जिला पंचायत प्रत्याशियों का नामांकन खारिज कर दिया गया. नामांकन पत्रों की जांच में कुछ ऐसे भी नामांकन हुए थे जो सबको हैरान कर रहे है. जिला पंचायत सदस्य सीट के लिए दो सजायाफ्ता लोगों ने भी नामांकन कर दिया. मंगरौरा प्रथम सीट से रामदेव जबकि लक्ष्मणपुर द्वितीय सीट से भैयालाल ने नामांकन किया.

सीआरओ के मुताबिक भैया लाल को आजीवन कारावास और रामदेव हत्या के मामले में सजायाफ्ता है. दोनों जमानत पर बाहर हैं, लेकिन फिर भी चुनाव में नामांकन कर दिया। सीआरओ ने दोनों के नामांकन पत्र को खारिज कर दिया. ऐसे नामांकन होने से सदर तहसील के कर्मियों में हड़कम्प मचा रहा. वहीं दो सीटों पर अजीबो गरीब नामांकन होने का मामला प्रकाश में आया. जिला पंचायत सदस्य द्वितीय बाबागंज की सीट महिला के लिए आरक्षित की गई थी, लेकिन इसके बावजूद इस सीट से पुरुष ने नामांकन कर दिया। जांच के बाद उदयराज का पर्चा खारिज कर दिया गया,जबकि जिला पंचायत सदस्य कुंडा चतुर्थ सीट पर भी एक पुरुष राकेश कुमार ने नामांकन किया था. इसको भी जांच के दौरान निरस्त कर दिया गया. जबकि शहर की चिलबिला इलाके की रहने वाली शांति देवी ने सड़वा चंद्रिका प्रथम से नामांकन दाखिल किया था,लेकिन शहरी होने के नाते उनका भी पर्चा निरस्त हो गया. इसी प्रकार बेलखरनाथ से नामांकन करने वाली साजिया बानो ने पिछड़ी जाति का प्रमाण -पत्र नही लगाया था, जिसके चलते उनका भी पर्चा निरस्त कर दिया गया.

बीजेपी के दो नेताओं की पत्नी का भी पर्चा खारिज, मचा हड़कम्प

प्रतापगढ़ में पंचायत चुनाव की सियासत की गर्माहट अब चरम पर है. प्रतापगढ़ में बीजेपी नेता शिवप्रकाश सेनानी और बृजेश मिश्र सौरभ की पत्नी का भी नामांकन पत्र खारिज कर दिया गया है. शिव प्रकाश मिश्र की पत्नी सिंधुजा मिश्र ने नामांकन पत्र में वोटर लिस्ट को नहीं लगाया था, जिसके चलते सीआरओ ने पर्चा खारिज कर दिया। जबकि बृजेश मिश्रा की पत्नी सीमा ने नामांकन पत्र में पुरानी वोटर लिस्ट लगाया था,जिसके चलते उसे भी अफसरों द्वारा निरस्त कर दिया गया. वही सीआरओ इंद्र भूषण वर्मा ने बताया कि आज तमाम लोगों के नामांकन पत्र को निरस्त किया गया है. रविवार को नामांकन पत्रों की वापसी और चुनाव चिन्ह का आवंटन होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज