लाइव टीवी

प्रयागराज: लाखों दीपों से जगमगाया कालिंदी तट, श्रद्धालुओं ने मांगी यह मनोकामना

Sarvesh Dubey | News18 Uttar Pradesh
Updated: November 7, 2019, 11:39 PM IST
प्रयागराज: लाखों दीपों से जगमगाया कालिंदी तट, श्रद्धालुओं ने मांगी यह मनोकामना
कालिन्दी पूजा और दीपदान महायज्ञ के लिए पुण्यकारी माना गया है.

सनातन परम्परा में कार्तिक मास में कालिन्दी यानि यमुना नदी में दीपदान का विशेष महत्व भी है.

  • Share this:
प्रयागराज: देवोत्थान एकादशी की पूर्व संध्या पर प्रयागराज में सवा लाख दीपों के दीपदान महायज्ञ का अनुष्ठान किया गया था. इस दीपदान महायज्ञ का आयोजन यमुना नदी के तट पर बाबा मौजगिरी घाट पर किया गया था. दीपदान के इस महायज्ञ में सवा लाख दीप यमुना नदी को अर्पित किए गए. इस अवसर पर साधु-संतों देश में सांप्रदायिक सौहार्द और अमन की कामना की.

कार्तिक मास में कालिन्दी में दीपदान का है विशेष महत्व
सनातन परम्परा में कार्तिक मास में कालिन्दी यानि यमुना नदी में दीपदान का विशेष महत्व भी है. ऐसी मान्यता है कि अषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी के साथ ही चार्तुमास की शुरुआत हो जाती है और भगवान विष्णु शयन में चले जाते हैं. देवात्थान एकादशी पर भगवान विष्णु जागृत होते हैं, इसलिए इस बेला को कालिन्दी पूजा और दीपदान महायज्ञ के लिए पुण्यकारी माना गया है.

मौनी महाराज ने भी किया दीपदान

पिछले 28 वर्षों से राममंदिर निर्माण के लिए माघ मेले से लेकर कुम्भ में अमेठी सगरा आश्रम के योगी संत मौनी महाराज भी अब तक तीन करोड़ अस्सी लाख दीपदान कर चुके हैं. राम मंदिर के लिए मौनी महाराज ने 55 बार भू समाधि और 16 बार जल समाधि भी ली है. वहीं, राम मंदिर निर्माण को लेकर ही 1300 किमी की लेटकर परिक्रमा पूरी की है. उन्होंने भी कोर्ट का फैसला आने पर लोगों से धैर्य और संयम से काम लेने की अपील की है.

यह भी पढ़ें:
3 साल से धरना दे रहे किसान की हालत नाजुक, कहा- 4 दिन बची है जिंदगी
Loading...

हाइवे पर खड़ी महिला से सरेआम कर रहा था बदसलूकी, चप्‍पलों से हुई जमकर पिटाई 


 

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इलाहाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 7, 2019, 11:37 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...