गौतमबुद्धनगर कारागार के पांच कैदियों ने डोनेट किया प्लाज्मा, कोरोना संक्रमितों को मिलेगा नया जीवन

कैदी प्लाजमा डोनेट करता हुआ.
कैदी प्लाजमा डोनेट करता हुआ.

गौतमबुद्धनगर कारावास (Gautam Buddha Nagar Jail) के पांच कैदियों ने एक साथ प्लाजमा (Plasma) डोनेट करके कोरोना महामारी (Corona Epidemic) से जंग लड़कर लोगों को नई जिंदगी देने का काम किया है. इसी के साथ यह जेल (Jail) देश की पहली प्लाज डोनेट करने वाली जेल बन गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 22, 2020, 5:18 PM IST
  • Share this:
ग्रेटर नोएडा. अब तक कोरोना महामारी (Corona Epidemic) से जंग लड़कर स्वस्थ हुए लाखों लोग प्लाज्मा (Plasma) डोनेट कर दूसरों को नई जिंदगी दे चुके हैं. प्लाज्मा डोनेशन के लिए कई अस्पतालों (Hospitals) को स्थायी बनाया गया है, ताकि कोविड-19 (Covid-19) के मरीजों को प्लाज्मा की जरूरत पड़े तो आसानी से उपलब्ध कराया जा सके. प्लाजमा डोनेट करने के मामले में गौतम बुद्ध कारागार ने देश में पहला स्थान हासिल किया है, जिसके पांच कैदियों ने पहली बार प्लाज्मा डोनेट किया है. इस अवसर पर पुलिस कमिश्नर आलोक सिंह, एडिशनल पुलिस कमिश्नर लव कुमार डीआईजी जेल अखिलेश कुमार मीणा सहित मेडिकल टीम मौजूद रही.

जनपद गौतम बुद्ध नगर जेल में मंगलवार को 5 कैदियों ने स्वेच्छा से अपना प्लाज्मा डोनेट किया. कोरोना से जिंदगी की जंग जीतने के बाद दूसरों की जान बचाने के लिए 5 कैदियों ने इस सराहनीय पहल की शुरुआत की है. साथ ही 19 और कैदियों ने प्लाज्मा डोनेट करने की इच्छा जताई है. जल्द ही ये कैदी भी प्लाज्मा डोनेट करेंगे.

दिल्ली सरकार के आदेश पर HC ने लगाई रोक, 33 प्राइवेट हॉस्पिटलों में ICU बेड रिजर्व करने का मामला



19 कैदियों ने प्लाज्मा डोनेट करने की ईच्छा जताई
एडिशनल सीपी लव कुमार ने बताया कि जेल में अब तक 73 कैदी कोरोना की चपेट में आ चुके हैं, जिसमें से 28 लोग इस जंग को जीतकर वापस जेल में आ चुके हैं, जबकि बाकी मरीजों का अभी इलाज चल रहा है. कोरोना जैसी बीमारी से जंग जीतकर स्वस्थ्य हुए 28 मरीजों में से 19 लोगों ने प्लाज्मा डोनेट करने की इच्छा जताई है. इसी के चलते आज जिला जेल में प्लाज्मा डोनेट करने के लिए जिम्स मेडिकल की टीम ने कैंप लगाया है. इसमे पांच कैदियों ने पहली बार प्लाज्मा डोनेट किया है, जिन्हें आज जिम्स द्वारा प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया गया है. इसक साथ ही मेडिकल टीम ने प्लाजमा  डोनेट करने वाले कैदियों को उपहार देकर सम्मानित भी किया है.

बता दें कि इन दिनों देश के साथ ही दिल्ली-एनसीआर में कोरोना के मरीज तेजी से बढ़ रहे हैं. ऐसे में दिल्ली की निजी अस्पतालों में आईसीयू बेड की मांग बढ़ गई है. कोरोना संक्रमितों की बढ़ती संख्या से दिल्ली-एनसीआर में लोगों को चिंता हो रही है. ऐसे में किसी समय अपराध कर जेल पहुंचने वाले कैदी समाज सेवा में सामने आ रहे हैं और प्लाजमा डोनेट कर कोरोना संक्रमितों को नई जिंदगी दे रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज