उन्नाव गैंगरेप पीड़िता एक्सीडेंट केस: 8वीं बार रायबरेली पहुंची सीबीआई टीम ने की जांच

उन्नाव रेप कांड की पीड़िता और उसके परिजनों की रायबरेली में हुई सड़क दुर्घटना में मौत की सीबीआई जांच के आदेश के बाद गुरुवार को घटना के 12वें दिन आठवीं बार बारिश के बीच सीबीआई की टीम रायबरेली पहुंची.

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 8, 2019, 5:27 PM IST
उन्नाव गैंगरेप पीड़िता एक्सीडेंट केस: 8वीं बार रायबरेली पहुंची सीबीआई टीम ने की जांच
उन्नाव गैंगरेप पीड़िता का एक्सीडेंट: 8वीं बार रायबरेली पहुंची सीबीआई टीम ने की जांच. (फाइल फोटो)
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 8, 2019, 5:27 PM IST
उन्नाव रेप कांड की पीड़िता और उसके परिजनों की रायबरेली में हुई सड़क दुर्घटना में मौत की सीबीआई जांच के आदेश के बाद सीबीआई की टीम लगातार रायबरेली आ रही है. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद गुरुवार को घटना के 12वें दिन आठवीं बार बारिश के बीच सीबीआई की टीम रायबरेली पहुंची.

7 गाड़ियों से दर्जन भर सीबीआई के अधिकारी घटना करने वाले ट्रक ड्राइवर आशीष पाल और क्लीनर मोहन श्रीवास को लेकर कानपुर रोड स्थित मौरंग मंडी पहुंची और मंडी की जगह की तस्दीक करवाई. इसके बाद सीबीआई ट्रक चालक और क्लीनर को लेकर उस दुकान पर पहुंची, जहां पर उन्होंने मौरंग उतारी थी. सीबीआई ने ट्रक ड्राइवर और क्लीनर का दुकान में मौजूद कर्मचारियों से आमना-सामना करवाया, जिससे यह पता चल सके कि घटना वाले दिन दोनों ने दोपहर में मौरंग उसी दुकान पर उतारी थी या नहीं.

खून में पाया गया है खतरनाक बैक्टीरिया
दूसरी तरफ उन्नाव रेप (Unnao Rape Victim) पीड़िता का दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में इलाज जारी है. उसकी हालत लगातार गंभीर बनी हुई है. इस बीच पीड़िता को हुए इंफेक्शन को लेकर लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (KGMU) अस्पताल से नई रिपोर्ट सामने आई है. जब पीड़िता केजीएमयू में भर्ती थी, तो उसका ब्लड कल्चर किया गया था. इस कल्चर रिपोर्ट में खून में खतरनाक बैक्टीरिया पाया गया है. गंभीर बात यह है कि इस बैक्टिरिया पर सात प्रमुख एंटीबायोटिक दवाओं में से छह बेअसर पाई गई हैं. केजीएमयू पीड़िता की इस कल्चर रिपोर्ट को अब एम्स भेजेगा. ट्रॉमा सेंटर में इलाज के दौरान किए गए पीड़िता के ब्लड कल्चर में एंटिरोकोकस बैक्टीरिया पाया गया है, जिसमें अधिकतर एंटीबायोटिक बेअसर होती हैं.

डॉक्टरों ने इसे मल्टी ड्रग रेजिस्टेंस कहा है
केजीएमयू के प्रवक्ता डॉ. संदीप तिवारी के मुताबिक, गहन चिकित्सा ईकाई (आईसीयू) में भर्ती मरीजों को दी जाने वाली प्रमुख एंटीबायोटिक के प्रभाव की टेस्टिंग की गई. लैब में ड्रग सेंसिटीविटी टेस्टिंग में सात एंटीबायोटिक दवाओं की जांच की गई. उसमें से पीड़िता पर छह एंटीबायोटिक बेअसर पाई गईं. विशेषज्ञों ने इसे मल्टी ड्रग रेजिस्टेंस करार दिया है. पीड़िता में एंटिरोकोकस बैक्टीरिया की पुष्टि हुई है. इसकी रिपोर्ट एम्स दिल्ली को भेज दी जाएगी.

रेयर है बैक्टीरिया, निपटना कठिन चुनौती
Loading...

विशेषज्ञों के मुताबिक, यह बैक्टीरिया काफी रेयर है और मल में पाया जाता. यह ब्लड में कैसे पहुंचा इसका पता लगाया जाना चाहिए. इसकी वजह से दवाएं बेअसर हो जाती हैं. बता दें कि रायबरेली सड़क हादसे में गंभीर रूप से घायल पीड़ित युवती को लखनऊ के ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया गया था. जहां वेंटीलेटर यूनिट में उसका इलाज चला. बाद में सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों पर पीड़िता को पांच अगस्त को एयरलिफ्ट कर दिल्ली के एम्स अस्पताल में शिफ्ट किया गया था.

रिपोर्ट – मोहन कृष्णनन 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रायबरेली से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 8, 2019, 5:11 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...