वेतन बढ़ाने की मांग मजदूरों पर पड़ी भारी, कंपनी की शिकायत पर भेजा गया जेल

रायबरेली स्थित बिरला सीमेंट फैक्ट्री के मजदूरों ने जब वेतन बढ़ाने की मांग उठाई, तो कंपनी की शिकायत पर पहुंचीं पुलिस ने मजदूरों को गिरफ्तार कर लिया.

News18 Uttar Pradesh
Updated: July 2, 2019, 5:36 PM IST
वेतन बढ़ाने की मांग मजदूरों पर पड़ी भारी, कंपनी की शिकायत पर भेजा गया जेल
मजदूरी बढ़ाने की मांग को लेकर फैक्ट्री में मजदूरों ने दिया धरना
News18 Uttar Pradesh
Updated: July 2, 2019, 5:36 PM IST
सरकार की लाख कोशिशों के बावजूद मजदूरों का शोषण अनवरत जारी है. अगर शोषण के खिलाफ किसी ने आवाज उठाई को कंपनियां अपने प्रभाव का इस्तेमाल कर मजदूरों को प्रताड़ित करवाती हैं. इसका ताजा उदाहरण रायबरेली जनपद के मिल एरिया थाना क्षेत्र में स्थित बिरला सीमेंट फैक्ट्री का है. जहां काम करने वाले मजदूरों ने जब अपने हक के लिए मजदूरी बढ़ाने की मांग उठाई, तो कंपनी की शिकायत पर पहुंचीं पुलिस ने मजदूरों को गिरफ्तार कर लिया.

दरअसल रायबरेली जिले के मिलएरिया थाना क्षेत्र के इंडस्ट्रियल एरिया में बिरला सीमेंट फैक्ट्री में काम करने वाले सैकड़ो मजदूरों ने अपनी मजदूरी बढ़ाये जाने को लेकर लिखित मांग फैक्ट्री अधिकारियों से की. लेकिन जब उनकी वाजिब मांग पर कंपनी ने ध्यान नहीं दिया, तो 2 जुलाई को कंपनी के सभी मजदूर संगठित होकर फैक्ट्री के बाहर धरने पर बैठ गए.

कंपनी अधिकारियों की शिकायत पर पुलिस ने मजदूरों पर ही की कार्रवाई


पुलिस कार्रवाई से आक्रोशित हुए मजदूर

कंपनी मैनेजमेंट की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने मजदूरों की बात सुनने के बजाय उन्हीं को थाने लाकर लॉकअप में बंद कर दिया. पुलिस की इस कार्रवाई से मजदूरों में आक्रोश फैल गया. जिससे साथी मजदूर नाराज हो गए और थाने के बाहर घेराव कर विरोध शुरू कर दिया. मामला बढ़ता देख भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है.

ढाई महीने से मजदूरी बढ़ाने की कर रहे हैं मांग

वहीं मजदूरों कहना है कि वो करीब ढाई महीने से मजदूरी बढ़ाये जाने की मांग कर रहे है. लेकिन जब किसी ने उनकी बातों को नहीं सुना, तब उन्होंने धरना देने का फैसला किया और अब पुलिस मजदूरों को ही थाने ले आई है. वहीं इस पूरे मामले में जब फैक्ट्री के अधिकारियों से बात करने का प्रयास किया गया तो कोई भी अधिकारी अपना पक्ष रखने के लिए सामने नहीं आया. (रिपोर्ट- मोहन कृष्ण)
Loading...

ये भी पढ़ें: 
First published: July 2, 2019, 5:36 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...