COVID-19: रायबरेली एम्स से शुरू हुई ऑनलाइन ओपीडी, मरीजों को मिली बड़ी राहत
Rae-Bareli News in Hindi

COVID-19: रायबरेली एम्स से शुरू हुई ऑनलाइन ओपीडी, मरीजों को मिली बड़ी राहत
रायबरेली एम्स से शुरू हुई ऑनलाइन ओपीडी

एम्स रायबरेली के डिप्टी मेडिकल सुपरिटेंडेंट और हड्डी विभाग के प्रोफेसर डॉ गौरव उपाध्याय ने बताया कि अभी यहां पर 6 विभागों की ओपीडी शुरू हुई है.

  • Share this:
रायबरेली. कोरोना महामारी (corona Epidemic)  के चलते केंद्र और राज्य सरकार द्वारा लागू किए गए लॉकडाउन से सबसे ज्यादा परेशानी बुजुर्गों और बच्चों को हो रही है. इसी कड़ी में सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्र रायबरेली (Raebareli) स्थित एम्स (AIIMS) में मरीजों के लिए ऑनलाइन ओपीडी शुरू कर दी गई है. जिससे रायबरेली के साथ-साथ अमेठी, प्रतापगढ़, फतेहपुर, अंबेडकर नगर, सुल्तानपुर जैसे दर्जनों जिलों में रहने वाले लोगों को इसका लाभ मिलेगा. एम्स रायबरेली के डिप्टी मेडिकल सुपरिटेंडेंट और हड्डी विभाग के प्रोफेसर डॉ गौरव उपाध्याय ने बताया कि अभी यहां पर 6 विभागों की ओपीडी शुरू हुई है.

जिसमें, जनरल मेडिसिन, बाल रोग, नेत्र रोग, नाक कान गला, महिला रोग व हड्डी रोग के मरीज डॉक्टरों को फोन, व्हाट्सएप, ईमेल वीडियो कॉल के जरिए अपनी समस्या बता कर डॉक्टर से उसका समाधान और दवा का निर्देश ले सकता है. उसके लिए उसे डॉक्टर के पास आने की जरूरत नहीं है. खुद प्रोफेसर डॉक्टर गौरव उपाध्याय अपने चैंबर में बैठकर मरीजों को फोन पर सहायता और सलाह उपलब्ध करा रहे हैं.

बता दें कि प्रोफेसर गौरव उपाध्याय ऐम्स रायबरेली द्वारा संचालित होने वाली ऑनलाइन ओपीडी के इंचार्ज हैं, उन्हीं की निगरानी में एम्स के डॉक्टरों द्वारा मरीजों को ऑनलाइन इलाज और दवाइयों का दिशा निर्देश दिया जा रहा है. प्रोफेसर गौरव उपाध्याय ने यह भी बताया कि की मरीज 11:00 बजे से 1:00 के बीच में जनरल मेडिसिन के लिए 9451207950, पीडियाट्रिक बाल रोग के लिए 9451221429, हड्डी रोग के लिए 9532993908, नेत्र रोग के लिए 9532994808, नाक कान गला के लिए 9532993808, स्त्री रोग के लिए 9532995408, जनरल सर्जरी के लिए 9532993808, डेंटल के लिए 9532997408 पर फोन करके डॉक्टर से परामर्श कर सकते हैं.



उधर, दंत विभाग के प्रमुख असिस्टेंट प्रोफेसर सीवेज आचार्य के पास ऑनलाइन ओपीडी शुरू होने के बाद से मरीजों के फोन आने शुरू हो गए. डॉक्टर फोन पर ही मरीजों की समस्याएं सुनकर उसका समाधान और दवाइयां का पर्चा वापस मरीज को उसके व्हाट्सएप पर भेज रहे हैं. जिससे मरीज को इलाज मिल सके प्रोफेसर सुरेश आचार्य अबतक एक दर्जन से अधिक मरीजों को ऑनलाइन या वीडियो कॉल के जरिए परामर्श दे चुके हैं.
ये भी पढ़ें:

आगरा: सब्जी बेचने वाला निकला COVID-19 पॉजिटिव, 2000 लोग किए गए होम क्वारंटाइन
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज