Home /News /uttar-pradesh /

दशहरा से पहले बिजली संकट खत्म होने के आसार, 2-3 दिन में कोयला आपूर्ति हो जाएगी शुरू

दशहरा से पहले बिजली संकट खत्म होने के आसार, 2-3 दिन में कोयला आपूर्ति हो जाएगी शुरू

UP: बिजली संकट को लेकर राहत भरी खबर है. एनटीपीसी ने कहा है कि दो से तीन दिन में कोयला आपूर्ति सामान्य हो जाएगी.

UP: बिजली संकट को लेकर राहत भरी खबर है. एनटीपीसी ने कहा है कि दो से तीन दिन में कोयला आपूर्ति सामान्य हो जाएगी.

Raebareli News: ऊंचाहार स्थित एनटीपीसी परियोजना से उत्तर प्रदेश, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू कश्मीर, पंजाब, राजस्थान, चंडीगढ़, दिल्ली, उत्तरांचल को बिजली की आपूर्ति की जाती है. पिछले कुछ समय से यहां पर कोयले का संकट बना हुआ है.

अधिक पढ़ें ...

रायबरेली. उत्तर प्रदेश के रायबरेली (Raebareli) स्थित ऊंचाहार में स्थापित एनटीपीसी (NTPC) पर कोयले के संकट के चलते बिजली आपूर्ति बाधित होने के बीच राहत भरी खबर आई है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की वीडियो कांफ्रेंसिंग के बाद एनटीपीसी ऊंचाहार के जीएम कमलेश सोनी ने बयान जारी किया है. उन्होंने कहा है कि एनटीपीसी की बंद इकाई मेंटिनेंस के बाद चालू होगी. 2 से 3 दिनों में कोयले की आपूर्ति भी सामान्य हो जाएगी.

बता दें ऊंचाहार स्थित एनटीपीसी परियोजना से उत्तर प्रदेश, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू कश्मीर, पंजाब, राजस्थान, चंडीगढ़, दिल्ली, उत्तरांचल को बिजली की आपूर्ति की जाती है. पिछले कुछ समय से यहां पर कोयले का संकट बना हुआ है. बीते गुरुवार को सबसे अधिक विद्युत उत्पादन वाली छठी इकाई को बंद कर दिया गया था. वहीं अन्य इकाइयों को आधे से कम भार पर चलाया जा रहा था.

पता चला कि पिछले दो दिन से परियोजना में कोयले की एक भी रैक नहीं आई. इस पर परियोजना प्रबंधन को दूसरी यूनिट को भी बंद करना का निर्णय ले लिया. हालांकि दूसरी यूनिट बंद होने के कुछ ही देर बाद कोयले की दो रैक परियोजना आ गई. इससे अन्य इकाइयों पर बंद होने का संकट कुछ समय के लिए टल गया है.

दरअसल एनटीपीसी में सभी छह इकाईयों को संचालित करने के लिए चौबीस घंटे में 30 हजार मीट्रिक टन कोयले की खपत होती है. ऐसे में दूसरे-तीसरे दिन आने वाली एक या दो कोयले की रैंकों (8 से 10 हजार मीट्रिक टन) से परियोजना प्रभावित हो गई है. इसके चलते दूसरी इकाई को भी बंद करना पड़ा. जिम्मेदारों की माने तो दो नंबर इकाई को मरम्मत के लिए बंद किया गया है, जबकि हकीकत कुछ और ही है.

1550 मेगावाट की क्षमता, उत्पादन सिर्फ 779 मेगावाट

यह परियोजना 1550 मेगावाट विद्युत उत्पादन क्षमता वाली है. एक नंबर से पांच नंबर इकाई तक 210-210 मेगावाट और छठीं इकाई पांच सौ मेगावाट विद्युत उत्पादन क्षमता वाली है. दो इकाइयों के बंद होने से अब महज 779 मेगावाट विद्युत का उत्पादन किया जा रहा है.

Tags: Coal Crisis, NTPC, Raebareilly News, UP news updates

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर