रायबरेली जिला अस्पताल में चल रहा कमीशन का खेल, फार्मासिस्ट के पत्र से खुली भ्रष्टाचार की पोल

रायबरेली जिला अस्पताल में चल रहा कमीशन का खेल
रायबरेली जिला अस्पताल में चल रहा कमीशन का खेल

Raebareli News: शिकायती पत्र में उन्होंने लिखा है कि गरीब जनता का जिला अस्पताल में शोषण हो रहा है. चीफ फार्मासिस्ट ने इमरजेंसी में व्याप्त अनियमितताओं की शिकायत सीएमएस एनके श्रीवास्तव से की.

  • Share this:
रायबरेली. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के स्वास्थ्य महकमे में कोरोना काल में भी भ्रष्टाचारियों (Corruption) का बोलबाला कम होता नहीं नजर आ रहा है. ताजा मामला डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा के प्रभार वाले  जिले रायबरेली (Raebareli) का है. जिला अस्पताल (District Hospital) में तैनात चीफ फार्मासिस्ट (Chief Pharmacist) जीडी शुक्ला ने जिला अस्पताल की इमरजेंसी में चल रहे भ्रष्टाचार की पोल खोल दी है. कोरोना जैसी वैश्विक महामारी के बीच भी डॉक्टरों द्वारा बाहर की दवाएं व इंजेक्शन लिखे जाने से चीफ फार्मासिस्ट नाराज है.

इमरजेंसी ने खुद को हटाने की मांग

शिकायती पत्र में उन्होंने लिखा है कि गरीब जनता का जिला अस्पताल में शोषण हो रहा है. चीफ फार्मासिस्ट ने इमरजेंसी में व्याप्त अनियमितताओं की शिकायत सीएमएस एनके श्रीवास्तव से की. चीफ फार्मासिस्ट ने कहा है कि आलाधिकारियों कि मिलीभगत से भ्रष्टाचार का बड़ा खेल चल रहा है. उनका आरोप है कि कमीशन के चक्कर में डॉक्टर्स बाहर से दवाएं लिख रहे हैं. चीफ फार्मासिस्ट ने यह भी कहा है कि यह सब देखकर ऊब गया हूं. पत्र में कहा मुझे जिला अस्पताल की इमरजेंसी से हटा दिया जाए. पत्र वायरल होने के बाद स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप।मच गया है.



इतना है डॉक्टरों का कमीशन
चीफ फार्मासिस्ट के मुताबिक इस भ्रष्टाचार के खेल में जब मरीज इमरजेंसी दिखाने जाता है तो उसको बाहर से 290 रुपए का इंजेक्शन लिख दिया जाता है, जिसमें डॉक्टर का कमीशन डेढ़ सौ रुपए रहता है. वहीं सीटी स्कैन में भी 1000 रुपए के कमीशन के चक्कर में डॉक्टर अपनी आदत से मजबूर हैं और रोजाना 10 से 12 सिटी स्कैन लिखा करते हैं. इसी के चलते जिला अस्पताल के चीफ फार्मेसिस्ट जीडी शुक्ला ने आहत होकर एक पत्र मुख्य चिकित्सा अधीक्षक एनके श्रीवास्तव को लिखा तो स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया. वहीं जिला अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक एनके श्रीवास्तव से बात की गई तो उन्होंने बताया कि दो सदस्यीय टीम इस मामले में गठित कर दी गई है. जल्द ही जांच कराकर उचित कार्यवाई की जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज