लाइव टीवी

रायबरेली: कस्तूरबा आवासीय विद्यालय की वार्डन का वीडियो वायरल, छात्राओं से करवाती हैं हेड मसाज

News18 Uttar Pradesh
Updated: November 8, 2019, 2:06 PM IST
रायबरेली: कस्तूरबा आवासीय विद्यालय की वार्डन का वीडियो वायरल, छात्राओं से करवाती हैं हेड मसाज
रायबरेली के कस्तूरबा आवासीय विद्यालय की वार्डन की तानाशाही- बच्चियों से ले रहीं हेड मसाज

वायरल वीडियो में वार्डन छोटी- छोटी बच्चियों से हेड मसाज लेते नजर आ रही हैं. सिर्फ इतना ही नहीं इन बच्चियों से विद्यालय की धुलाई-सफाई से लेकर बड़े-बड़े बर्तन तक धुलवाए जा रहे हैं. इन छात्राओं ने उत्पीड़न की शिकायत तहसील दिवस पर जिले के आलाधिकारियों से भी की है जिसके बाद जांच कमिटी बनाई गई है...

  • Share this:
रायबरेली. जनपद के कस्तूरबा आवासीय विद्यालय (Kasturba Residential School) का एक सनसनीखेज वीडियो सामने आया है. इस वीडियो में कस्तूरबा आवासीय विद्यालय की वार्डन की तानाशाही साफ़ नजर आ रही है. यह वार्डन छोटी- छोटी बच्चियों से हेड मसाज लेते नजर आ रही हैं. सिर्फ इतना ही नहीं इन बच्चियों से विद्यालय की धुलाई-सफाई से लेकर बड़े-बड़े बर्तन तक धुलवाए जा रहे हैं. एक तरफ जहां मां-बाप अपनी बच्चियों को विद्यालयों में बड़े अरमान से पढ़ाई-लिखाई के लिए भेजते हैं वहां इन बच्चियों के साथ गुलामों सरीखा बर्ताव किया जा रहा है.

सोशल मीडिया पर हुआ वायरल
मामले ने सोशल मीडिया पर जब तूल पकड़ा तो जिला प्रशासन और शिक्षा विभाग हरकत में आया वहीं कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय की पीड़ित छात्राओं ने अपने उत्पीड़न की शिकायत किसी प्रकार से तहसील दिवस में पहुंच कर जिले के आलाधिकारियों से की जिसके बाद इस पूरे प्रकरण की जांच खंड शिक्षा अधिकारी जगतपुर को सौंप दी गई. एक तरफ प्रदेश सरकार शिक्षा के स्तर को सुधारने के बड़े-बड़े दावे करती है वहीं जिम्मेदारों की इस प्रकार की हरकतें हर सरकारी योजना में पलीता लगाते नजर आती है.

रायबरेली के कस्तूरबा आवासीय विद्यालय की छात्राओं से लिए जाते हैं सारे काम


सरकार की सख्ती का कोई असर नहीं
सरकार के सख्त निर्देशों के बावजूद इन विद्यालयों में तैनात कर्मचारी और शिक्षक अपनी मनमानी और तानाशाही से बाज नहीं आ रहे हैं. प्रदेश भर के विद्यालयों से इनके मनमानेपन की घटनाएं सामने आती रहती हैं. अभी कुछ समय पूर्व ही पश्चिमी उत्तर प्रदेश के एक कस्तूरबा आवासीय विद्यालय की छात्रा ने उत्पीड़न से तंग आकर आत्महत्या कर ली थी. कुछ समय पूर्व ही सीतापुर जनपद के कस्तूरबा आवासीय विद्यालय की वार्डन और एक अन्य पदाधिकारी की आपसी लड़ाई में विद्यालय की छात्राओं को बंधक बना लिया गया था. ऐसे न जाने कितने वाकये सामने आते हैं और कुछ समय बाद ही दब जाते हैं.


Loading...

रायबरेली के इस ताजा मामले की तस्वीरों में आप छात्रों को वार्डन के सर में तेल लगाते, बड़े-बड़े बर्तनों को धुलते हुए, साफ़-सफाई करते देख सकते हैं. इस मामले में तो वीडियो बन गया और सोशल मीडिया पर वायरल हो गया जिसके बाद जांच कमेटी बैठा दी गई लेकिन ऐसे न जाने कितने मामले इन आवासीय विद्यालयों के हैं जहां छात्राओं का उत्पीड़न जारी है.

कस्तूरबा आवासीय विद्यालय की छात्राओं से धुलवाए जाते हैं बड़े -बड़े बर्तन


प्रदेश भर के कस्तूरबा गांधी विद्यालयों में नियमानुसार अधिकारियों के अतिरिक्त किसी के भी प्रवेश पर रोक के चलते छात्राओं के शोषण के मामले अक्सर दब जाते हैं. लेकिन बीच-बीच में छात्राएं सोशल मीडिया पर अपने उत्पीड़न की कहानी बयां करती रहती रहती हैं. लेकिन ऐसे मामलों में कभी कोई ठोस कार्रवाई ना होने और जांच दब जाने के चलते जिम्मेदार शिक्षकों और वार्डन के हौसले लगातार बढ़ते जा रहे हैं. वायरल वीडियो के बारे में जब news 18 ने रायबरेली बीएसए पीएन सिंह से उनकी राय जाननी चाही तो उन्होंने वही रटा-रटाया जवाब दिया कि 'मामला उनके संज्ञान में है इसकी जांच कराई जा रही है. जांच रिपोर्ट आने के बाद दोषियों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी'. लेकिन सवाल यह है कि कब ?

ये भी पढ़ें - पड़ताल: DHFL घोटाले में गिरफ्तार हुए UPPCL के पूर्व MD एपी मिश्रा कैसे बने अरबपति मिश्रा?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रायबरेली से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 7, 2019, 1:02 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...