रायबरेली: सोनिया गांधी का जनता दरबार शुरू, राहुल भी हैं मौजूद

गौरतलब है कि डेढ़ दशक में पहला मौका है जब सोनिया गांधी सिर्फ एक सांसद के रूप में दो दिवसीय दौरे पर रायबरेली पहुंची हैं.

News18 Uttar Pradesh
Updated: April 18, 2018, 10:44 AM IST
रायबरेली: सोनिया गांधी का जनता दरबार शुरू, राहुल भी हैं मौजूद
रायबरेली में आईएमए भवन का उद्घाटन करती सोनिया गांधी
News18 Uttar Pradesh
Updated: April 18, 2018, 10:44 AM IST
रायबरेली दौरे के दूसरे दिन बुधवार को सोनिया गांधी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ भुएमऊ गेस्ट हाउस में जनता दरबार कार्यक्रम में लोगों की फैयद सुन रही हैं. बताते चलें रिटायरमेंट के कयासों के बीच सोनिया गांधी अपने संसदीय क्षेत्र पहुंची हैं. सोनिया गांधी कुछ ही देर में पासपोर्ट सेवा केंद्र का उद्घाटन भी करेंगी. इससे पहले सोनिया गांधी ने सांसद निधि से मोबाइल ट्रांसफार्मर का उद्घाटन किया. सोनिया ने अपने संसदीय क्षेत्र को चार ट्रांसफार्मर की सौगात दी है. इसके अलावा सांसद निधि से बनी पेयजल योजनाओं का भी सोनिया गांधी शिलान्यास करेंगी. 20 लाख की लागत से बनी सोलर पेयजल योजना का लोकार्पण होगा.

इससे पहले कांग्रेस विधायक अदिति सिंह भी सनिया गांधी से मिलने गेस्ट हाउस पहुंची थी, लेकिन एसपीजी ने उन्हें अंदर जाने से रोक दिया. जिसके बाद विधायक समर्थकों ने नाराजगी जताई. साक्षरता प्रेरकों का प्रतिनिधि मंडल भी राहुल और सोनिया से मिलने पहुंचा.

गौरतलब है कि डेढ़ दशक में पहला मौका है जब सोनिया गांधी सिर्फ एक सांसद के रूप में दो दिवसीय दौरे पर रायबरेली पहुंची हैं. अध्यक्ष पद छोड़ने के बाद सोनिया गांधी के दो दिवसीय दौरे के राजनैतिक पंडित कई मायने निकाल रहे हैं क्योंकि इस दरम्यान रायबरेली के जिला पंचायत अध्यक्ष अवधेश सिंह ने पार्टी छोड़ने का पत्र जारी कर दिया है. कांग्रेस एमएलसी दिनेश सिंह भी पार्टी से नाराज चल रहे हैं और उनके कांग्रेस छोड़ने की खबरे सोशल मीडिया में लगातार चल रही हैं. इतना ही नहीं राजनैतिक पंडित इस दौरे के बाद सोनिया गांधी को रायबरेली की राजनीति से रिटायर होने का संकेत भी मान रहे हैं.

ये देखने वाली बात होगी कि अगर ऐसा होता है तो सोनिया गांधी अपनी संसदीय विरासत किसे सौंपेंगीं. रायबरेली के कांग्रेसी यह मान रहे है कि प्रियंका गांधी वाड्रा संगठन की कमान संभाल रही हैं इसलिए आने वाले समय में सोनिया गांधी रायबरेली की कमान प्रियंका गांधी वाड्रा को सौंप सकती हैं.

21अप्रैल को अमित शाह भी पहुंच रहे हैं

इस बीच सोनिया गांधी के दौरे के ठीक बाद 21 अप्रैल को बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह भी रायबरेली पहुंच रहे हैं. दरअसल, बीजेपी गांधी परिवार को उसके ही गढ़ में ही घेरने की तैयारी में है. अमित शाह अपने दौरे में जहां गांधी परिवार को उसके गढ़ ललकारेंगे. यही नहीं इस दौरान अमित शाह गांधी परिवार के नजदीकी नेताओं को बीजेपी की सदस्यता भी दिलाएंगे.

यहां अमित शाह एक बड़ी जनसभा को संबोधित करेंगे. इस दौरान कांग्रेस को झटका देते हुए शाह एमएलसी दिनेश प्रताप सिंह और उनके जिला पंचायत अध्यक्ष भाई को बीजेपी में शामिल करने की औपचारिक घोषणा करेंगे.

अमेठी में एक तरफ विकास योजनाओं के शिलान्यास, उद्घाटन तो दूसरी तरफ तबातोड़ दौरों में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को घेर रही हैं. दूसरी तरफ अमित शाह कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी के इलाके में गांधी परिवार को घेरेंगे.

दरअसल बीजेपी की रणनीति है कि राहुल, सोनिया और प्रियंका को उनके ही गढ़ अमेठी, रायबरेली में ही कड़ी चुनौती दी जाए. ताकि इसका राजनीतिक लाभ उठाया जा सके साथ ही बाक़ी जगहों की तुलना में उन्हें यहां ज्यादा समय देना पड़े. इन दौरों का दबाव ही है कि राहुल और सोनिया को एक के बाद एक अमेठी रायबरेली के दौरे पर आना पड़ रहा है. सोनिया तो करीब डेढ़ साल बाद रायबरेली आ रही हैं.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर