एडमिशन टेस्ट देने गया था बच्चा, दो दिन बाद तालाब से मिली लाश

'मैंने रिसेप्शन पर स्कूल की दाई को अपना बच्चा सौंपा और काफी देर तक वह नहीं लौटा. तो मैंने टीचर और दाई से पूछा कि मेरा बेटा कहां है. उन्होंने आश्वासन दिया कि आपका बच्चा मिल जाएगा लेकिन घंटो तक मेरा बेटा वापस नहीं आया.'

Mohan Krishnan | News18Hindi
Updated: March 23, 2018, 7:36 PM IST
Mohan Krishnan | News18Hindi
Updated: March 23, 2018, 7:36 PM IST
यूपी के रायबरेली में दो दिन पहले स्कूल से गायब हुए बच्चे का शव तालाब में मिलने से सनसनी फैल गई. शव मिलने की खबर से स्थानीय लोगों में आक्रोश फैल गया और लोगों ने स्कूल में तोड़फोड़ शुरू कर दी. मौके पर पहुंचे पुलिस के आलाधिकारी और फॉरेंसिक टीम मामले की जांच में जुट गई है कि आखिर कैसे चार साल के नोमान अहमद का शव तालाब में पंहुच गया.

दरअसल सैय्यद नगर के मो. सगीर का चार साल का बेटा नोमान अपनी मां के साथ रायपुर स्थित अल्हम्द पब्लिक स्कूल में एडमिशन टेस्ट देने गया था और वहां से लापता हो गया. घरवालों ने मामले की सूचना पुलिस को दी. जिसके बाद पुलिस ने गुमशुदगी का मामला दर्ज कर बच्चे की खोजबीन शुरू कर दी. पुलिस की तलाश तब जाकर बंद हुई जब. शुक्रवार को बच्चे का शव मोहल्ले के तालाब में तैरता मिला.

वहीं मृतक नोमान की मां की कहना है कि 'मैंने रिसेप्शन पर स्कूल की दाई को अपना बच्चा सौंपा और काफी देर तक वह नहीं लौटा. तो मैंने टीचर और दाई से पूछा कि मेरा बेटा कहां है. उन्होंने आश्वासन दिया कि आपका बच्चा मिल जाएगा लेकिन घंटो तक मेरा बेटा वापस नहीं आया. उलटे स्कूल वाले मुझे उसकी कॉपी  दिखाने लगे, कि उसने अपनी कॉपी में यह लिखा है. मैंने फिर जोर दिया कि मेरा बेटा कहां है. तो टीचर बोली की वह आया के पास है आया बोल रही थी कि बच्चा टीचर के पास है. काफी देर तक स्कूल की टीचर और आया मुझे गुमराह करते रहे. दोनों यहीं कहते रहे कि आपका बच्चा मिल जाएगा.

अलहम्द स्कूल की मैनेजर की माने तो बच्चा स्कूल अपनी मां के साथ आया था और उसने एग्जाम दिया और उसके बाद वह कैसे लापता हो गया इसकी जानकारी नहीं है. लापता होने के बाद बच्चे के परिजनों ने पूरा स्कूल सर्च किया लेकिन बच्चा नहीं मिला. जिसके बाद पुलिस भी आयी लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला.

हालांकि पुलिस का कहना है कि जब बच्चे की लाश मिली तो उसके शरीर से खून निकल रहा था. पुलिस ने फिलहाल केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है. उनका कहना है कि जल्द ही दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

ये भी पढ़ें

राज्यसभा चुनाव 2018: नितिन अग्रवाल और अनिल सिंह के वोट पर SP-BSP की आपत्ति
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर