होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Sareni Assembly Seat: 2017 में 24 साल बाद खिला था कमल, क्या सीट बचा पाएगी बीजेपी?

Sareni Assembly Seat: 2017 में 24 साल बाद खिला था कमल, क्या सीट बचा पाएगी बीजेपी?

Sareni Assembly Seat: कांग्रेस के गढ़ में बीजेपी के सामने जीत का सिलसिला बनाए रखने की चुनौती

Sareni Assembly Seat: कांग्रेस के गढ़ में बीजेपी के सामने जीत का सिलसिला बनाए रखने की चुनौती

UP Assembly Elections: बीजेपी ने यहां से अपने सिटिंग विधायक धीरेंद्र बहादुर सिंह पर ही भरोसा जताया. उधर कांग्रेस ने बीज ...अधिक पढ़ें

    रायबरेली. यूपी के रायबरेली (Raebareli) जनपद की सरेनी विधानसभा सीट (Sareni Assembly Seat) कांग्रेस का गढ़ रही है. 2017 के विधानसभा चुनाव में 24 साल बाद इस  सीट पर कमल खिला था. 2022 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी के सामने इस सीट पर जीत का सिलसिला दोहराने की चुनौती है. बीजेपी ने यहां से अपने सिटिंग विधायक धीरेंद्र बहादुर सिंह पर ही भरोसा जताया. उधर कांग्रेस ने बीजेपी की बागी सुधा द्विवेदी को मैदान में उतारा है. इसके अलावा सपा ने पूर्व विधायक देवेंद्र प्रताप सिंह को टिकट दिया है. बहुजन समाज पार्टी ने 2017 के विधानसभा चुनाव में दूसरे नंबर पर रहे ठाकुर प्रसाद पर ही एक बार फिर दांव लगाया है.

    सरेनी विधानसभा सीट पर सामाजिक समीकरणों की बात करें तो सरेनी विधानसभा सीट पर 3,15,000 के आसपास मतदाता है. इसमें 1,73,000 के आस-पास पुरुष और करीब 1,45,000 महिलाएं वोटर हैं. सरेनी सीट भी रायबरेली लोकसभा का हिस्सा है. इस सीट के वोटर्स की भूमिका लोकसभा चुनाव में भी काफी अहम रहती है.

    अगर 2012 के विधानसभा चुनाव की बात करें तो समाजवादी पार्टी के देवेंद्र प्रताप सिंह ने इस सीट पर जीत हासिल की थी. देवेंद्र प्रताप सिंह ने बीएसपी के सुशील कुमार को 12919 मतों से पराजित किया था. इस चुनाव में कांग्रेस पार्टी तीसरे स्थान पर रही थी. वहीं भारतीय जनता पार्टी को पांचवां स्थान हासिल हुआ था.

    Tags: UP Assembly Election 2022, UP Chunav 2022

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें