OPINION: जानें PM मोदी ने क्यों चुना सोनिया गांधी का गढ़ रायबरेली

NAVEEN LAL SURI | News18Hindi
Updated: December 16, 2018, 2:18 PM IST

दरअसल, पार्टी हार से विचलित न होते हुए अपना पूरा फोकस उत्तर प्रदेश पर कर रही है जहां 2014 में उसे 71 सीटों पर जीत हासिल हुई थी. यही वजह है कि प्रधानमंत्री बनने के बाद पीएम नरेंद्र मोदी का रायबरेली दौरा राजनीतिक नजरिए से खास माना जा रहा हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 16, 2018, 2:18 PM IST
  • Share this:
यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी और उनसे पहले नेहरू-गांधी परिवार का राजनीतिक दुर्ग रहे रायबरेली का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मोदी का यह पहला दौरा है. पीएम मोदी के इस रायबरेली दौरे को लेकर सवाल उठता है कि आखिर उन्होंने सोनिया गांधी का संसदीय क्षेत्र ही क्यों चुना? इसे लेकर हमने वरिष्ठ पत्रकार और न्यूज18 यूपी के एग्जीक्यूटिव एडिटर अमिताभ अग्निहोत्री का कहना है कि बीजेपी की मंशा पहले से साफ है कि अमेठी और रायबरेली में गांधी परिवार को समेट कर रखा जाए.

अग्निहोत्री कहते हैं, 'बीजेपी के लिए मसला जीत-हार का नहीं है. उनकी रणनीति है कि इन दोनों संसदीय क्षेत्र में चुनाव के दौरान कड़ी टक्कर हो जाए, जिससे सोनिया और राहुल गांधी को अपनी सीट बचाने के लिए ज्यादा से ज्यादा वक्त यहीं देना पड़े.'

अमिताभ अग्निहोत्री कहते हैं कि केंद्र सरकार का पूरा फोकस रायबरेली और अमेठी पर रहा है. केंद्र सरकार की तमाम योजनाओं से लेकर मंत्री तक का जमावड़ा देखने को मिला. वहीं प्रदेश की योगी सरकार ने भी इन दोनों संसदीय क्षेत्र के विकास कार्यों पर ज्यादा दिलचस्पी दिखाई.

अग्निहोत्री ने कहा, 'पीएम मोदी का रायबरेली दौरा बीजेपी की चुनावी रणनिति का एक हिस्सा है, जिससे सोनिया और राहुल अपनी सीट बचाने के लिए इन दोनों सीट पर ज्यादा वक्त दे सकें. इससे उनको देश में दूसरी जगह प्रचार-प्रसार करने का वक्त कम मिल सकेगा. कुल मिलाकर बीजेपी की पूरी कोशिश दोनों नेताओं को घेरने की हैं.'

यूपी की 80 लोकसभा सीटों पर बीजेपी की नजर है. अमिताभ अग्निहोत्री ने बताया कि सपा-बसपा का गठबंधन 2019 के लोकसभा चुनाव में खासा असर डाल सकता है. वहीं बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के दिए गए बयान का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि पहले ही अमित शाह कह चुके हैं कि पूरे देश में हमें फर्क नहीं पड़ता. अगर सपा-बसपा एक हो गए तो हमारे लिए सबसे बड़ी चुनौती उत्तर प्रदेश होगी.

दरअसल, पार्टी हालिया विधानसभा चुनाव में हार से विचलित न होते हुए अपना पूरा फोकस उत्तर प्रदेश पर कर रही है, जहां 2014 में उसे 71 सीटों पर जीत हासिल हुई थी. यही वजह है कि प्रधानमंत्री बनने के बाद पीएम नरेंद्र मोदी का रायबरेली दौरा राजनीतिक नजरिए से खास माना जा रहा है.

अपने रायबरेली दौरे पर पीएम मोदी जहां मॉडर्न रेल कोच फैक्ट्री का लोकार्पण करेंगे, वहीं रायबरेली को लगभग 1100 करोड़ रुपये की सौगात देंगे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यहां एक जनसभा को संबोधित भी करेंगे. पार्टी सूत्रों की मानें तो देश की सियासत के लिहाज से रायबरेली सदस्यीय सीट हमेशा से ही महत्वपूर्ण रही है. गांधी परिवार की इस सीट को अपने खाते में करने का सपना बीजेपी और संघ का लंबे समय से रहा है.
Loading...

ये भी पढ़ें: उन्नाव: तेज रफ्तार सफारी और मारुति वैन में भिड़ंत, 4 की दर्दनाक मौत

बुलंदशहर हिंसा: UP पुलिस की बड़ी लापरवाही, वांटेड लिस्ट में लगा दिया बेगुनाह की तस्वीर

सुर्खियां: PM मोदी आज रायबरेली की विकास के लिए देंगे 1100 करोड़, अटल जी के नाम पर जारी होगा सिक्का

प्रयागराज: PM मोदी आज करेंगे 366 करोड़ की योजनाओं का लोकार्पण

मनोज सिन्हा ने राहुल पर साधा निशाना, कहा-राफेल पर जनता को कर रहे हैं गुमराह

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रायबरेली से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 16, 2018, 9:10 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...