लाइव टीवी

आजम खान को पत्नी और बेटे संग रामपुर से सीतापुर जेल में किया गया शिफ्ट
Rampur News in Hindi

News18 Uttar Pradesh
Updated: February 27, 2020, 7:40 AM IST
आजम खान को पत्नी और बेटे संग रामपुर से सीतापुर जेल में किया गया शिफ्ट
27 फरवरी को तड़के आजम खान और उनके परिवार को सीतापुर जेल शिफ्ट किया गया.

एसपी (Rampur SP) ने कोर्ट से गुहार लगाई थी कि रामपुर जेल में आजम (Azam Khan) और उनके परिवार को रखने पर कानून-व्यवस्था गड़बड़ा सकती है, लिहाजा उन्हें बरेली या किसी अन्य जेल में शिफ्ट किया जाए.

  • Share this:
रामपुर. गिरफ्तारी के बाद समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के सांसद आजम खान (Azam Khan), पत्नी तजीन फातमा और बेटे अब्दुल्ला आजम (Abdullah Azam) को एक रात रामपुर जेल में गुजारनी पड़ी. इसके बाद गुरुवार तड़के उन्‍हें सीतापुर जेल में शिफ्ट कर दिया गया. दरअसल, रामपुर के एसपी ने कोर्ट से गुहार लगाई थी कि रामपुर जेल में आजम और उनके परिवार को रखने पर कानून-व्यवस्था गड़बड़ा सकती है, लिहाजा उन्हें बरेली या किसी अन्य जेल शिफ्ट किया जाए. इसके बाद 27 फरवरी को तड़के कड़ी सुरक्षा के बीच उन्‍हें सीतापुर जेल शिफ्ट किया गया. सीतापुर के जेल अधीक्षक डीसी मिश्रा ने इस बात की पुष्टि की.

बता दें कि अब्दुल्ला आजम के दो जन्म प्रमाणपत्र के मामले में आजम खान ने अपनी पत्नी और बेटे के साथ जमानत की अर्जी दाखिल की थी. इस मामले में बुधवार को एडीजे-6 की कोर्ट में सुनवाई हुई. जहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में लेने का आदेश दिया गया था. इसके बाद सभी को गिरफ्तार कर कड़ी सुरक्षा के बीच रामपुर जेल ले जाया गया था. वहां आजम और उनके बेटे को बैरक नंबर-1 में रखा गया था. इस मामले में अगली सुनवाई 2 मार्च को होगी.

इससे पहले हुआ था कुर्की का आदेश
इससे पहले 25 फरवरी को निचली अदालत ने समाजवादी पार्टी के सांसद आजम खान, उनकी पत्नी डॉ. तजीन फातमा और बेटे अब्दुल्ला आजम की संपत्ति कुर्क करने के आदेश दिए थे. वहीं, 24 फरवरी को एडीजे-6 की कोर्ट ने आजम खान और उनके परिवार की अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी थी. बता दें कि अब्दुल्ला के खिलाफ दो जन्म प्रमाणपत्र, दो पासपोर्ट और दो पैन कार्ड बनवाने के मुकदमे दर्ज हैं. इनमें तीन मुकदमे बीजेपी नेता आकाश सक्सेना ने दर्ज कराए हैं. उनका आरोप है कि अब्दुल्ला आजम ने फर्जी तरीके से दो जन्म प्रमाणपत्र बनवा रखे हैं.



क्या है पूरा मामला?
मामले के मुताबिक, आजम खान और उनके परिवार ने अब्दुल्ला आजम का एक जन्म प्रमाणपत्र रामपुर नगरपालिका से बनवाया है, जिसमें उनकी जन्मतिथि 1 जनवरी 1993 दर्शाई गई है. दूसरा लखनऊ के अस्पताल से भी जन्म प्रमाणपत्र बनवा लिया, जिसमें उनकी जन्मतिथि 30 सितंबर 1990 है. बाद में पासपोर्ट और पैन कार्ड में उम्र ठीक कराने के लिए भी दूसरा पासपोर्ट और दूसरा पैन कार्ड बनवा लिया, जिसमें अब्दुल्ला की दूसरी जन्मतिथि है.

आजम खान और तजीन फात्मा का भी नाम
आकाश सक्सेना ने एक मुकदमा दो जन्मप्रमाण पत्र बनवाने का दर्ज कराया है. उसमें अब्दुल्ला के साथ ही आजम खान और उनकी पत्नी तजीन फात्मा को भी नामजद किया है. आरोप लगाया गया है कि अब्दुल्ला का जन्म प्रमाणपत्र बनवाने के लिए आजम और उनकी पत्नी ने जो शपथ पत्र दिया है, उसमें झूठ बोला गया है.

(इनपुट: विशाल सक्सेना)

ये भी पढ़ें:

सपा सांसद आजम खान के जेल जाने के पीछे इस बीजेपी नेता का रहा बड़ा हाथ

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रामपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 27, 2020, 7:18 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर