जब जवानों के सिर काटकर ले गए तब BJP ने समर्थन वापस क्यों नहीं लियाः आजम खान

बकौल आजम, आगामी लोकसभा चुनाव तक बीजेपी को साथ रहना चाहिए था, समर्थन वापसी का यह समय ठीक नहीं था.


Updated: June 20, 2018, 12:25 PM IST

Updated: June 20, 2018, 12:25 PM IST
सपा के वरिष्ठ नेता व पूर्व कैबिनेट मंत्री आजम खान ने कश्मीर में पीडीपी -भाजपा गठबंधन टूटने को अवसरवादिता करार देते हुए कहा है कि जब जवानों के सिर काट कर ले गए तब बीजेपी ने समर्थन वापस नहीं लिया.

गौरतलब है मंगलवार को बीजेपी ने जम्मू-कश्मीर सरकार से अपना समर्थन वापस लेने की घोषणा की थी, जिसके बाद जम्मू-कश्मीर सरकार गिर गई थी, जिसके बाद मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती को इस्तीफा देना पड़ा.

सपा नेता आजम खान के समधी पर कुकर्म का मुकदमा दर्ज

बकौल आजम, आगामी लोकसभा चुनाव तक बीजेपी को साथ रहना चाहिए था, समर्थन वापसी का यह समय ठीक नहीं था. भाजपाइयों ने तीन वर्ष तक कश्मीर में खूब मौज मनाई और अब जब लोकसभा चुनाव में कुल 6 महीने ही हैं, तो लोगों को ठगने के लिए उन्हें देशभक्ति की याद आ गई.

कश्मीर में सेना द्वारा पत्थरबाजों से निपटने के लिए पत्थरबाजों के ही साथियों को ही ढाल बनाए जाने के सवाल पर आज़म ने कहा कि केंद्र और राज्य में सरकार भाजपा की थी तो शिकायत किससे कर रहे है.

जल निगम भर्ती घोटाले में आरोपी पूर्व मंत्री आजम खान को गिरफ्तार नहीं करेगी SIT

वहीं, शहीद औरंगज़ेब के घर आर्मी चीफ के दौरे पर सवाल खड़ा करते हुए आजम ने कहा कि बार्डर पर रोज़ सैनिक मारे जाते है, लेकिन आर्मी चीफ चीफ तो क्या सेना का कोई छोटा अफसर भी उनके घर नहीं जाता है. आजम ने इसे बाकी शहीदों के लिए अपमान बताया है.

(रिपोर्ट-विशाल सक्सेना, रामपुर)
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर