रामपुर में क्यों है ‘सबको’ जान का खतरा

रामपुर डीएम कहते हैं कि तीन अफसरों ने पत्र लिखा है कि उनके दफ्तर और घरों की रेकी की जा रही है. उन्होंने इस संबंध में संदेह जताया है और एसपी व उन्हें एक कॉपी भेजी है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: May 17, 2019, 2:25 PM IST
रामपुर में क्यों है ‘सबको’ जान का खतरा
आजम खान (फाइल फोटो)
News18 Uttar Pradesh
Updated: May 17, 2019, 2:25 PM IST
लोकसभा चुनाव में रामपुर रणक्षेत्र बना हुआ है. यहां समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता और रामपुर से गठबंधन प्रत्याशी आजम खान और जिला प्रशासन के बीच रार थमने का नाम नहीं ले रही है. आलम ये है कि दोनों ही तरफ से एक-दूसरे पर जान से मारने के आरोप लगाए जा रहे हैं. दरअसल कुछ दिनों पहले एडीएम और सिटी मजिस्ट्रेट ने आजम खान से खुद की जान को खतरा बताते हुए पत्र लिखा. इसके बाद आजम खान ने भी जिला प्रशासन के अफसरों से अपनी जान को खतरा बता दिया. ताजा मामले में अब एसडीएम सदर की तरफ से एसपी को पत्र भेजा गया है और आजम खान से जान को खतरा बताया गया है. इस पत्र के आने के बाद मामले में अब आजम खान की पत्नी तंजीम फातिमा ने मोर्चा संभाल लिया है. उन्होंने जिला प्रशासन से अपने पति और बेटे की जान को खतरा बता दिया है.

बता दें पिछले दिनों एडीएम और सिटी मजिस्ट्रेट ने अपनी जान का खतरा बताते हुए प्रशासन को पत्र लिखा था. अब एसडीएम सदर को अपनी जान का खतरा है. एसडीएम सदर प्रेम प्रकाश तिवारी ने भी एसपी रामपुर पत्र लिखा है. इसमें उन्होंने अपनी और अपने परिवार की जान को आज़म खान से जान का खतरा बताया है.



मामले में एडीएम जेपी गुप्ता कहते हैं कि आजम खान ने जो आरोप लगाया है कि हम गुप्त मीटिंग कर रहे हैं और उन्हें मारने की साजिश रच रहे हैं, पूरी तरह से गलत है. हमने अपने घर के आसपास संदिग्ध लोगों को घूमते देखा है, इसलिए हमने एसपी को पत्र लिखा है.

उधर रामपुर डीएम कहते हैं कि तीन अफसरों ने पत्र लिखा है कि उनके दफ्तर और घरों की रेकी की जा रही है. उन्होंने इस संबंध में संदेह जताया है और एसपी व उन्हें एक कॉपी भेजी है. मामले की पूरी जांच की जा रही है और कार्रवाई की जाएगी. डीएम ने कहा कि ये अच्छा प्रदर्शन करने वाले अफसर हैं और ये मेरी ड्यूटी है कि ये आगे भी ऐसे ही काम करते रहें.

 



उधर अफसरों के पत्र आने के बाद आजम खान की पत्नी राज्यसभा सांसद तंजीम फातिमा ने कहा कि मैंने जिंदगी में ऐसा नही सुना. जो अधिकारी जनता की सुरक्षा के लिए भेजे जाते हैं, उन्हें आम आदमी से आज़म खान के समर्थकों से खतरा महसूस हो सकता है. उन्होंने कहा कि अगर वाकई उन्हें खतरा महसूस होता है तो उन्हें अपने पद पर रहने का कोई अधिकार नही है.

तंजीम फातिमा ने कहा कि प्रशासन के जरिये ज़िले को अराजकता के माहौल में झोंकने का काम किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन से उनके पति और बेटे की जान को खतरा है. जिला प्रशासन उनकी हर गतिविधि पर नजर रख रहा है. उनके घर और पार्टी कार्यालय के पास सीसीटीवी से निगरानी की जा रही है. उन्होंने आरोप लगाया कि 23 मई को मतगणना के दिन जिला प्रशासन गड़बड़ी कर सकता है.

ये भी पढ़ें:

आजम खान की पत्नी ने जताया पति और बेटे की जान को खतरा

आजम खान और जिला प्रशासन आमने-सामने, ADM ने SP से लगाई जान बचाने की गुहार

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsAppअपडेट्स
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

News18 चुनाव टूलबार

चुनाव टूलबार